श्रमिक ट्रेन को लेकर रेलवे की हिदायत-खुफिया एजेंसियों के संपर्क में रहें सभी जोन, मजदूरों के झगड़े रोकें

श्रमिक ट्रेन को लेकर रेलवे की हिदायत-खुफिया एजेंसियों के संपर्क में रहें सभी जोन, मजदूरों के झगड़े रोकें
1 मई से शुरू की गई 'श्रमिक स्पेशल ट्रेन'.

शुक्रवार से अभी तक करीब 60 ऐसी श्रमिक ट्रेनें (Shramik Trains) चलाई जा चुकी हैं, लेकिन रेलवे (Railways) ने इन ट्रेनों में सुरक्षा और स्वच्छता को लेकर अब दिशा-निर्देश (Guidelines) जारी किए हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने श्रमिक ट्रेनों (Shramik Trains) का संचालन कर रहे अपने विभिन्न मंडलों (Different Zones) को इन ट्रेनों में सवार यात्रियों के व्यवहार, विभिन्न समुदायों के बीच झगड़ों की आशंकाओं और किसी भी तरह की गड़बड़ी करने वालों पर पैनी नजर रखने के लिए कहा है. शुक्रवार से अब तक करीब 60 श्रमिक ट्रेनों (Shramik Trains) का संचालन कर चुके रेलवे (Railways) ने सुरक्षा और स्वच्छता (Security and Health) के संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किये हैं.

झगड़े की आशंकाओं का पता लगाने को खुफिया एजेंसियों से करीबी संपर्क बनाने को कहा
दिशा-निर्देशों में कहा गया है, 'सुरक्षाकर्मियों की मौजूदगी बढ़ाएं. पूर्व सुरक्षाकर्मियों, होम गार्डों (Home Guards) और निजी सुरक्षा कर्मियों की भर्ती करें. यात्रियों के विभिन्न समूहों के बीच झगड़ों की आशंकाओं का पता लगाने के लिए खुफिया एजेंसियों से करीबी संपर्क बनाए रखें. अगर ऐसी किसी भी संभावना की जानकारी मिले तो उपयुक्त सावधानियां बरती जाएं.'

पहली 34 ट्रेनें चलाने में रेलवे ने खर्च किए हैं 34 करोड़ रुपये
जबकि रेलवे ने आधिकारिक तौर पर इसे लेकर कोई बयान नहीं दिया है कि अब तक उसने अपनी सेवाओं पर कितना खर्च किया है, जिसके बारे में सरकार ने बताया है कि यह राज्य सरकारों के साथ 85:15 के अनुपात में खर्च वहन कर रही है. लेकिन अधिकारियों ने जानकारी दी है कि पहली 34 ट्रेनों को चलाने के लिए राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर (National Transporter) ने अब तक 34 करोड़ रुपये खर्च किए थे, जबकि राज्यों की ओर से इस पर 3.5 करोड़ रुपये खर्च हुए थे.



ट्रेनों में तरल साबुन और कम से कम सफाई स्टाफ रखने का निर्देश
दिशा-निर्देशों के अनुसार, 'यात्रियों के व्यवहार पर पैनी नजर रखी जाए और अगर कोई गड़बड़ी करता मिले तो उसे अलग कर दिया जाए. तनाव ज्यादा बढ़ने की सूरत में जितनी जल्दी हो सके पुलिस (Police) को सूचना दें.'

रेलवे ने ट्रेनों और स्टेशनों पर स्वच्छता को लेकर भी दिशा-निर्देश दिये है, जिनमें कहा गया है कि ट्रेनों में तरल साबुन (Liquid Soap) उपलब्ध कराया जाए. साथ ही शौचालयों की सफाई के स्टाफ को ट्रेन पर कम से कम रखा जाए.

यह भी पढ़ें:- भारत में बढ़ी कोरोना वायरस की रफ्तार, एक दिन में 195 की मौत और 3900 केस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज