Assembly Banner 2021

मुंबई में कई लैब्स कर रहीं कोविड रिपोर्ट से छेड़छाड़, राज्य सरकार ने दिए जांच के आदेश

मुंबई में कोरोना टेस्ट रिपोर्ट में की जा रही धांधली का भंडाफोड़ हुआ है. (सांकेतिक तस्वीर)

मुंबई में कोरोना टेस्ट रिपोर्ट में की जा रही धांधली का भंडाफोड़ हुआ है. (सांकेतिक तस्वीर)

Mumbai Coronavirus Cases: ये धांधली एक बुजुर्ग शख्स की शिकायत के बाद सामने आई. आरोपी की लैब में जांच कराने वाले पीड़ित की कोरोना रिपोर्ट नेगटिव आई थी फिर भी उनकी सेहत लगातार खराब बनी हुई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 10, 2021, 4:26 PM IST
  • Share this:
मुंबई. मुंबई समेत आस-पास के क्षेत्रों में एक बार फिर से कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है. वहीं इसी समय ही मुंबई की कई प्राइवेट लैब पर कोरोना मामलों के गलत नतीजे जारी करने का आरोप लगा है. आरोपों के मुताबिक इन लैब्स में पॉजिटिव रिपोर्ट को निगेटिव बताने का आरोप लगा है. स्वास्थ्य मंत्रालय को थायरोकेयर सहित कई दूसरे लैब के बारे में इस तरह की शिकायतें मिली हैं. वहीं विधान परिषद के नेता प्रतिपक्ष प्रवीण दरेकर ने आरोप लगाया है कि सरकार कोरोना के मामले को लेकर गंभीर नहीं है और लोग प्राइवेट लैब के जरिए रिपोर्ट के साथ छेडछाड़ कर रहे हैं जो कि बहुत ही गंभीर है.

कोविड की रिपोर्ट के साथ छेड़छाड़ करने वाली लैब्स को लेकर सरकार गंभीर है. स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री अमित देशमुख ने इस मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच के आदेश दिए हैं साथ ही उन्होंने कहा है कि इस मामले में दोषी पाए जाने वालों के ऊपर सख्त कार्रवाई की जाएगी. जिस तरीके से कोरोना को लेकर रिपोर्ट में गड़बड़ी की बातें सामने आ रही हैं इसके बाद सरकार के कोरोना वायरस से 100 प्रतिशत तक निपटने के दावों पर सवाल खड़ा हो गया है.

वहीं पुलिस ने मुंबई के शिवाजी नगर से अब्दुल शाजिद खान नाम के एक आरोपी को गिरफ्तार किया है जो कोरोना वायरस के नाम पर धांधली का कारोबार चला रहा था. शिवाजी नगर पुलिस आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 418, 465, 468, 470, 471, 500, 188 महामारी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर आगे की जांच में जुट गई.



ये भी पढ़ें- उत्तराखंड की कुर्सी पर बैठना इतना आसान भी नहीं, तीरथ की राह में होंगे 10 बड़े कांटे
ऐसे हो रहा था फर्जीवाड़ा
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी को गोवंडी इलाके से 5 मार्च को गिरफ्तार किया गया. ये शख्स लोगों को कोरोना की गलत रिपोर्ट देता था. ये धांधली एक बुजुर्ग शख्स की शिकायत के बाद सामने आई. आरोपी की लैब में जांच कराने वाले पीड़ित की कोरोना रिपोर्ट नेगटिव आई थी फिर भी उनकी सेहत लगातार खराब बनी हुई थी. जिसके बाद उन्हें शक हुआ और उन्होंने दूसरे प्राइवेट हॉस्पिटल में अपना कोरोना टेस्ट कराया. यहां वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए. पीड़ित ने इसकी जांच शुरू की और थायरोकेयर हेल्थ कंपनी से संपर्क किया तो उन्हें मालूम पड़ा की अब्दुल साजिद खान द्वारा बनाई गई रिपोर्ट फर्जी है.

साजिद ने अपने लैब में ही थायरोकेयर का स्टंप का इस्तेमाल कर फर्जी बारकोड की मदद से डुप्लीकेट रिपोर्ट तैयार कर दी थी. थायरोकेयर कंपनी के लीगल एडवाइजर एडवोकेट वीरदेव सर्वोदय ने इसकी शिकायत पुलिस को की, पुलिस ने अब्दुल साजिद खान के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया.



पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी को अदालत में पेश किया और कोर्ट ने आरोपी को पुलिस हिरासत में भेज दिया. पुलिस के अनुसार अब्दुल साजिद खान ने नामी हेल्थ कंपनी थायरोकेयर के नाम पर लॉकडाउन के समय से अपने लैब में दर्जनों कोरोना की फर्जी रिपोर्ट बनाकर, लोगों से काफी पैसा कमाया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज