बुलंदशहर में साधुओं की हत्या पर शिवसेना बोली- इसे सांप्रदायिक रंग न दें, कांग्रेस ने की जांच की मांग

बुलंदशहर में साधुओं की हत्या पर शिवसेना बोली- इसे सांप्रदायिक रंग न दें, कांग्रेस ने की जांच की मांग
यूपी के बुलंदशहर में सोमवार की देर रात दो साधुओं की हत्या कर दी गई.

बुलंदशहर में साधुओं की हत्या के मामले में अब शिवसेनाऔर कांग्रेस भी उतर आई हैं और इसे सांप्रदायिक रंग नहीं देने की अपील की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2020, 2:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. यूपी के बुलंदशहर (Bulandshahr) में सोमवार की देर रात दो साधुओं (Two Saints) की हत्या (Murder) के मामले में अब शिवसेना (Shiv Sena) और कांग्रेस (Congress) भी उतर आई हैं और इसे सांप्रदायिक रंग नहीं देने की अपील की है. शिवसेना नेता संजय राउत ने इस पूरी घटना को भयानक बताया है.

हिंदी में किए गए अपने ट्वीट में संजय राउत ने लिखा, भयानक! बुलंदशहर, यूपी के एक मंदिर में दो साधुओं की हत्या, लेकिन मैं सभी से अपील करता हूं कि वे इसे सांप्रदायिक न बनाएं, जिस तरह से कुछ लोगों ने पालघर मामले में करने की कोशिश की.
गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले के अनूपशहर कोतवाली के गांव पगोना में स्थित शिव मंदिर में सोमवार रात दो साधुओं की हत्या कर दी गई. पुलिस ने बताया कि किसी तेज धारदार हथियार से उन पर वार किया गया था. पुलिस इस मामले में एक युवक को गिरफ्तार किया है. साधुओं की हत्या के आरोपियों ने पूछताछ में कहा कि भगवान की इच्छा थी, इसलिए डंडे से पीट-पीटकर दोनों साधुओं को मार डाला. बताया जाता है कि शिव मंदिर में पिछले करीब 10 वर्षों से साधु जगनदास (उम्र 55 वर्ष) और सेवादास (35 वर्ष) रहते थे. दोनों साधु मंदिर में रहकर पूजा-अर्चना में लीन रहते थे.मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस पूरी घटना को गंंभीरता से लेते हुए वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने और एक विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं.इस पूरी घटना पर दुख जताते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मांग की कि सच्चाई सामने आनी चाहिए और इस मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए.

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, 'अप्रैल के पहले 15 दिनों में ही उप्र में सौ लोगों की हत्या हो गई. तीन दिन पहले एटा में पचौरी परिवार के 5 लोगों के शव संदिग्ध परिस्थितियों में पाए गए. कोई नहीं जानता उनके साथ क्या हुआ. आज बुलंदशहर में एक मंदिर में सो रहे दो साधुओं को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया गया. ऐसे जघन्य अपराधों की गहराई से जांच होनी चाहिए और इस समय किसी को भी इस मामले का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए. निष्पक्ष जांच करके पूरा सच प्रदेश के समक्ष लाना चाहिए. यह सरकार की ज़िम्मेदारी है.'



इसे भी पढ़ें :- बुलंदशहर में साधुओं की हत्या, आरोपी बोला- भगवान की इच्छा थी, डंडे से पीट-पीटकर मार डाला
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading