राहुल के खाने पर येदियुरप्पा की टिप्पणी, शिवसेना बोली- दिख गई BJP की घबराहट

शिवसेना ने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान इस तरह के मुद्दों पर चर्चा करना बीजेपी की घबराहट और बीमार मानसिकता को दिखाता है.

भाषा
Updated: February 15, 2018, 8:29 PM IST
राहुल के खाने पर येदियुरप्पा की टिप्पणी, शिवसेना बोली- दिख गई BJP की घबराहट
कर्नाटक के हुलिगम्मा मंदिर में राहुल गांधी.
भाषा
Updated: February 15, 2018, 8:29 PM IST
कथित रूप से मांसाहार खाने के बाद मंदिर जाने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर कर्नाटक के बीजेपी प्रमुख बीएस येदियुरप्पा की टिप्पणी की थी. शिवसेना ने येदियुरप्पा की आलोचना करते हुए कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान इस तरह के मुद्दों पर चर्चा करना बीजेपी की घबराहट और बीमार मानसिकता को दिखाता है.

तीन दिन पहले येदियुरप्पा ने कर्नाटक के उत्तरी भाग में यात्रा के दौरान कथित तौर पर ‘जावेरी चिकन’ खाकर मंदिर जाने के लिए राहुल गांधी पर निशाना साधा था. शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में एक संपादकीय में कहा है, ‘कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात में बीजेपी परिवार की नींद उड़ा दी. ऐसा लग रहा है कि कर्नाटक (विधानसभा चुनाव) में यही होने वाला है. राहुल गांधी गुजरात में कई मंदिरों में गए थे और वहां पर पूजा अर्चना की.’

कांग्रेस हिंदुत्व अपनाने लगी तो बीजेपी का क्या होगा
सामना में कहा गया, उस समय बीजेपी ने उनकी तीखी आलोचना की क्योंकि वह चिंतित हो गये कि अगर कांग्रेस नेता हिंदुत्व को अपनाने लगे तो उनका क्या होगा. मुखपत्र में दावा किया गया कि कर्नाटक के आगामी चुनावों में कांग्रेस बीजेपी को उसी तरह घेरेगी जैसा उसने गुजरात चुनावों के पहले पिछले साल ‘नरम हिंदुत्व’ को अपनाकर किया.

उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी ने कहा है कि गुजरात की तरह राहुल गांधी राज्य में मंदिरों के साथ मस्जिद भी जा रहे हैं. इससे बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बी एस येदियुरप्पा खफा हैं जिन्होंने गांधी पर मांसाहार खाने के बाद मंदिर जाने का आरोप लगाया है.

राहुल गांधी से घबराती है बीजेपी
शिवसेना के मुताबिक, कांग्रेस ने तुरंत ही स्पष्टीकरण जारी करते हुए कहा था कि मंदिर जाने के पहले राहुल गांधी ने शाकाहारी भोजन किया था, ऐसे में यह पूरा प्रकरण यही दिखाता है कि चुनाव प्रचार कितने ‘निम्न’ स्तर को छू चुका है. शिवसेना ने कहा, ‘चुनाव प्रचार के दौरान ऐसे मुद्दों पर चर्चा करना बीमार मानसिकता का संकेत है.’

पार्टी ने कहा, ‘हर धार्मिक स्थान की अपनी रूढ़ी और परंपरा होती है. महाराष्ट्र में ऐसे मंदिर हैं जहां भगवान को मांसाहारी नैवैद्य चढ़ाया जाता है. चुनाव प्रचार में ऐसे मुद्दे उठाना बिगड़ी हुई मानसिकता को दिखाता है.’ पार्टी ने कहा कि केवल उन्हें ही पता है कि राहुल गांधी की थाली में वहां क्या था. लेकिन, हम आश्वस्त हैं कि इससे बीजेपी घबरा गयी है.

सामना में कहा गया, ‘पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी शाकाहारी थीं या मासांहारी? इस विवाद में पड़ने की बजाए उन्होंने पाकिस्तान के दो टुकड़े किये, यह महत्वपूर्ण है.’ इसमें कहा गया ‘शाकाहार तथा धर्मप्रेमी येदियुरप्पा ने अपने मुख्यमंत्री पद के कार्यकाल में सीमा क्षेत्र के मराठी भाषियों का खून बहाया सिर फोड़ा. यह हिंसाचार और तानाशाही मतलब, मांसाहार ही था.’

ये भी पढ़ें-
येदियुरप्पा बोले- 'कर्नाटक नंबर 1 भ्रष्ट राज्य', सिद्धारमैया ने याद दिलाया 'कन्नड़ स्वाभिमान'
येदियुरप्पा बोले- राहुल 'अवसरवादी हिंदू', कर्नाटक में BJP जीतेगी 150 सीटें


 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर