होम /न्यूज /राष्ट्र /Elections Result: उत्तर प्रदेश में भाजपा की बड़ी जीत के पीछे 'मौन' महिला मतदाताओं का हाथ

Elections Result: उत्तर प्रदेश में भाजपा की बड़ी जीत के पीछे 'मौन' महिला मतदाताओं का हाथ

पूर्वांचल के गांवों में स्कूलों से छुट्टी के बाद साइकिल से घर लौटती लड़कियां.

पूर्वांचल के गांवों में स्कूलों से छुट्टी के बाद साइकिल से घर लौटती लड़कियां.

UP Elections Result: सपा ने अपने घोषणा पत्र में घोषणा की कि वह सत्ता में आने पर अगले पांच वर्षों के लिए मुफ्त राशन भी प ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की ऐतिहासिक दूसरे कार्यकाल की बड़ी जीत के पीछे, वह महिला मतदाता है जो पिछले दो वर्षों से दिए गए मुफ्त राशन और बेहतर कानून व्यवस्था को लेकर पार्टी के पीछे एकजुट हो गई है. उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में भाजपा गठबंधन लगातार दूसरी बार सरकार बनाने जा रही है और यह कारनामा पिछले 37 वर्षों में कोई भी सरकार हासिल नहीं कर पाई है.

“मौन महिला मतदाता” के साथ उच्च महिला प्रतिशत मतदान ने जाति और सामाजिक रेखाओं से ऊपर उठकर उस पार्टी को वोट दिया, जिसने उन्हें राशन भेजा और यह सुनिश्चित किया कि राज्य में महिलाएं बिना किसी डर के रात में बाहर रह सकें. यहां तक कि समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव द्वारा किया गया मुफ्त बिजली का वादा भी महिला मतदाताओं को सपा खेमे में नहीं ले जा सका.

सपा के काम नहीं आई मुफ्त राशन की घोषणा
वास्तव में, अपने चुनावी अभियान के दौरान यह महसूस करते हुए कि मुफ्त राशन का कदम भाजपा के लिए जमीन पर जादू कर रहा था, सपा ने अपने घोषणा पत्र में घोषणा की कि वह सत्ता में आने पर अगले पांच वर्षों के लिए मुफ्त राशन भी प्रदान करेगी. वहीं सपा महिला मतदाताओं को याद दिलाती रही कि बीजेपी की मुफ्त राशन योजना मार्च में खत्म हो जाएगी.

आपके शहर से (लखनऊ)

‘मोदी-योगी ने भूखे नहीं मरने दिया’
हालांकि, महिलाओं को समाजवादी पार्टी की यह घोषणा रास नहीं आई. न्यूज़18 ने चुनावी अभियान के दौरान जिस गांव-गांव का दौरा किया, वहां की महिलाओं ने मोदी-योगी चेहरों वाले बैग दिखाए, जिसका इस्तेमाल सरकार ने उन्हें अनाज भेजने के लिए किया था. एक तरफ मोदी सरकार ने गरीबों को मुफ्त राशन भेजा, तो योगी सरकार ने अपनी ओर से राशन देकर इसे दोगुना कर दिया, जिससे कई लोग इसे “राशन की दोहरी खुराक” भी बताने लगे और कई महिलाओं ने News18 को बताया कि ‘मोदी-योगी ने भुखे नहीं मरने दिया.”

योगी सरकार की कानून-व्यवस्था ने जीता महिलाओं का मन
एक अन्य प्रमुख कारण जिसने महिला मतदाताओं को प्रभावित किया, वह थी बेहतर कानून और व्यवस्था. News18 ने भी अपने चुनावी दौरे में पाया कि मुजफ्फरनगर के गन्ने के खेतों में महिलाएं देर तक काम रही हैं, लड़किया गांवों में स्कूटी और साइकिल चला रही हैं या छोटे शहरों में खुले नए कैफे में भोजन कर रही हैं. जहां योगी सरकार के रोमियो रोधी दस्ते के कदम की कई लोगों ने आलोचना की, वहीं ऐसा लगता है कि इसने स्थानीय गुंडों में डर पैदा करने के लिए जमीन पर काम किया है जो सड़कों पर महिलाओं और लड़कियों को परेशान करते थे.

कानून-व्यवस्था महिलाओं के लिए बेहद अहम रहा
यह जमीन पर एक बहुत ही स्पष्ट परिवर्तन था जो महिलाओं को साफ नजर आ रहा था. भाजपा ने महिला मतदाताओं में यह ‘डर’ पैदा कर दिया कि अगर सपा सत्ता में आई, तो गुंडागर्दी के पुराने दिन लौट आएंगे और राज्य में महिलाओं के लिए हालात फिर से मुश्किल हो जाएंगे. अखिलेश यादव की बड़ी रैलियों और रोड शो में महिलाओं की बेहद कम उपस्थिति भी एक संकेत था, जहां युवक बैरिकेड्स तोड़कर मंच के पास आ जाते थे. इसकी तुलना में, भाजपा के पास हमेशा अपने शीर्ष नेताओं की रैलियों में महिलाओं के बैठने के लिए जगह थी.

बिना भेदभाव के मिला सुविधाओं का लाभ
ऐसा नहीं है कि सपा को इस बात का अहसास ही नहीं था कि महिला मतदाता भाजपा के लिए रैली कर रही हैं. पार्टी ने डिंपल यादव और जया बच्चन को बाद के चरण में महिलाओं तक पहुंचने के खातिर प्रचार करने के लिए भेजा, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. गांवों की कई महिलाओं ने News18 को बताया कि उन्हें न केवल राशन मिला है, बल्कि पीएम आवास, उज्ज्वला सिलेंडर के तहत घर और उनके घर में पीने के पानी के नल कनेक्शन का नया वादा भी मिला है और यह सब लाभ उन्हें बिना किसी भेदभाव के मिला है.

‘जिसने राशन भेजा, सुरक्षा दी, वोट उसे’
हालांकि चुनावों में महंगाई एक अहम मुद्दा था, जिसे लेकर समाजवादी पार्टी ने सोचा था कि यह महिला मतदाता को प्रभावित करेगा, लेकिन मोदी-योगी सरकार से महिलाओं को जो लाभ मिला है, वह अन्य सभी चीजों से अधिक है. कन्नौज के एक आलू के खेत में मिली एक महिला से लेकर चौरी-चौरा के एक गाँव में मिली सुमित्रा देवी तक, सभी महिलाओं ने News18 से कहा कि वे मोदी को वोट देंगे जिन्होंने उन्हें राशन भेजा. महिलाओं ने कहा, “जिसने राशन भेजा, सुरक्षा दी, वोट उसे.” ऐसे में इन्हीं महिलाओं ने आखिर में उत्तर प्रदेश में फिर से मोदी और योगी की जीत में अहम भूमिका निभाई.

Tags: Akhilesh yadav, Assembly elections, Uttar Pradesh Elections, Yogi adityanath

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें