कांग्रेस नेता सिद्धारमैया बोले- फिर बनूंगा कर्नाटक का सीएम

कांग्रेस नेता सिद्धारमैया बोले- फिर बनूंगा कर्नाटक का सीएम
कांग्रेस नेता सिद्धारमैया की फाइल फोटो- Getty Images

एचडी कुमारस्वामी ने 23 मई को कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. इससे पहले राज्य में बीजेपी ने सरकार बनाई थी, लेकिन फ्लोर टेस्ट में असफल रहने के कारण बीएस येदियुरप्पा को इस्तीफा देना पड़ा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2018, 8:57 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने गुरुवार को कहा कि जनता के आशीर्वाद से वह फिर से राज्य के सीएम बनेंगे. हासन में एक सभा को संबोधित करते हुए सिद्धारमैया ने दावा किया कि विपक्ष ने एकजुट होकर उन्हें सीएम बनने से रोक दिया. उन्होंने कहा कि राजनीति में जाति और पैसे का बोलबाला हो गया है.

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक सिद्धारमैया ने कहा, 'मैने सोचा कि जनता मुझे फिर से आशीर्वाद देकर सीएम बनाएगी. दुर्भाग्यवश ऐसा नहीं हुआ. हालांकि यह अंत नहीं है. राजनीति में हार और जीत सामान्य बात है.'

एचडी कुमारस्वामी ने 23 मई को कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. इससे पहले राज्य में बीजेपी ने सरकार बनाई थी, लेकिन फ्लोर टेस्ट में असफल रहने के कारण बीएस येदियुरप्पा को इस्तीफा देना पड़ा था.



यह भी पढ़ें: कर्नाटक CM के भाई और PWD मंत्री ने बाढ़ पीडि़तों की तरफ बिस्किट फेंके, बेटे ने मांगी माफी



कांग्रेस-जेडी (एस) सरकार बनने के बाद से ही दोनों दलों की आपसी स्थिति सही नहीं बताई जा रही है.


इससे पहले जुलाई में एक सभा के दौरान एक कुमारस्वामी ने कहा था कि वह 'गठबंधन की सरकार' का दर्द झेल रहे हैं. उन्होंने कहा, 'आप मुझे शुभकामनाएं देने के लिए गुलदस्ते लेकर आए हैं. आपका एक भाई सीएम हो गया है, इसलिए आप सभी खुश हैं, लेकिन मैं नहीं. मैं गठबंधन सरकार के दर्द को जानता हूं. मैं विषकांत हो गया हूं और इस सरकार का विष पी रहा हूं.'

कुमारस्वामी ने कहा था, 'ईश्वर ने मुझे सीएम बनाया है. वही तय करेंगे कि मुझे कितने दिन इस पद पर रहना है.'  अक्सर कई मुद्दों पर दोनों दलों का अलग-अलग रुख सामने आता है. कांग्रेस-जेडीएस सरकार के पहले बजट में वित्त विभाग का भी प्रभार संभाल रहे कुमारस्वामी ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में प्रति लीटर क्रमश: 1.14 रुपये और 1.12 रुपये की बढ़ोतरी का प्रस्ताव रखा था.

यह भी पढ़ें:  Video: कर्नाटक में भी बारिश का कहर! कोडगू में रेत की तरह ढह गए दो घर

किसानों की कर्ज माफी की घोषणा के बाद संसाधन जुटाने के प्रयासों के तहत सरकार ने यह प्रस्ताव किया था. किसानों की कर्ज माफी से राज्य सरकार के खजाने पर 34,000 करोड़ रुपये का भार पड़ेगा.


इस फैसले के बाद सिद्धारमैया ने एक चिट्ठी के जरिए विरोध दर्ज कराया था. सिद्धारमैया ने कुमारस्वामी को लिखी एक चिट्ठी में कहा था कि सीएम को 34,000 करोड़ रुपए के कृषि ऋण माफी के लिए फंड इकट्ठा करने के लिए चावल की मात्रा प्रति व्यक्ति 7 किलो से 5 किलो नहीं करनी चाहिए. सिद्धारमैया अपनी सरकार की योजना अन्नभाग्य पर काफी गर्व करते हैं, जिससे राज्य के 3 करोड़ लोगों को लाभ हुआ.

यह भी पढ़ें: सूखे से जूझ रहा है आधा कर्नाटक, 10 जिलों में हालात खराब
First published: August 25, 2018, 8:33 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading