अपना शहर चुनें

States

शिवसेना ने भी किया किसानों के 'भारत बंद' का समर्थन, संजय राउत बोले- देश की जनता भी आए साथ

एमएसपी पर सरकार लिखित आश्‍वासन देने को सरकार तैयार है. (फोटो साभार-AP)
एमएसपी पर सरकार लिखित आश्‍वासन देने को सरकार तैयार है. (फोटो साभार-AP)

Farmer Protest: संजय राउत ने कहा, किसान अन्नदाता हैं, इसलिए उनके प्रति हमारी नैतिक जिम्मेदारी के नाते देश की जनता को भी किसानों के बंद में स्वेच्छा से हिस्सा लेना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 8, 2020, 2:48 PM IST
  • Share this:
मुंबई. देश की तमाम विपक्षी पार्टियों के बाद अब महाराष्ट्र (Maharastra) में सत्तारूढ़ शिवसेना (Shivsena) ने भी कृषि कानूनों (Farm Law) को निरस्त करने के लिए किसानों द्वारा 8 दिसंबर को बुलाए गए भारत बंद का समर्थन किया है. शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा कि देश के किसानों द्वारा पुकारे गए राष्ट्रव्यापी बंद को शिवसेना का समर्थन है.

संजय राउत ने ट्वीट किया, देश के किसानों द्वारा पुकारे गए राष्ट्रव्यापी बंद को शिवसेना का समर्थन! किसान अन्नदाता हैं, इसलिए उनके प्रति हमारी नैतिक जिम्मेदारी के नाते देश की जनता को भी किसानों के बंद में स्वेच्छा से हिस्सा लेना चाहिए.शिवसेना किसानों की मांगों और 8 दिसंबर के भारत बंद में उनके साथ है. जय हिंद!






विपक्षी पार्टियों ने किया किसानों का समर्थन
किसानों के भारत बंद और आंदोलन को विपक्षी के ज्यादातर दलों का समर्थन मिल रहा है. शिवसेना से पहले कांग्रेस, आप, टीआरएस समेत एनडीए से बाहर के ज्यादातर दल अपना समर्थन किसानों को दे चुके हैं. किसानों के समर्थन में रविवार को 11 दलों ने बयान भी जारी किया है. तमाम विपक्षी दल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, एनसी, आरजेडी, एनसीपी, डीएमके, एआईएफबी, आरएसपी, सीपीआई, सीपीआईएम, सीपीआईएमएल, पीएजीडी शामिल है. विपक्षी पार्टियों ने बयान जारी करते हुए कहा है कि वो किसानों के साथ खड़े हैं और संगठन को मजबूत करने के लिए भारत बंद का समर्थन करते हैं.

केंद्र सरकार से बातचीत रही बेनतीजा
सरकार और प्रदर्शनकारी किसानों के बीच शनिवार को पांचवें दौर की बातचीत भी बेनतीजा रही थी. इसके बाद केंद्र ने गतिरोध समाप्त करने के लिए नौ दिसंबर को एक और बैठक बुलाई है. किसान नेता बलदेव सिंह यादव ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘यह आंदोलन केवल पंजाब के किसानों का नहीं है, बल्कि पूरे देश का है. हम अपने आंदोलन को मजबूत करने जा रहे हैं और यह पहले ही पूरे देश में फैल चुका है.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज