विदेश जा रहे पूर्व IAS शाह फैसल को एयरपोर्ट पर हिरासत में लिया, कश्मीर वापस भेजा, अब नजरबंद

जम्मू-कश्मीर पीपल्स मूवमेंट पार्टी के अध्यक्ष शाह फैसल (Shah Faesal) को बुधवार दिल्ली एयरपोर्ट (Delhi Airport) से हिरासत में ले लिया गया. फैसल विदेश जा रहे थे.

News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 4:39 PM IST
विदेश जा रहे पूर्व IAS शाह फैसल को एयरपोर्ट पर हिरासत में लिया, कश्मीर वापस भेजा, अब नजरबंद
दिल्ली एयरपोर्ट पर शाह फैसल को हिरासत में लिया
News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 4:39 PM IST
पूर्व आईएस अधिकारी और जम्मू-कश्मीर पीपल्स मूवमेंट पार्टी के अध्यक्ष शाह फैसल (Shah Faesal) को बुधवार को दिल्ली एयरपोर्ट (Delhi Airport) पर हिरासत में ले लिया गया. फैसल विदेश जाने के लिए दिल्ली से फ्लाइट लेने वाले थे, लेकिन इमिग्रेशन ऑफिसरों ने उन्हें पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) के तहत हिरासत में लेकर वापस कश्मीर भेज दिया है. इसके साथ कश्मीर में उन्हें घर में नजरबंद कर दिया गया है.

सूत्रों के मुताबिक शाह फैसल (Shah Faesal) इंस्ताबुल जा रहे थे. अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली एयरपोर्ट पर पीएसए के तहत उन्हें हिरासत में लिया गया. सूत्रों ने बताया कि शाह फैसल को हिरासत में लेने के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस से लेकर एयरपोर्ट अधिकारियों तक को आधिकारिक सूचना थी कि भारत से बाहर जाने का प्रयास करने पर उन्हें श्रीनगर वापस भेजा जाए.

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर(Jammu and Kashmir) से अनुच्छेद 370 हटाने जाने के बाद से ही शाह फैसल लगातार विवादित बयान दे रहे हैं. शाह ने बुधवार को कहा कि कश्मीर को लेकर हमारे पास दो रास्ते हैं. कश्मीर कठपुतली बने या फिर अलगाववादी. इसके अलावा कोई विकल्प नहीं है. इससे पहले फैसल ने कहा कि कश्मीर एक अभूतपूर्व लॉकडाउन का सामना कर रहा है और राज्य की पूरी 80 लाख की आबादी आज की तरह कभी कैद नहीं रही.

'जम्मू-कश्मीर को वापस मिले विशेष राज्य का दर्जा'

शाह फैसल ने ईद-उल-अजहा (बकरीद) के मौके पर भी विवादित बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि कश्मीर में ईद नहीं है. यहां के लोग गलत तरीके से भारत में शामिल होने से रो रहे हैं. हमारे यहां तब तक ईद नहीं होगी जब तक 1947 से मिला जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा हमें वापस नहीं मिल जाता.

‘कश्मीर में अभूतपूर्व भय’
शाह फैसल ने फेसबुक पर एक पोस्ट भी किया था. फैसल ने पोस्ट में लिखा- ‘कश्मीर में अभूतपूर्व भय. हर कोई टूट गया है. हर चेहरे पर हार की भावना स्पस्ट है. नागरिकों से लेकर विषयों तक. इतिहास ने हम सभी के लिए एक भयानक मोड़ लिया है. लोग स्तब्ध हैं. ऐसे लोग जिनकी जमीन, पहचान, इतिहास दिनदहाड़े छीन लिया गया’
Loading...

ये भी पढ़ें- टीएमसी, एनसीपी और CPI को चुनाव आयोग देगा अंतिम मौका!
First published: August 14, 2019, 3:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...