लाइव टीवी

11 साल की बच्ची का 7 महीने तक किया था बलात्कार, 4 दोषियों को मौत तक जेल में रखे जाने की सजा

News18Hindi
Updated: February 3, 2020, 6:44 PM IST
11 साल की बच्ची का 7 महीने तक किया था बलात्कार, 4 दोषियों को मौत तक जेल में रखे जाने की सजा
तमिलनाडु की स्पेशल कोर्ट ने 11 साल की बच्ची से बलात्कार के मामले में 15 दोषियों को सजा सुनाई (न्यूज18 क्रिएटिव)

बाकी 11 दोषियों में से एक 48 साल के राजकुमार को उम्रकैद (Life Imprisonmen) की सजा सुनाई गई है. जबकि नौ दोषियो को पांच साल जेल की सजा सुनाई गई है. वहीं एक दोषी (Convicted) को सात साल जेल (Jail) की सजा सुनाई गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2020, 6:44 PM IST
  • Share this:
चेन्नई. एक स्पेशल कोर्ट (Special Court) ने सोमवार को चेन्नई (Chennai) में एक 11 साल की सुनने में असमर्थ (hearing-impaired) बच्ची से 7 महीने तक बलात्कार (Rape) करने के लिए 15 दोषियों को सजा सुनाई. विशेष अदालत ने यह फैसला दो साल पुराने एक मामले में सुनाया.

इस बलात्कार मामले (Rape Case) में सजा पाने वाले दोषियों में 25 साल से लेकर 66 साल की उम्र के लोग हैं. इन सभी को बाल यौन अपराध संरक्षण (POSCO) कानून के अंतर्गत दोषी पाया गया है.

4 दोषियों को उनकी मौत तक जेल
कोर्ट ने चार दोषियों रविशंकर (56), सुरेश (32), अभिषेक (28) और पलानी (40) को उनकी मौत तक जेल में रखे जाने की सजा दी है. अन्य 11 दोषियों में से एक राजकुमार (48) को उम्रकैद (Life Imprisonment) की सजा दी गई है, जबकि अन्य 9 दोषियों को 5 साल की जेल और 1 दोषी को 7 साल जेल की सजा सुनाई गई है.

पहले-पहल जब मामला (Case) दर्ज किया गया था तो 17 लोगों पर आरोप लगाए गए थे. हालांकि इनमें से एक बाबू (36 ) की मुकदमे के दौरान ही जेल में मौत हो गई थी और एक अन्य गुणशेखरन (55) को उसके खिलाफ सबूतों के अभाव में रिहा कर दिया गया था.

बच्ची ने बड़ी बहन को बताई आपबीती तो खुला मामला
यह मामला जुलाई, 2018 में सामने आया था, जब पीड़ित (Victim) बच्ची ने अपनी दर्दनाक कहानी अपनी बहन को सुनाई. उस दौरान उसकी बड़ी बहन छुट्टी पर उसके पास आई हुई थी.जिसके बाद बच्ची की बड़ी बहन ने पुलिस के पास जाकर 17 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराया था. ये सभी दोषी उस अपार्टमेंट (Apartment) में ही काम करते थे, जहां वह बच्ची रहती थी. इन लोगों ने जनवरी से जुलाई के दौरान सात महीने में कई बार बच्ची का रेप किया.

सॉफ्ट ड्रिंक में नशा मिलाकर करते थे बच्ची का यौन शोषण
सारे बलात्कारी मुख्यत: सिक्योरिटी गार्ड्स (Security Guards), प्लम्बर या कॉम्प्लैक्स के हाउसकीपिंग स्टाफ के तौर पर काम करते थे. वे बच्ची को सॉफ्ट ड्रिंक में नशा मिलाकर दे देते थे और इसके बाद उसका यौन शोषण करते थे.

सितंबर 2018 में आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 307 (हत्या का प्रयास) और 506 (ii) (आपराधिक धमकी) के साथ ही पॉक्सो कानून, 2012 के भाग 5 (आक्रामक यौन संबंध), 6 (आक्रामक यौन संबंध के लिए बल प्रयोग), 9 (आक्रामक यौन शोषण), 10 (आक्रामक यौन शोषण के लिए बल प्रयोग) और 12 (यौन शोषण) की धाराओं में मामला दर्ज किया गया था.

यह भी पढ़ें: दिल्ली: कार के बोनट पर फंसा ट्रैफिक पुलिसकर्मी, 2 किमी तक कार भगाता रहा चालक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 3, 2020, 6:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर