नायडू के समर्थन में साथ आए BJP की सहयोगी शिवसेना के सांसद संजय राउत

विपक्षी नेताओं के गठजोड़ में बीजेपी की राज्य (महाराष्ट्र) में सहयोगी पार्टी शिव सेना के सांसद संजय राउत का शरीक होना कई सवाल खड़े करता है.

News18Hindi
Updated: February 11, 2019, 10:11 PM IST
नायडू के समर्थन में साथ आए BJP की सहयोगी शिवसेना के सांसद संजय राउत
(मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, दिग्गज कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह के साथ संजय राउत)
News18Hindi
Updated: February 11, 2019, 10:11 PM IST
आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर एक दिन के उपवास पर बैठे मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू को समर्थन देने के लिए कई विपक्षी दलों के नेता आंध्र भवन पहुंचे. यहां समर्थन देने पहुंचे नेताओं की लिस्ट में अब शिव सेना के सांसद संजय राउत का भी नाम शामिल हो गया है.

आंध्र भवन में जारी धरने के बीच शिवसेना के प्रतिनिधि बनकर पहुंचे संजय रावत ने भी चंद्रबाबू नायडू की मांग का समर्थन किया. चंद्रबाबू नायडू सुबह से ही धरने पर बैठे हैं. गौरतलब है कि केंद्र में शिवसेना बीजेपी की सहयोगी पार्टी है. संजय रावत के पहुंचने के कुछ देर पहले ही अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी की तुलना पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से की थी.

(यह भी पढ़ें: केजरीवाल बोले- विपक्षी सरकारों से पाकिस्तानी पीएम जैसा बर्ताव करते हैं मोदी)



बागी हैं शिवसेना के तेवर

विपक्षी नेताओं के गठजोड़ में बीजेपी की राज्य (महाराष्ट्र) में सहयोगी पार्टी शिव सेना के सांसद संजय राउत का शरीक होना कई सवाल खड़े करता है. यह पहली बार नहीं है जब शिव सेना ऐसे खुले तौर पर बीजेपी का विरोध कर रही है. इससे पहले भी शिवसेना बीजेपी को आंख दिखाती रही है.

ममता बनर्जी के धरने के वक्त भी संजय राउत ने ट्वीट कर अप्रत्यक्ष रूप से उन्हें समर्थन देते हुए कहा था, 'अगर एक बड़े राज्य के सीएम, पश्चिम बंगाल की सीएम धरने पर बैठी हैं, तो यह एक गंभीर मामला है. क्या यह सीबीआई बनाम ममता बनर्जी या ममता बनर्जी बनाम बीजेपी है, हम जल्द ही पता लगाएंगे. अगर सीबीआई का दुरुपयोग किया जा रहा है, तो यह राष्ट्र की गरिमा और एजेंसी (सीबीआई) की प्रतिष्ठा का मामला है.'

ये भी पढ़ें- चंद्रबाबू नायडू का पीएम मोदी पर पलटवार, 'गुरु की अनदेखी करने वाले से नैतिकता नहीं सीखूंगा'
Loading...

अरविंद केजरीवाल भी इस विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए थे. अरविंद केजरीवाल ने कहा, 'प्रधानमंत्री जी विपक्षी राज्य सरकारों के साथ ऐसे व्यवहार करते हैं जैसे वह हिंदुस्तान के नहीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री हों.'

बता दें कि चंद्रबाबू नायडू आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने और राज्य पुनर्गठन अधिनियम, 2014 के तहत केंद्र के किए गए वादों को पूरा करने की मांग को लेकर यह भूख हड़ताल कर रहे हैं.

(यह भी पढ़ें:  'आंध्र राइज़' की जगह 'सन राइज़' में जुट गए नायडू- पढ़ें गुंटूर रैली में पीएम मोदी के बड़े प्रहार)

नायडू की यह भूख हड़ताल सोमवार सुबह आठ बजे से लेकर रात आठ बजे तक आंध्र भवन में जारी रहेगा. इसके अगले दिन यानी मंगलवार 12 फरवरी को वो राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को एक ज्ञापन भी सौंपेंगे.

गौरतलब है कि एक वक्त एनडीए गठबंधन का हिस्सा रही टीडीपी ने इस मुद्दे पर पिछले साल (2018) में केंद्र सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था. नायडू वर्ष 2014 में हुए राज्य बंटवारे में आंध्र प्रदेश के साथ अन्याय होने की बात कहते रहे हैं.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...