लाइव टीवी

पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा- मोदी सरकार ने सावरकर को भारत रत्न दिया तो हम विरोध करेंगे

News18Hindi
Updated: January 19, 2020, 3:42 PM IST
पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा- मोदी सरकार ने सावरकर को भारत रत्न दिया तो हम विरोध करेंगे
कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता पृथ्‍वीराज चव्‍हाण ने कहा कि वीर सावरकर के अंग्रेजों से माफी मांगने की बात मिटाई नहीं जा सकती है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण (Prithviraj Chavan) ने कहा कि सावरकर (Vir Savarkar) के अंग्रेजों से माफी मांगने की बात मिटाई नहीं जा सकती है. ये एक तथ्‍य है. साथ ही कहा कि जटिल और विवादित व्यक्तित्व वाले सावरकर के बारे में अच्छी और खराब दोनों बातें थीं. कांग्रेस (Congress) के लोगों को जो बात खराब लगती है, वे उसके बारे में बात करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2020, 3:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्‍ट्र में कांग्रेस (Congress) और शिवसेना (Shiv Sena) के बीच वीर सावरकर (Vir Savarkar) को लेकर खींचतान के बाद देश की सबसे पुरानी पार्टी के वरिष्ठ नेता व महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण (Prithviraj Chavan) ने कहा कि उनके अंग्रेजों से माफी मांगने की बात मिटाई नहीं जा सकती है. ऐसे में अगर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Modi Government) ने सावरकर को भारत रत्न (Bharat Ratna) दिया तो हम विरोध करेंगे. साथ ही कहा कि जटिल और विवादित व्यक्तित्व वाले सावरकर के बारे में अच्छी और खराब दोनों बातें थीं. कांग्रेस के लोगों को जो बात खराब लगती है, वे उसके बारे में बात करेंगे. चव्हाण ने यह टिप्पणी ऐसे समय में की है, जब महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने वाली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के एक बयान और सेवादल की पुस्तिका को लेकर दोनों पार्टियों के बीच कड़वाहट पैदा हो गई थी.

शिवसेना संसद में उठा चुकी है सावरकर को भारत रत्‍न की मांग
राहुल गांधी (Rahul gandhi) ने रेप से जुड़ी एक टिप्पणी पर भाजपा के विरोध का हवाला देते हुए 14 दिसंबर को रामलीला मैदान की एक रैली में कहा था, 'मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं, राहुल गांधी है. मैं कभी माफी नहीं मांगने वाला हूं.' इसके बाद सेवादल की पुस्तिका में महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के हत्यारे नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) और सावरकर के कथित रिश्तों का जिक्र किया गया था. इस पर विवाद खड़ा हो गया था. इसको लेकर शिवसेना ने कड़ी आपत्ति जताई थी. बता दें कि शिवसेना संसद (Parliament) में कई बार यह मांग भी उठा चुकी है कि वीर सावरकर को भारत रत्न दिया जाना चाहिए.

सावरकर ने अंग्रेजों के साथ मिलकर काम किया, मिली थी पेंशन

सावरकर को लेकर कांग्रेस और शिवसेना के बीच बयानबाजी के बारे में पूछे जाने पर चव्हाण ने 'पीटीआई-भाषा' को दिए इंटरव्यू में कहा, 'सावरकर एक जटिल और विवादित व्यक्तित्व थे. उनके बारे में इतिहास की काफी जानकारी सामने आई है. वह जेल में थे, यह बात सही है. लेकिन यह भी सही है कि सावरकर ने माफी मांगी थी. वह एक तरह से अंग्रेजों के साथ मिलकर काम कर रहे थे जिसके चलते अंग्रेजों ने उन्हें 60 रुपये की पेंशन दी थी. उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि इतिहास के किसी भी व्यक्ति का ब्लैक एंड व्हाइट विश्लेषण नहीं हो सकता. किसी कांग्रेसी नेता से पूछिए तो हमारे दिल में यही बात है कि हमारे कई कार्यकर्ताओं ने जान की बाजी लगा दी थी और फांसी के फंदे को चूम लिया था.'

चव्‍हाण ने कहा- इतिहास में है सावरकर का महत्‍वपूर्ण योगदान
चव्हाण से जब यह पूछा गया कि क्या सावरकर को लेकर कांग्रेस के विचार शिवसेना से हाथ मिलाने से पहले वाले ही हैं तो उन्‍होंने कहा, 'ये विचार की बात नहीं है. यह तथ्य है. यह भी सही है कि सावरकर ने इतिहास लिखा था और 1857 के स्वतंत्रता संग्राम को उसमें जगह दी थी. इतिहास में उनका महत्वपूर्ण योगदान है. लेकिन, उनके माफीनामे की बात तो मिटाई नहीं जा सकती.'शिवसेना की सावरकर के लिए भारत रत्न की मांग पर उन्होंने कहा, 'अगर किसी की विचारधारा भाजपा से मेल खाती है तो केंद्र सरकार जिसे चाहे भारत रत्न दे सकती है. महात्मा गांधी की हत्या में सावरकर के शामिल होने का संदेह भी पैदा हुआ था. हालांकि, कोई अंतिम बात नहीं की गई थी. कपूर आयोग ने शक की सुई की बात कही थी.'

'महाराष्‍ट्र में लागू नहीं किए जाएंगे सीएए, एनपीआरए एनआरसी'
कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता चव्हाण ने कहा कि महाराष्ट्र में नागरिकता संशोधन कानून 2019 (CAA 2019), नेशनल रजिस्‍टर ऑफ सिटिजंस (NRC) और नेशनल पॉपुलेशन रजिस्‍टर (NPR) लागू नहीं किया जाएगा. यह पहली बार है कि भाजपा ने लक्ष्मण रेखा पार की है. संविधान के तहत कानून बनाते समय धर्म का उपयोग नहीं होता है. धर्मनिरपेक्ष देश में सबको समान अधिकार दिया जाता है. कानून में मुस्लिम समाज को अलग रखने का हम विरोध कर रहे हैं. समाज के दूसरे वर्गों के लोग भी इस आंदोलन में शामिल हैं. (भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें:-

राज्‍यपाल ने कहा- केरल सरकार को राज्‍य का पैसा याचिका पर खर्च करने का हक नहीं

निर्भया की मां आशा देवी ने कहा- लड़ना बंद नहीं करूंगी, मरूंगी भी तो लड़ते हुए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2020, 6:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर