J&K: आतंकी संगठनों में शामिल हुए 13 छात्र, जांच एजेंसियों के रडार पर शोपियां का स्कूल

रिपोर्ट में बताया गया है कि कई छात्र सुरक्षा बलों पर पथराव, आंदोलन और कानून व्यवस्था के हालात बिगाड़ने में संलिप्त पाये गये हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

Jammu-Kashmir: पिछले साल 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गये थे. इस मामले की जांच के दौरान खुफिया एजेंसियों को पता चला कि हमले में इस्तेमाल वाहन के मालिक भट ने शोपियां जिले के इसी धार्मिक शिक्षण संस्थान से स्कूल की पढ़ाई की थी.

  • Share this:
    शोपियां. दक्षिण कश्मीर (South Kashmir) में शोपियां जिले (Shopian District) के एक धार्मिक स्कूल (Religious School) के 13 छात्रों के आतंकी समूहों (Terrorist Groups) में शामिल होने का पता चलने के बाद यह स्कूल जांच एजेंसियों (Investigative Agencies) की पड़ताल के दायरे में आ गया है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. इसी संस्थान से सज्जाद भट (Sajjad Bhat) ने पढ़ाई की थी जो फरवरी 2019 में पुलवामा (Pulwama Attack में सीआरपीएफ (CRPF) के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में आरोपी था.

    अधिकारियों के मुताबिक इस स्कूल में पढ़ने वाले छात्र मुख्य रूप से दक्षिण कश्मीर के कुलगाम (Kulgam), पुलवामा (Pulwama) और अनंतनाग (Anantnag) जिलों से हैं. खुफिया एजेंसियां इन क्षेत्रों को आतंकवाद के लिहाज से संवेदनशील तथा अनेक आतंकी समूहों में स्थानीय लोगों की भर्ती के केंद्र मानती हैं. अधिकारियों ने कहा कि इस स्कूल में उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), केरल (Kerala) और तेलंगाना (Telangana) के बच्चे भी पढ़ते रहे हैं, लेकिन उनकी संख्या पिछले साल अनुच्छेद 370 (Article 370) समाप्त होने के बाद से लगभग नहीं के बराबर हो गयी है.

    ये भी पढ़ें- पाकिस्तान-मिडिल ईस्ट से किए गए योगी सरकार के खिलाफ नफरत फैलाने वाले ट्वीट

    ज्यादातर छात्र और शिक्षक शोपियां और पुलवामा के
    एक अधिकारी के मुताबिक स्कूल के अधिकतर छात्र और शिक्षक आतंक प्रभावित शोपियां और पुलवामा जिलों से आते हैं, इसलिए वहां आतंकवाद की विचारधारा पनप रही हो सकती है और इससे दूसरी जगहों से आये बच्चों पर भी असर होने की आशंका है.

    उन्हें कहा कि यह भी लगता है कि बाहर का माहौल, स्थानीय आबादी, आतंकवाद से संबंधित गतिविधियां तथा नियमित मुठभेड़ों में आतंकवादियों के मारे जाने से भी आतंकवाद की विचारधारा को बल मिलता है.

    इसी स्कूल का छात्र था इस साल मारा गया एक आतंकी
    पिछले साल 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गये थे. इस मामले की जांच के दौरान खुफिया एजेंसियों को पता चला कि हमले में इस्तेमाल वाहन के मालिक भट ने शोपियां जिले के इसी धार्मिक शिक्षण संस्थान से स्कूल की पढ़ाई की थी. इसके आतंकवाद में लिप्त रहे छात्रों की फेहरिस्त में ताजा नाम जुबैर नेंगरू का जुड़ा था. प्रतिबंधित अल-बद्र आतंकी संगठन का तथाकथित कमांडर नेंगरू इस साल अगस्त में मारा गया था और वह भी यहीं का छात्र था.

    ये भी पढ़ें- 23 राज्यों, 8 केंद्रशासित प्रदेशों ने सरकारी नौकरी के लिए खत्म किया इंटरव्यू

    एक आंतरिक रिपोर्ट के अनुसार ऐसे कम से कम 13 सूचीबद्ध आतंकी और सैकड़ों ओवर ग्राउंड वर्कर्स (ओजीडब्ल्यू) हैं जो या तो इस संस्थान के छात्र हैं या पहले इसमें पढ़ चुके हैं.

    13 आतंकियों में ज्यादातर शोपियां और पुलवामा के
    हाल ही में बारामूला का एक युवक लापता हो गया था जो छुट्टियां खत्म होने के बाद घर से स्कूल आ रहा था. बाद में पता चला कि वह आतंकी समूह का हिस्सा बन गया है. रिपोर्ट कहती है, ‘‘इन 13 आतंकवादियों में से ज्यादातर शोपियां और पुलवामा के निवासी हैं.’’ इस सूची में हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी नजीम नजीर डार और ऐजाज अहमद पॉल के भी नाम हैं. पॉल की चार अगस्त को शोपियां में एक मुठभेड़ में मौत हो गयी थी.

    अधिकारियों का मानना है कि इस तरह के संस्थान हिज्बुल मुजाहिदीन, जैश-ए-मोहम्मद, अल-बद्र और लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकी संगठनों में भर्ती के केंद्र हैं जहां मारे गये आतंकियों को नायक की तरह बताया जाता है.

    ये भी पढ़ें- गया में चुनावी जनसभा कर जेपी नड्डा बोले- PM मोदी ने बदली राजनीति की 'संस्कृति'

    समाज और दोस्तों से प्रभावित होकर उठाते हैं ऐसे कदम
    एक अधिकारी ने कहा, ‘‘ये कारक छात्रों के दिमाग में गहरी छाप छोड़ते हैं और समाज तथा दोस्तों से प्रभावित होकर वे आतंकवाद की तरफ आते हैं. कई मामलों में पता चला है कि इस तरह के धार्मिक संस्थानों की शिक्षा छात्रों को आतंकी समूहों में शामिल होने के लिए उकसा रही है.’’

    रिपोर्ट में बताया गया है कि कई छात्र सुरक्षा बलों पर पथराव, आंदोलन और कानून व्यवस्था के हालात बिगाड़ने में संलिप्त पाये गये हैं.

    इसमें कहा गया, ‘‘ये छात्र आतंकवादियों के कृत्यों को महिमामंडित करते हुए सरकार के खिलाफ नफरत तथा अलगाववाद की विचारधारा का संदेश प्रसारित कर सकते हैं.’’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.