Corona की देसी दवाई 2 DG की अगली खेप 27 मई तक होगी रिलीज, जून से नियमित उत्पादन भी

2 DG दवा की अगली खेप मई के अंत तक आ जाएगी.

2 DG दवा की अगली खेप मई के अंत तक आ जाएगी.

कोरोना वायरस से बचने से भारतीय टीका कोवैक्सीन दुनिया के सबसे कामयाब टीकों में से एक बन चुका है, जो कोरोना की सैकड़ों स्ट्रेन पर असरकारी है. अब भारत में विकसित की गई कोरोना की दवाई 2DG भी लॉन्च हो चुकी है. इसे बनाने वाली संस्था DRDO ने बताया है कि मई के आखिर तक इसकी दूसरी खेप भी रिलीज हो जाएगी.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ देश की लड़ाई को और मजबूत करने वाली शुद्ध स्वदेशी एंटी कोरोना ड्रग 2 DG आज लॉन्च हो चुकी है. केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ DRDO के वैज्ञानिकों द्वारा बनाई 2-DG दवा को लॉन्‍च किया. इस दवा के पहले बैच में 10 हजार खुराक शामिल हैं. अब दवाई को विकसित करने वाली संस्था DRDO ने कहा है कि दवा का दूसरा बैच भी 10 दिन के बाद रिलीज कर दिया जाएगा. इसमें खुराक की संख्या सीमित होगी. हालांकि उन्होंने ये भी साफ किया है कि 2 DG दवा का नियमित उत्पादन जून के पहले हफ्ते से शुरू हो जाएगा और ये दवा देश के हर हिस्से में सभी मरीजों को मिल सकेगी. दवा की डिमांड को देखते हुए डीआरडीओ की ओर से 2 DG के 1 लाख सैशे बनाने की भी ट्रेनिंग दी जा रही है. आज दवा को लॉन्च करते हुए स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने स्पष्ट किया है कि जो मरीज ज्‍यादा गंभीर हैं उन्‍हें ये दवा नहीं दी जाएगी लेकिन जिनके अंदर कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है उन्‍हें ये दवा आज से देनी शुरू कर दी जाएगी.

कोरोना की स्वदेशी वैक्सीन के बाद शुद्ध देसी दवाई

DRDO के वैज्ञानिकों की रिसर्च और कड़ी मेहनत के बाद भारत ने कोरोना के खिलाफ ये दवा तैयार कर ली है, जिससे लोगों को राहत मिलने की पूरी उम्मीद है. DRDO के अधिकारियों ने बताया कि ये दवा मरीजों की जल्द रिकवरी में मदद करती है और उनकी ऑक्सीजन पर निर्भरता को भी काफी कम कर देती है. दवा निर्माता भविष्य में इसके उपयोग के लिए दवा के उत्पादन में तेजी लाने पर काम कर रहे हैं. दवा डॉक्टर अनंत नारायण भट्ट के साथ वैज्ञानिकों की एक टीम ने बनाई है.

Youtube Video

कोरोना की दवाई में क्या है?

इस दवा ने फेस 2 और फेस 3 के क्लिनिकल ट्रायल में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है. मई से अक्टूबर के बीच हुए ट्रायल में दवा ने कोविड मरीजों पर काम किया और ये सुरक्षित भी रही. दवा के उपयोग से अस्पताल में भर्ती के दिन भी कम रहे और ऑक्सीजन सपोर्ट भी नहीं लेना पड़ा. विशेषज्ञों का कहना है कि ये दवा एक तरह का सूडो ग्लूकोज मोलेकल है, जो कोरोना वायरस को बढ़ने से रोकता है. ये दवा दुनिया की उन चंद दवाओं में शुमार हो गई है, जो खास तौर पर कोविड को रोकने के लिए बनाई गई हैं.

दवा के आपात इस्तेमाल को मंजूरी



भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने 8 मई को डीआरडीओ द्वारा विकसित कोविड रोधी दवा के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. मुंह के जरिये ली जाने वाली इस दवा को कोरोना वायरस के मध्यम से गंभीर लक्षण मरीजों के इलाज में इस्तेमाल करने की अनुमति सहायक पद्धति के रूप में दी गई है. 2-DG दवा पाउडर के रूप में पैकेट में आती है, इसे पानी में घोल कर पीना होता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज