SERO सर्वे: भुवनेश्वर की 50 फीसदी आबादी के भीतर कोरोना के खिलाफ एंटी-बॉडी

सीरो सर्वे में .यह बात कही गई है. (AP- इमेज)
सीरो सर्वे में .यह बात कही गई है. (AP- इमेज)

सीरो सर्वेक्षण (Sero-survey) में समुदाय के स्तर पर कोविड-19 (Covid-19) के प्रसार का आकलन करने के लिए नमूनों का संग्रह कर जांच की जाती है. एंटीबॉडी वायरस के खिलाफ लड़ने की क्षमता के संकेतक के तौर पर काम करता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 11:30 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. SERO सर्वे में खुलासा हुआ कि ओडिशा राजधानी भुवनेश्वर  (Bhubaneswar) में 50 फीसदी से ज्यादा लोगों में कोरोना के प्रति एंटी-बॉडी (antibodies) डेवलप हो चुकी है. इस आंकड़े के मुताबिक भुवनेश्वर के करीब 50 फीसदी लोगों को कोरोना संक्रमण हो चुका है. यह जानकारी रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर ने दी है.

उल्लेखनीय है कि सीरो सर्वेक्षण में समुदाय के स्तर पर कोविड-19 के प्रसार का आकलन करने के लिए नमूनों का संग्रह कर जांच की जाती है. एंटीबॉडी वायरस के खिलाफ लड़ने की क्षमता के संकेतक के तौर पर काम करता है.


क्या बोले एक्सपर्ट
भुवनेश्वर स्थित आरएमआरसी की निदेशक डॉ. संघमित्रा पति ने बताया, ‘भुवनेश्वर नगर निगम क्षेत्र के 25 वार्ड में यादृच्छ पद्धति से 1,403 नमूनों को एकत्र किया गया और उनकी जांच में पाया गया कि 50 प्रतिशत लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे और उनके शरीर में इससे लड़ने के लिए एंटीबॉडी विकसित हो चुकी है.’ उल्लेखनीय है कि आरएमआरसी भारतीय आयुर्विज्ञान अनुंसधान परिषद (आईसीएमआर) का स्थायी अनुसंधान केंद्र है.



शेष 50 प्रतिशत हिस्से को संक्रमण का खतरा
उन्होंने कहा, 'हालांकि, राज्य की राजधानी में रहने वाली 11 लाख आबादी के शेष 50 प्रतिशत हिस्से को संक्रमण का खतरा है और इसलिए ढील नहीं बरती जानी चाहिए। मास्क पहनने, हाथ धोने और सामाजिक दूरी सहित सभी कोविड-19 नियमों का अनुपालन किया जाना चाहिए.’

सीरो सर्वे और कोविड टेस्टिंग की बढ़ानी होगी रफ्तार
गौरतलब है कुछ दिनों पहले कोरोना को लेकर एक बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने निर्देश दिया था कि सीरो सर्वे और कोविड टेस्टिंग की रफ्तार और बढ़ाई जाए. उन्होंने कहा था कि आम लोगों के लिए हमें टेस्टिंग की सुविधा सुगम और सस्ती बनानी होगी. उन्होंने पारंपरिक मेडिसिन ट्रीटमेंट के लिए लगातार साइंटिफिक रिसर्च की जरूरत पर जोर दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज