सितंबर के पहले सप्ताह में पूरा हो जाएगा दूसरा राष्ट्रीय सीरो सर्वे : ICMR

सितंबर के पहले सप्ताह में पूरा हो जाएगा दूसरा राष्ट्रीय सीरो सर्वे : ICMR
आईसीएमआर के मूुताबिक सीरो का दूसरे सर्वे सितंबर के पहले सप्ताह तक पूरा हो जाएगा. (सांकेतिक फोटो)

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के डायरेक्टर जनरल बलराम भार्गव (Balram Bhargav) ने बताया है कि कोरोना को लेकर दूसरा राष्ट्रीय सीरो सर्वे सितंबर के पहले सप्ताह में पूरा कर लिया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2020, 6:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में मेडिकल रिसर्च की अग्रणी संस्था ICMR के डायरेक्टर जनरल बलराम भार्गव (Balram Bhargav) ने कहा है कि दूसरा राष्ट्रीय सीरो सर्वे (National SERO Survey) सितंबर के पहले सप्ताह में पूरा कर लिया जाएगा. साथ ही उन्होंने जानकारी दी है कि पहली बार 24 घंटे के भीतर कोरोना के 6 हजार से कम एक्टिव केस आए हैं. भार्गव ने कोरोना वैक्सीन को लेकर भी जानकारी दी है.

वैक्सीन प्रोजेक्ट को लेकर जानकारी
भार्गव ने कहा है कि सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया की वैक्सीन का दूसरे और तीसरे चरण का ट्रायल चल रहा है. वहीं जाइडस कैडिला की वैक्सीन का दूसरे फेज का ट्रायल चल रहा है. भारत बायोटेक भी अपनी वैक्सीन के दूसरे चरण के ट्रायल में पहुंचने वाला है. कोरोना टेस्टिंग को लेकर उन्होंने कहा है
कि RTPCR टेस्ट की कीमतें कम की गई हैं.
दिल्ली को लेकर सीरो सर्वे ने बढ़ाई चिंता
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के मामलों पर नियंत्रण तो है लेकिन हालिया सीरो सर्वे में सामने आए एक तथ्य ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है. सीरो सर्वे के रिजल्ट्स में सामने आया है कि सर्वेक्षण के परिणामों के अनुसार इसमें शामिल होने वाले 5-17 वर्ष की आयु के 34.7 प्रतिशत लोगों में कोविड -19 के एंटीबॉडी थे, जबकि आंकड़ा 50 वर्ष से अधिक आयु वालों में 31.2 प्रतिशत और 18-49 वर्ष के लोगों में यह 28.5 प्रतिशत था.



बता दें सीरो के एक नए सर्वेक्षण में पाया गया है कि राष्ट्रीय राजधानी में 29.1 प्रतिशत लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ प्रतिरक्षा (एंटी बॉडीज) विकसित हो गए हैं. दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने यह जानकारी दी थी. जैन ने कहा था कि एक से सात अगस्त के बीच यहां 11 जिलों से 15,000 नमूने एकत्रित किए गए और अगली प्रक्रिया एक सितंबर से शुरू होगी. जैन ने कहा, ‘ इससे पहले के सर्वेक्षण में पाया गया था कि 22 प्रतिशत लोगों में एंटी बॉडीज विकसित हुए हैं. अब अगस्त में हुआ सर्वेक्षण दिखाता है कि यह आंकड़ा बढ़कर 29.1 प्रतिशत हो गया है, इसका तात्पर्य यह है कि लोग संक्रमित हुए और ठीक भी हो गए.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज