होम /न्यूज /राष्ट्र /KCR की बेटी के चुनाव हारने के बाद समर्थक ने छोड़ा खाना-पीना, हुई मौत

KCR की बेटी के चुनाव हारने के बाद समर्थक ने छोड़ा खाना-पीना, हुई मौत

टीआरएस नेता ने पार्टी कार्यकर्ताओं और अपने समर्थकों से अपील की कि वे हार न मानें.

टीआरएस नेता ने पार्टी कार्यकर्ताओं और अपने समर्थकों से अपील की कि वे हार न मानें.

2014 में निजामाबाद से चुनी गईं कविता ने लोगों को भरोसा दिलाया कि वह उनके लिए काम करना जारी रखेंगी. बता दें कि कविता को ...अधिक पढ़ें

    टीआरएस नेताओं ने सोमवार को कहा कि लोकसभा चुनावों में तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की बेटी के. कविता की हार से निराश उनके एक समर्थक की सदमे से मौत हो गई. तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के कार्यकर्ता का नाम किशोर है, जिसकी शनिवार को कार्डियक अरेस्ट के कारण अपने गांव मंचिकप्पा में मौत हो गई.

    पार्टी नेताओं के अनुसार निजामाबाद लोकसभा सीट पर कविता की हार के बाद किशोर ने खाना और सोना छोड़ दिया था. कविता सोमवार को किशोर के घर पहुंची और परिवार वालों को हर तरह से सहयोग करने का वचन दिया.

    टीआरएस नेता ने पार्टी कार्यकर्ताओं और अपने समर्थकों से अपील की कि वे हार न मानें. उन्होंने हार और जीत को लोकतांत्रिक प्रक्रिया का हिस्सा बताया. पूर्व सांसद ने कहा कि कार्यकर्ता पार्टी की ताकत हैं और उन्हें साहस के साथ स्थिति का सामना करना चाहिए.

    पार्टी के लिए काम करती रहूंगी

    2014 में निजामाबाद से चुनी गईं कविता ने लोगों को भरोसा दिलाया कि वह उनके लिए काम करना जारी रखेंगी. बता दें कि कविता को बीजेपी उम्मीदवार डी. अरविंद ने 71 हजार वोटों से हराया था.

    पार्टी नेताओं ने रिकॉर्ड संख्या में कविता के खिलाफ उम्मीदवारों के खड़े होने को उनकी हार का कारण माना. गौरतलब है कि कविता के खिलाफ 178 किसानों समेत रिकॉर्ड संख्या में उम्मीदवार खड़े हुए थे. किसानों ने अपनी समस्याओं को चर्चा में लाने के लिए उनके खिलाफ पर्चा भरा था.

    इस सीट पर चुनाव आयोग को भी रिकॉर्ड संख्या में EVM का इस्तेमाल करना पड़ा, इस कारण भी यह सीट चर्चा में रही.

    ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव में हार के बाद TMC में 'गद्दारों' की खोज करेंगी ममता

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Election Result 2019, K Chandrashekhar Rao, Lok Sabha Election 2019, TRS

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें