Home /News /nation /

सिंघु बॉर्डर: 'शूटर' ने लगाया सनसनीखेज आरोप- उन्होंने अगवा किया, डरा-धमकाकर जबरन बुलवाई सारी बातें

सिंघु बॉर्डर: 'शूटर' ने लगाया सनसनीखेज आरोप- उन्होंने अगवा किया, डरा-धमकाकर जबरन बुलवाई सारी बातें

सिंधु बॉर्डर कथिक शूटर पर पुलिस का बड़ा खुलासा.  (File)

सिंधु बॉर्डर कथिक शूटर पर पुलिस का बड़ा खुलासा. (File)

सिंघू बॉर्डर पर किसानों द्वारा पकड़े गए इस कथित शूटर ने पहले दावा किया था कि 26 जनवरी को किसान ट्रैक्टर रैली में वह गोली चलाकर माहौल खराब करने की फिराक में था. शूटर ने कबूल किया कि उसने जाट आंदोलन में भी माहौल बिगाड़ने का काम किया है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर देर रात जिस शख्स को शूटर बताकर किसानों ने मीडिया के सामने पेश किया था, उसने पूछताछ के दौरान कई बड़े खुलासे किए हैं. सोनिपत के रहने वाले इस शख्स ने बताया कि उसका नाम योगेश है और वो 19 जनवरी को दिल्ली में अपने एक रिश्तेदार के घर आया था. रास्ते में उसे कुछ प्रदर्शनकारियों ने अगवा कर लिया और उसकी कई दिनों तक खूब पिटाई की गई. योगेश ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने उससे कहा कि अगर बचना है तो जो हम बोलेंगे वही मीडिया के सामने कहना होगा.

    योगेश ने बताया कि उसके साथ ही 4 और युवकों को भी पकड़ा गया था. योगेश ने पूछताछ में बताया कि इन लोगों ने उसपर दबाव बनाते हुए कहा था कि वो लोग जो कहें, उसे मीडिया के सामने वही कहना पड़ेगा. योगेश ने बताया कि उसे कई दिनों तक कैंप में बांधकर रखा गया और उसके बाद उसे शराब पिलाई गई. इस दौरान उसे काफी मारा पीटा गया. उससे कहा गया कि उसे आगे वही करना होगा जैसा उससे कहा जाएगा.



    गौरतलब है कि पकड़े गए संदिग्ध शूटर ने पहले दावा किया था कि 26 जनवरी को किसान ट्रैक्टर रैली में वह गोली चलाकर माहौल खराब करने की साजिश रचने वाला था. उसने बताया था कि 23 से 26 जनवरी के बीच किसान नेताओं को गोली मारी जानी थी और महिलाओं का काम लोगों को भड़काना था. शूटर ने कबूल किया कि उसने जाट आंदोलन में भी माहौल बिगाड़ने का काम किया है.

    इसे भी पढ़ें :- Farmers Protest: सिंघु बॉर्डर पर पकड़ा गया 'शूटर', बोला- 26 जनवरी को 4 किसान नेताओं को गोली मारने की थी साजिश

    संदिग्ध ने खुलासा किया कि प्रदर्शनकारी किसान हथियार लेकर जा रहे हैं या नहीं, यह पता लगाने के लिए दो टीमें लगाई गई हैं. शूटर की ओर से बताया गया कि 26 तारीख को जब चार किसान नेता मंच पर बैठे होते उसी वक्त गोली मारने के आदेश उसे दिए गए थे. इसके लिए शूटर को चार लोगों की तस्वीर भी दी गई थी. शूटर ने बताया कि वह 19 जनवरी से सिंघु बॉर्डर पर है. उसने बताया कि जब 26 जनवरी को किसान ट्रैक्टर रैली निकालते तो वह किसानों के साथ ही मिल जाता. अगर प्रदर्शनकारी परेड के साथ निकलते तो हमें उनपर फायर करने के लिए कहा गया था.undefined

    Tags: Agricultural Law, Kisan Andolan, New Agricultural Law

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर