• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • ऑक्सीजन प्‍लांट लगाएं, टीकाकरण की गति तेज करें: कोर्ट ने गुजरात सरकार से कहा

ऑक्सीजन प्‍लांट लगाएं, टीकाकरण की गति तेज करें: कोर्ट ने गुजरात सरकार से कहा

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी में राज्‍य सरकारें भी जुटी हुई हैं. ( प्रतीकात्‍मक फोटो )

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी में राज्‍य सरकारें भी जुटी हुई हैं. ( प्रतीकात्‍मक फोटो )

गुजरात उच्च न्यायालय (Gujarat High Court) ने कोरोना वायरस संक्रमण (Corona virus infection) की संभावित तीसरी लहर (Coronavirus Third Wave) से निपटने के लिए शुक्रवार को राज्य सरकार को सभी स्तरों पर पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करने, टीकाकरण अभियान ( Covid-19 vaccination campaign) में तेजी लाने और सरकारी अस्पतालों में चिकित्सा कर्मचारियों की भर्ती करने के निर्देश दिए. न्यायाधीश बेला त्रिवेदी एवं न्यायमूर्ति भार्गव डी कारिया की खंडपीठ ने ढेरों सुझाव देते हुए स्वत: संज्ञान जनहित याचिका तथा राज्य में कोविड-19 (COVID 19 ) के हालात से जुड़ी अन्य याचिकाओं का निपटारा कर दिया.

  • Share this:
    अहमदाबाद. गुजरात उच्च न्यायालय (Gujarat High Court)  ने कोरोना वायरस संक्रमण (Corona virus infection) की संभावित तीसरी लहर (Coronavirus Third Wave) से निपटने के लिए शुक्रवार को राज्य सरकार को सभी स्तरों पर पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करने, टीकाकरण अभियान ( Covid-19 vaccination campaign)  में तेजी लाने और सरकारी अस्पतालों में चिकित्सा कर्मचारियों की भर्ती करने के निर्देश दिए.  न्यायाधीश बेला त्रिवेदी एवं न्यायमूर्ति भार्गव डी कारिया की खंडपीठ ने ढेरों सुझाव देते हुए स्वत: संज्ञान जनहित याचिका तथा राज्य में कोविड-19 (COVID 19 )  के हालात से जुड़ी अन्य याचिकाओं का निपटारा कर दिया.

    पीठ ने जनहित याचिका और अन्य संबंधित मामलों की ऑनलाइन सुनवाई के दौरान निपटारा करते हुए अपने आदेश में कहा कि राज्य सरकार ने ‘‘तीसरी लहर से निपटने के लिए समग्र योजना’’ पहले ही तैयार कर ली है.  न्यायमूर्ति त्रिवेदी ने आदेश पढ़ते हुए कहा,‘‘ राज्य के अधिकारियों ने काफी कुछ कर लिया है लेकिन काफी कुछ किया जाना बाकी है. किसी भी प्रकार की तबाही से बचने के लिए अधिकारियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि लोग मास्क पहनने जैसे नियमों का पालन करें. लोगों को वायरस के नए स्वरूप और उसके लक्षणों, उपचार और अस्पतालों के ब्योरों आदि के बारे में जानकारी दीजिए.’’ पीठ ने राज्य सरकार से अतीत के अनुभवों के आधार पर जल्द ही सभी स्तरों पर पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करने को भी कहा.

    ये भी पढ़ें : कैसे खत्म हुआ अमरिंदर सिंह और नवजोत सिद्धू में महीनों से चला आ रहा कोल्ड वॉर? इनसाइड स्टोरी

    ये भी पढ़ें : Indian Railways: कालका-शिमला रूट पर फिर शुरू हुई 'हॉप-ऑन हॉप-ऑफ' सेवा, टूरिस्ट प्लेस का आनंद ले सकेंगे यात्री

    दिल्‍ली ने भी की है तीसरी लहर से निपटने की तैयारी 

    जानकारी के मुताबिक कोरोना की तीसरी‌ लहर से निपटने के लिये दिल्ली सरकार स्वास्थ्य सिस्टम को मजबूत करने में जुट गई है. दिल्ली सरकार की ओर से 5 नए अस्पताल तैयार किए जा रहे हैं. इनमें से दो अस्पताल ऐसे हैं जो कि पूरी तरीके से निर्माणाधीन है. वहीं, तीन अस्पतालों को रीमॉडलिंग की योजना के तहत तैयार किया जा रहा है. इन अस्पतालों के रीमॉडलिंग होने से बेड की संख्या में और ज्यादा इजाफा हो सकेगा.

    पश्चिम बंगाल में बदली रणनीति के तहत हो रही तैयारी 

    पश्चिम बंगाल (West Bengal) सरकार कोविड-19 की तीसरी संभावित लहर (Coronavirus) से निपटने की तैयारियों में जुटी हुई है. स्वास्थ्य सेवा के निदेशक अजय चक्रवर्ती ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा संचालित अस्पतालों और निजी अस्पतालों में 26,000 कोविड-19 बिस्तरों में लिंग अनुपात को बदलने की योजना बनायी जा रही है. उन्होंने कहा, ‘पश्चिम बंगाल में वर्तमान में कोविड-19 बिस्तरों के संबंध में पुरुषों के लिए लिंग अनुपात लगभग 60:40 है. हम पुरुष रोगियों के लिए बिस्तरों की संख्या को कम करके और महिलाओं के लिए बिस्तरों की संख्या बढ़ाकर इसे 40:60 करने की योजना बना रहे हैं.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज