रेप-मर्डर केस में कभी भी देशद्रोह का मामला नहीं चलाया गया, चाहे बीजेपी की सरकार रही हो या हमारी- सिंघवी

हाथरस केस में सीबीआई जांच की मांग के बाद अभिषेक मनु सिंघवी ने सवाल उठाए हैं.
हाथरस केस में सीबीआई जांच की मांग के बाद अभिषेक मनु सिंघवी ने सवाल उठाए हैं.

Hathras Gangrape Case: बीजेपी पर निशाना साधते हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि, सत्ताधारी पार्टी हर जगह ही ये रूल अप्लाई कर देती है कि जहां 2 से 4 लोग इकट्ठा हों वहां पर धारा 144 लागू कर दी जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 10:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में एक दलित महिला के साथ हुए गैंगरेप (Hathras gangrape case) पर सियासत जारी है. राज्यसभा सदस्य अभिषेक मनु सिंघवी (Abhishek Singhvi) ने इस मामले पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा, 'इस केस के बाद जो कुछ हुआ वो बहुत ही अजीब है. घटना के कई दिन बाद तक कोई एक्शन नहीं लिया गया, जब तक पूरे देश में हंगामा नहीं हो गया.' सिंघवी ने कहा कि ये बहुत ही विचित्र है.

अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, 'हाथरस में घटना होने के बाद योगी आदित्यनाथ की बीजेपी सरकार ने आरोपियों की नहीं बल्कि पीड़ित परिवार की बंदी कर दी. दोषी खुलेआम घूमते रहे और पीड़ित परिवार एक दायरे में बंध गया.' उन्होंने कहा कि रेप-मर्डर केस में अगर कोई सहानुभूति दिखाता है, मीडिया के सामने बोलता है तो वो देशद्रोही हो जाता है. सिंघवी ने कहा, 'ऐसी घिनौनी चीजों पर अगर सरकार एक्शन नहीं लेती है तो वो देशद्रोह है. रेप या मर्डर में कभी भी देशद्रोह का मामला नहीं चलाया गया है, चाहे सत्ता बीजेपी की रही हो या कांग्रेस की.'






जहां 2 से 4 लोग पहुंचे धारा 144 लागू कर दो
बीजेपी पर निशाना साधते हुए सिंघवी ने कहा, "सत्ताधारी पार्टी हर जगह ही ये रूल अप्लाई कर देती है कि जहां 2 से 4 लोग इकट्ठा हों वहां पर धारा 144 लागू कर दी जाए.' हाथरस गैंगरेप केस में सीबीआई जांच पर प्रश्नचिह्न लगाते हुए सिंघवी ने कहा, 'देश, राजनीतिक मंच जानता है कि ऐसे मामलों में केंद्र का जो रंग होता है वहीं तीनों एजेंसियों का होता है. इसलिए सबसे ज्यादा आसानी से मामले से निकलने की प्रक्रिया होती है कि जांच सीबीआई को सौंपी जाए.'

सिंघवी ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि घड़ियाली आंसू बहाना बंद कर दीजिए. अगर, आप वाकई न्याय चाहते हैं तो हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट के सीटिंग जज जांच समिति गठित करने की बात कीजिए और उससे 2 महीने में रिपोर्ट की मांग कीजिए. दुनियाभर के लोगों को पकड़ने से अच्छा है दोषियों को पकड़िए और उन्हें सजा दीजिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज