भारत में बनेगी ऑक्सफोर्ड फार्मूला की कोरोना वैक्‍सीन, अक्टूबर तक हो सकती है लॉन्चिंग

भारत में बनेगी ऑक्सफोर्ड फार्मूला की कोरोना वैक्‍सीन, अक्टूबर तक हो सकती है लॉन्चिंग
पुणे की एक कंपनी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोविड-19 वैक्सीन का निर्माण करेगी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पुणे (Pune) स्थित कंपनी ने वैक्सीन के निर्माण (Vaccine Production) के लिए दुनिया के सात इंस्टीट्यूट्स में से एक के तौर पर ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) के साथ पार्टनरशिप की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2020, 5:27 PM IST
  • Share this:
पुणे. वैक्सीन (Vaccine) बनाने की बड़ी कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) ने रविवार को कहा कि उसकी अगले दो से तीन हफ्तों में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) की बनाई कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) का उत्पादन शुरू करने की योजना है और उन्हें आशा है कि अगर इंसानों पर इसका परीक्षण सफल रहता है तो यह अक्टूबर तक बाजार में उपलब्ध होगी.

पुणे (Pune) स्थित कंपनी ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) के साथ इसका उत्पादन (Production) करने वाले दुनिया के सात में से एक इंस्टीट्यूट के तौर पर साझेदारी की है.

6 महीने बाद कोविड-19 वैक्सीन की डोज़ का उत्पादन 1 करोड़ डोज़ प्रतिमाह करने की आशा
सीरम इंस्टीट्यूट इंडिया (SII) के सीईओ अदर पूनावाला ने कहा, "हमारी टीम ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के डॉ हिल के साथ बारीकी से काम कर रही है, और हमें आशा है कि हम दो से तीन हफ्तों में वैक्सीन का प्रोडक्शन (Production of Vaccine) शुरू कर देंगे और अगले 6 महीनों तक हर महीने 50 लाख डोज़ का उत्पादन कर सकेंगे. जिसके बाद हम इसके उत्पादन को 1 करोड़ डोज़ प्रति माह बढ़ाने की आशा कर रहे हैं."
उन्होंने यह भी कहा कि इससे पहले SII ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों के साथ एक मलेरिया वैक्सीन प्रोजेक्ट (malaria vaccine project) पर भी साझेदारी की थी और हम कह सकते हैं कि उनके साथ दुनिया के कुछ सबसे बेहतरीन वैज्ञानिक हैं.



भारत में भी वैक्सीन के ट्रायल के लिए कोशिश कर रहा है SII
सीरम इंस्टीट्यूट इंडिया (SII) के सीईओ अदर पूनावाला ने कहा कि SII सितंबर-अक्टूबर में क्लीनिकल ट्रायल्स (Clinical Trails) की सफलता की आशा करते हुए वैक्सीन का निर्माण करेगा.

उन्होंने यह भी बताया कि कंपनी जरूरी नियामक स्वीकृतियों (regulatory approvals) के साथ भारत में वैक्सीन के ट्रायल्स की शुरुआत करने के बारे में विचार कर रही है, जिनका मामला अभी विचाराधीन है.

पूनावाला ने बताया कि कंपनी की पुणे यूनिट में ही वैक्सीन (Vaccine) का निर्माण किया जाएगा क्योंकि सिर्फ कोविड-19 वैक्सीन के लिए एक अलग केंद्र बनाने में 2 से 3 साल का वक्त लग सकता था.

यह भी पढ़ें: Corona warriors- डॉ. उमा ने बताया, मरीजों के इलाज में कैसे हुई हर मुश्किल आसान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज