लाइव टीवी

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीशों ने अयोध्या फैसले के लिए CJI रंजन गोगोई की प्रशंसा की

भाषा
Updated: November 11, 2019, 7:04 AM IST
सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीशों ने अयोध्या फैसले के लिए CJI रंजन गोगोई की प्रशंसा की
राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर फैसला सुनाने के लिए सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीशों ने प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की जमकर प्रशंसा की. (फाइल फोटो)

गुवाहाटी (Guwahati) में एक पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में देश के अगले नामित प्रधान न्यायाधीश एस. ए. बोबडे (Justice S. A. Bobde) ने कहा कि मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई (Chief Justice Ranjan Gogoi) का धैर्य, साहस और चरित्र इतना मजबूत है कि कुछ भी गलत हो पाना मुश्किल है.

  • Share this:
गुवाहाटी. सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीशों ने रविवार को प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद का सही ढंग से हल निकालने और अति संवेदनशील मुद्दे पर फैसला सुनाने के लिए जमकर प्रशंसा की. यहां एक पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में देश के अगले नामित प्रधान न्यायाधीश एस. ए. बोबडे ने कहा कि न्यायमूर्ति गोगोई का धैर्य, साहस और चरित्र इतना मजबूत है कि कुछ भी गलत हो पाना मुश्किल है.

फैसले पर टिप्पणी करने से CJI ने किया इनकार
शनिवार को सर्वसम्मत फैसले में सर्वोच्च न्यायालय ने अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ कर दिया और केंद्र सरकार को सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद बनाने के लिए पांच एकड़ का भूखंड आवंटित करने का निर्देश दिया. न्यायमूर्ति गोगोई ने हालांकि रविवार को कार्यक्रम में फैसले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा, ‘मैं किसी भी विवादास्पद मुद्दे पर बात नहीं करना चाहता. यह सही मौका नहीं है.’

लोकतंत्र सभी नागरिकों के कल्याण के लिए बनाया गया है

न्यायमूर्ति बोबडे ने कहा, ‘मैं स्वयं को न्यायमूर्ति गोगोई के साथ काम करने का अवसर मिलने के लिए सौभाग्यशली मानता हूं जिनका धैर्य, साहस और चरित्र इतना मजबूत है कि कुछ भी गलत होना मुश्किल है.’ उन्होंने कहा, ‘लोकतंत्र सभी नागरिकों के कल्याण के लिए बनाया गया है और एक स्वतंत्र न्यायपालिका इस उद्देश्य को पूरा करने वाले उपकरणों में से एक है.’  उच्चतम न्यायालय द्वारा प्रकाशित ‘कोर्ट्स ऑफ इंडिया: पास्ट टू प्रेजेंट’ के असमिया संस्करण के विमोचन के दौरान जस्टिस बोबडे ने कहा, ‘आज हम इसकी विरासत और उपलब्धि को स्वीकार करने और उसका जश्न मनाने के लिए यहां जुटे हैं.’

भारतीय न्यायिक इतिहास में यह अमिट रहेगा
एक अन्य वरिष्ठ न्यायाधीश अरूण मिश्रा ने कहा कि न्यायमूर्ति गोगोई ने देश के समक्ष मौजूद ‘सर्वाधिक महत्वपूर्ण अनिर्णय’ पर निर्णय दिया. न्यायमूर्ति श्रीपति रवीन्द्र भट ने कहा कि, ‘कल हमने इतिहास बनते देखा और मुझे विश्वास है कि भारतीय न्यायिक इतिहास में यह अमिट रहेगा’.
Loading...

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीशों ने रविवार को प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद का सही ढंग से हल निकालने और अति संवेदनशील मुद्दे पर फैसला सुनाने के लिए जमकर प्रशंसा की.

ये भी पढ़ें - 

हरियाणा मंत्रिमंडल विस्तार: 12 नवंबर को शपथ ले सकते हैं नए मंत्री

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर कांग्रेस में गतिविधियां तेज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 6:57 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...