Sputnik V Vaccine: सीरम ने स्पुतनिक-V वैक्सीन बनाने के लिए DCGI से मांगी परमिशन

फिलहाल भारत में स्पुतनिक  का निर्माण डॉक्टर रेड्डीज लेबोरेटरीज द्वारा किया जा रहा है.

फिलहाल भारत में स्पुतनिक का निर्माण डॉक्टर रेड्डीज लेबोरेटरीज द्वारा किया जा रहा है.

कोविड रोधी रूस की वैक्सीन स्पुतनिक V (Sputnik V) का नया वर्जन बताई जा रही इस वैक्सीन को मई में ही मंजूरी दी गई थी. उस समय आरडीआईएफ ने इसे दो खुराक वाली स्पुतनिक V से बेहतर करार दिया था.

  • Share this:

Covid Vaccination Latest Update: सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) आने वाले दिनों में रूस की वैक्सीन स्पुतनिक-V (Sputnik-V) का भी भारत में निर्माण कर सकती है. इसके लिए सीरम इंस्टीट्यूट ने ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से स्पुतनिक-V बनाने के लिए टेस्ट लाइसेंस की अनुमति मांगी है. ये जानकारी न्यूज एजेंसी एएनआई ने अपने सूत्रों से दी है.

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनिका के साथ मिलकर कोविशील्ड बनाने वाले सीरम इंस्टीट्यूट ने टेस्ट अनालिसिस और एग्जामिनेशन के लिए भी आवेदन किया है. स्पुतनिक वी को भारत के ड्रग कंट्रोलर द्वारा आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दी गई है. फिलहाल भारत में स्पुतनिक का निर्माण डॉक्टर रेड्डीज लेबोरेटरीज द्वारा किया जा रहा है.

जल्‍द आएगी एक और स्‍वदेशी कोरोना वैक्‍सीन, सरकार ने दिए 30 करोड़ डोज के ऑर्डर

रूस के टीके स्पुतनिक-V (Sputnik-V) को आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण प्रक्रिया के तहत 12 अप्रैल को भारत में रजिस्ट्रेशन किया गया था. इसका इस्तेमाल 14 मई से शुरू हुआ था. आरडीआईएफ और पैनेशिया बायोटेक स्पुतनिक वी की एक साल में 10 करोड़ खुराक का उत्पादन करने के लिए सहमत हुए हैं.
बुजुर्गों में करीब 83 फीसदी तक प्रभावी है ये वैक्सीन

सिंगल डोज वाली रूस की स्पुतनिक लाइट (Sputnik Light) कोविड वैक्सीन बुजुर्गों में करीब 83 फीसदी तक प्रभावी पाई गई है. ये आंकड़े अर्जेंटीना से इकट्ठा किए गए हैं. ब्यूनस आयर्स प्रांत के स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए इन आंकड़ों के मुताबिक स्पुतनिक लाइट बुजुर्गों में 78.6-83.7 फीसदी तक प्रभावी पाई गई है.

वैक्सीन बजट के 35000 करोड़ कहां खर्च किए? अंधेर वैक्सीन नीति, चौपट राजा: प्रियंका गांधी



रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) ने इस बारे में जानकारी दी है. कोविड रोधी रूस की वैक्सीन स्पुतनिक V (Sputnik V) का नया वर्जन बताई जा रही इस वैक्सीन को मई में ही मंजूरी दी गई थी. उस समय आरडीआईएफ ने इसे दो खुराक वाली स्पुतनिक V से बेहतर करार दिया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज