Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    VIDEO: मालदीव से कोच्चि पहुंचा देश का पहला Seaplane, 31 अक्टूबर को भरेगा उड़ान

    अहमदाबाद में साबरमती रिवरफ्रंट और नर्मदा जिले में स्थित स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के बीच देश की पहली सीप्लेन सेवा शुरू की जाएगी (Photo- Twitter/@DefencePROkochi)
    अहमदाबाद में साबरमती रिवरफ्रंट और नर्मदा जिले में स्थित स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के बीच देश की पहली सीप्लेन सेवा शुरू की जाएगी (Photo- Twitter/@DefencePROkochi)

    Sea Plane: अहमदाबाद में साबरमती रिवरफ्रंट और नर्मदा (Narmada) जिले में स्थित स्टेच्यू ऑफ यूनिटी (Statue of Unity) के बीच देश की पहली सीप्लेन सेवा शुरू की जाएगी.

    • Share this:
    कोच्चि. गुजरात (Gujarat) में साबरमती रिवरफ्रंट (Sabarmati Riverfront) और सरदार वल्लभभाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) की स्टेच्यू ऑफ यूनिटी (Statue of Unity) के बीच अपनी तरह की पहली सेवा में उड़ान के लिए इस्तेमाल होने वाला 19 सीटर सीप्लेन (Seaplane) रविवार को मालदीव (Maldives) से यहां पहुंचा. समुद्र में भी चल सकने वाला विमान अहमदाबाद (Ahmedabad) जाने के रास्ते में यहां पहुंचा और वेंदुरुथी चैनल (Venduruthi Channel) में सुरक्षित उतरा. अहमदाबाद में साबरमती रिवरफ्रंट और नर्मदा (Narmada) जिले में स्थित स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के बीच देश की पहली सीप्लेन सेवा शुरू की जाएगी.

    केंद्रीय जहाजरानी मंत्री मनसुख मांडविया (Mansukh Mandaviya) ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि अगर सब कुछ योजना के मुताबिक हुआ तो सेवा की शुरुआत 31 अक्टूबर को की जा सकती है. स्पाइसजेट (Spicejet) कंपनी ने ट्विन ओटर 300 सीप्लेन को किराये पर लिया है जिसमें एक बार में 12 यात्री उड़ान भर सकेंगे. एक रक्षा प्रवक्ता ने कहा, ‘‘नौसेना की जैटी में सीप्लेन में आगे की यात्रा के लिए ईंधन भरा गया.’’ इस दौरान स्पाइसजेट, भारतीय नौसेना, कोचीन अंतरराष्ट्रीय विमानपत्तन लिमिटेड और जिला प्रशासन के प्रतिनिधि उपस्थित थे.


    दक्षिणी नौसैनिक कमान के कमांडिंग-इन-चीफ फ्लैग अधिकारी वाइस एडमिरल ए के चावला ने सीप्लेन के चालक दल के सदस्यों का अभिनंदन किया.



    ये भी पढ़ें- भारत का पहला Sea Plane 31 अक्टूबर को साबरमती रिवरफ्रंट से भरेगा उड़ान

    इसी जुलाई में मिली थी प्रस्ताव को मंजूरी
    गुजरात सरकार ने इस साल जुलाई में सीप्लेन सेवा के लिए क्षेत्रीय संपर्क योजना के तहत चार जल एयरोड्रमों के निर्माण के लिए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय और भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के साथ त्रिपक्षीय समझौते में एक प्रस्ताव को मंजूरी दी थी.

    ये भी पढ़ें- ADR की रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, भाजपा-कांग्रेस समेत सभी दलों ने उतारे आपराधिक छवि वाले 63 प्रत्‍याशी

    एक वॉटर एयरोड्रम या सीप्लेन बेस खुले पानी का एक ऐसा क्षेत्र होता है, जिसका उपयोग सीप्लेन, फ्लोट-प्लेन और एम्फीबियस विमानों द्वारा लैंडिंग और टेक ऑफ के लिये किया जाता है. अहमदाबाद में साबरमती रिवरफ्रंट, नर्मदा जिले के केवडिया में सरदार सरोवर बांध, भावनगर जिले के पालीताना में शतरुंजी बांध और मेहसाणा जिले के धौरी बांध में वाटर एयरोड्रम की योजना बनायी गयी थी.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज