लाइव टीवी

काशी महाकाल एक्सप्रेस में भोलेनाथ के लिए सीट रिजर्व, IRCTC ने कहा- सफलता के लिए ऐसा किया

News18Hindi
Updated: February 17, 2020, 6:00 PM IST
काशी महाकाल एक्सप्रेस में भोलेनाथ के लिए सीट रिजर्व, IRCTC ने कहा- सफलता के लिए ऐसा किया
काशी महाकाल एक्सप्रेस में भोलेनाथ के लिए सीटी रिजर्व

आईआरसीटीसी (IRCTC) ने बयान में कहा, 'काशी-महाकाल एक्सप्रेस के कर्मचारियों ने ऊपरी बर्थ पर अस्थायी रूप से भगवान शिव का फोटो रखा, ताकि नयी परियोजना की सफलता के लिए उनका आशीर्वाद लिया जा सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 17, 2020, 6:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आईआरसीटीसी (IRCTC) ने सोमवार को कहा कि काशी-महाकाल एक्सप्रेस (Kashi Mahakal Express) की उद्घाटन यात्रा के दौरान इसमें भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित की गई. ताकि इस नयी परियोजना की सफलता के लिए उनका आशीर्वाद लिया जा सके. हालांकि, इस कदम पर सवाल भी उठाये गए हैं.

IRCTC ने कहा- महाकाल के लिए 1 सीट बुक की गई थी
भारतीय रेलवे खान-पान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) ने एक बयान में कहा कि ट्रेन कर्मचारियों ने काशी-महाकाल एक्सप्रेस की उद्घाटन यात्रा के दौरान रविवार को पूजा करने के लिए ऊपर की एक सीट (अप्पर बर्थ) पर श्री महाकाल का फोटो कुछ समय के लिए रखा था. वहीं, एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने इस कदम पर सवाल उठाया और प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को टैग करते हुए संविधान की प्रस्तावना की एक तस्वीर ट्वीट की.

B-5 में सीट नंबर 64 बुक की गई थी



रेलवे ने तीन ज्योर्तिलिंगों (ओंकारेश्वर (इंदौर के पास स्थित), महाकालेश्वर (उज्जैन) और काशी विश्वनाथ/वाराणसी) को जोड़ने वाली ट्रेन के डिब्बे बी 5 में सीट नंबर 64 भगवान शिव के लिए आरक्षित की थी. ट्रेन का पहला वाणिज्यिक परिचालन 20 फरवरी को होना है.

आशीर्वाद लेने के लिए रखा था भगवान शिव की फोटो: IRCTC
आईआरसीटीसी ने बयान में कहा, 'नयी काशी-महाकाल एक्सप्रेस ट्रेन के कर्मचारियों ने ऊपरी बर्थ पर अस्थायी रूप से भगवान शिव का फोटो रखा, ताकि नयी परियोजना (नयी ट्रेन और नयी रैक) की सफलता के लिए उनका आशीर्वाद लिया जा सके. यह सिर्फ उद्घाटन परिचालन के लिए ही था.'

बयान में कहा गया है, 'उद्घाटन परिचालन यात्रियों के लिए नहीं था. 20 फरवरी 2020 से शुरू हो रही इस ट्रेन की वाणिज्यिक यात्रा के दौरान इस उद्देश्य के लिए इस तरह की कोई आरक्षित या समर्पित सीट नहीं रखी जाने वाली है.' भारतीय रेल की अनुषंगी, आईआरसीटीसी द्वारा संचालित यह तीसरी ट्रेन होगी. इस ट्रेन को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 फरवरी को वाराणसी जंक्शन पर हरी झंडी दिखा कर रवाना किया था.

काशी महाकाल एक्सप्रेस (Kashi Mahakal Express) ट्रेन की खासियत- IRCTC इस ट्रेन में यात्रियों के लिए वाई-फाई, सीसीटीवी कैमरा, कॉफी मशीन, एलसीडी स्क्रीन जैसी सुविधाएं देगी. IRCTC के मुताबिक काशी महाकाल एक्सप्रेस के हर यात्री को 10 लाख रुपये का यात्रा बीमा भी उपलब्ध होगा. इस काशी महाकाल एक्सप्रेस के लिए टिकट की बुकिंग केवल IRCTC वेबसाइट और इसके मोबाइल ऐप 'Irctc Rail Connect' के जरिए की जा सकेगी. ट्रेन में 120 दिनों का एडवांस रिजर्वेशन पीरियड होगा और केवल जनरल व फॉरेन टूरिस्ट कोटा रहेगा.

>> आईआरसीटीसी की यह पहली लंबी दूरी की ओवरनाइट जर्नी ट्रेन होगी, जिसमें यात्रियों को कई तरह की सुविधाएं मिलेंगी. ट्रेन में बेस्ट क्वालिटी वाला शाकाहारी भोजन, हाउसकीपिंग सर्विसेज, ऑनबोर्ड बेडरोल्स और ऑनबोर्ड सिक्योरिटी सर्विसेज शामिल हैं.

>> पहला रिजर्वेशन चार्ट तैयार हो जाने के बाद काशी महाकाल एक्सप्रेस के छूटने से 4 घंटे 5 मिनट पहले स्टेशन पर करंट बुकिंग उपलब्ध होगी. वेटिंग और कन्फर्म ई-टिकट दोनों के मामले में बुकिंग कैंसिल करने पर यात्रियों को पूरा किराया रिफंड हो जाएगा.

काशी महाकाल एक्सप्रेस (Kashi Mahakal Express)  ट्रेन का रूट- काशी महाकाल एक्सप्रेस (Kashi Mahakal Express ) तीन ज्योतिर्लिंगों को जोड़ती है. इनमें आंकारेश्वर (Omkareshwar) (इंदौर के करीब), महाकालेश्वर (Mahakaleshwar) (उज्जैन) और काशी विश्वनाथ (Kashi Vishwanath ) (वाराणसी) है. इसके अलाया से ट्रेन इंदौर से चलने के बाद उज्जैन, संत हिरदाराम नगर रेलवे (Bhopal), बीना, झांसी, कानपुर, लखनऊ, प्रयागराज और सुलतानपुर होते हुए गुजरेगी.

ये भी पढ़ें: अजमेर उर्स के लिए उत्तर पश्चिमी रेलवे चलाएगा 6 स्पेशल ट्रेनें, यहां देखें पूरा शेड्यूल

ये भी पढ़ें: तीसरी प्राइवेट ट्रेन काशी महाकाल एक्सप्रेस- कराएगी तीन ज्योतिर्लिंगों के दर्शन, जानिए रूट और किराए के बारे में....

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 5:50 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर