अकाली दल ने तोड़ी बीजेपी से 22 साल पुरानी दोस्ती, कृषि बिल के विरोध में NDA छोड़ा

शिरोमणि अकाली दल ने छोड़ा NDA का साथ, कृषि बिल को लेकर थी अनबन
शिरोमणि अकाली दल ने छोड़ा NDA का साथ, कृषि बिल को लेकर थी अनबन

Shiromani Akali Dal quits BJP led NDA: अकाली दल ने कहा, 'हमने एमएसपी पर किसानों की फसलों के सुनिश्चित विपणन की रक्षा के लिए वैधानिक विधायी गारंटी देने से मना करने पर बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन से अलग होने का फैसला किया. इसके साथ ही सिख और पंजाबी मुद्दों पर भी सरकार असंवेदनशील थी.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 26, 2020, 11:31 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल (Sukhbir Singh Badal) ने कृषि विधेयकों (Farm Bills) के विरोध में शनिवार रात को भाजपा (BJP) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) से अलग होने की घोषणा की. यहां पार्टी की कोर समिति की बैठक के बाद उन्होंने यह घोषणा की. सुखबीर ने कहा, 'शिरोमणि अकाली दल की निर्णय लेने वाली सर्वोच्च इकाई कोर समिति की आज रात हुई आपात बैठक में भाजपा नीत राजग से अगल होने का फैसला सर्वसम्मति से लिया गया.' इससे पहले राजग के दो अन्य प्रमुख सहयोगी दल शिवसेना और तेलगु देशम पार्टी भी अन्य मुद्दों पर गठबंधन से अलग हो चुके हैं.

अकाली दल ने कहा, 'हमने एमएसपी (MSP) पर किसानों की फसलों के सुनिश्चित विपणन की रक्षा के लिए वैधानिक विधायी गारंटी देने से मना करने पर बीजेपी (BJP) के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन से अलग होने का फैसला किया. इसके साथ ही सिख और पंजाबी मुद्दों पर भी सरकार असंवेदनशील थी.' अकाली दल और बीजेपी की दोस्‍ती 22 साल पुरानी थी.

इससे पहले  शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने शनिवार को मांग की कि पंजाब सरकार तत्काल एक अध्यादेश लेकर आए जिसमें पूरे राज्य को कृषि बाजार घोषित किया जाए ताकि केंद्र के कृषि विधेयकों को यहां लागू करने से रोका जा सके. शिअद ने एक वक्तव्य में कहा, 'अकाली फोबिया से दिनरात ग्रस्त रहने और अपने विरोधियों पर दुर्भावनापूर्ण आरोप लगाने में व्यस्त रहने के बजाए मुख्यमंत्री कैप्टन अमिरंदर सिंह किसानों की रक्षा के लिए कदम उठाएं.' बादल ने कहा, 'केंद्र के नए कानूनों को पंजाब में लागू करने का एकमात्र तरीका यह है कि पूरे राज्य को कृषि उत्पाद की मंडी घोषित कर दिया जाए.' उन्होंने कहा कि कोई भी इलाका जिसे मंडी घोषित किया गया है वह नए कानून के दायरे से बाहर है. उन्होंने कहा कि इससे 'बड़े कॉर्पोरेट शार्क' प्रदेश में प्रवेश नहीं कर पाएंगे.



संसद में कृषि विधेयक लाए जाने पर पद छोड़ने का फैसला कर लिया: हरसिमरत कौर
केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने के कुछ दिन बाद बठिंडा की सांसद हरसिमरत कौर बादल ने गुरुवार को कहा कि उन्होंने इसलिए त्यागपत्र दे दिया क्योंकि संसद में कृषि विधेयक लाए जाने के फैसले बाद उन्हें पद पर रहना 'शर्मनाक' लगा. पूर्व केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री ने दावा किया कि मसौदा कानून को जब उनके मंत्रालय के साथ साझा किया गया तो उन्होंने प्रतिकूल टिप्पणी की थी. शिरोमणि अकाली दल की नेता ने कहा, 'मैंने यह भी आग्रह किया था कि किसानों के साथ चर्चा पूरी होने तक विधेयकों को प्रवर समिति के पास भेजा दिया जाए. हालांकि, जब मुझे पता चला कि संसद में काला कानून पेश किया जा रहा है, तो मैंने त्यागपत्र देने का फैसला कर लिया.'

ये भी पढ़ें: पूरे पंजाब को कृषि मंडी घोषित किया जाए: सुखबीर बादल

ये भी पढ़ें: 5 बड़े राज्य पिछड़े तो मोदी सरकार ने दिए 1000 करोड़ रुपये

पार्टी के एक बयान के मुताबिक, 'मुझे अपने पद पर बने रहना शर्मनाक लगा, इसलिए तुरंत इसे छोड़ दिया और किसानों के साथ खड़ा होने का फैसला किया.' पूर्व केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि उन्होंने सरकार से कहा था कि विधेयक लाने से पहले किसानों को विश्वास में लेना चाहिए. उन्होंने दावा किया, 'मैं पिछले दो-ढाई महीने से लगातार प्रयास कर रही थी.' हरसिमरत ने कहा कि जब उनके आग्रह पर ध्यान नहीं दिया गया तो शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने संसद में इन विधेयकों का विरोध करने का फैसला किया.

हरसिमरत ने कहा कि वह इस्तीफा दे चुकी हैं अब वह विधेयकों के खिलाफ लड़ाई में किसानों के हाथ मजबूत करेंगी. शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि किसानों के कल्याण की तुलना में उनकी पार्टी के लिए किसी गठबंधन या सरकार का कोई महत्व नहीं है और उनकी पार्टी अन्नदाता के प्रति अपनी जिम्मेदारी को निभाएगी. सुखबीर ने कहा कि राजग सरकार द्वारा किसानों और शिअद की मांग के अनुसार न्यूनतम समर्थन मूल्य को वैधानिक अधिकार बनाने से इनकार करने के बाद पार्टी ने विधेयकों के खिलाफ मतदान करने का फैसला किया. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज