'कॉकटेल थेरेपी' का एक डोज बचा सकती है कोरोना मरीजों की जिंदगी, ट्रायल शुरू, जानें सब कुछ

इस दवा का ट्रायल शुरू कर दिया गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

इस दवा का ट्रायल शुरू कर दिया गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

गंगाराम अस्पताल (Sir Gangaram hospital) के चेयरमैन डीएस राना ने कहा है कि इस सिंगल डोज दवा की कीमत 59,750 रुपये होगी. इस कॉकटेल के तहत Casirivimab and Imdevimab दवा दी जाएगी.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली के गंगाराम अस्पताल (Sir Gangaram hospital) ने मंगलवार से मोनोक्लोनल एंटीबॉडी थेरेपी (monoclonal antibody therapy) के ट्रायल की शुरुआत कर दी है. कहा जा रहा है कि इस दवा के इस्तेमाल से कोरोना मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने का रिस्क 70 फीसदी तक कम हो जाता है. गंगाराम अस्पताल के चेयरमैन डीएस राना ने कहा है कि इस सिंगल डोज दवा की कीमत 59,750 रुपये होगी. इस कॉकटेल के तहत Casirivimab and Imdevimab दवा दी जाएगी.

इससे पहले प्रमुख दवा कंपनी रोश इंडिया और सिप्ला ने भारत में रोश के एंटीबॉडी कॉकटेल को पेश करने की घोषणा की थी. सिप्ला और रोश ने एक संयुक्त बयान में कहा था, ‘एंटीबॉडी कॉकटेल (कैसिरिविमैब और इमदेविमाब) की पहली खेप भारत में उपलब्ध है, जबकि दूसरी खेप जून के मध्य तक उपलब्ध होगी. कुल मिलाकर इन खुराकों से दो लाख रोगियों का इलाज किया जा सकता है.'

सिप्ला अपनी वितरण चेन के जरिए अस्पतालों तक पहुंचाएगी

सिप्ला देश भर में अपनी मजबूत वितरण क्षमता की मदद से इस दवा का वितरण करेगी. बयान में आगे कहा गया था कि दवा प्रमुख अस्पतालों और कोविड उपचार केंद्रों के माध्यम से उपलब्ध होगी.
एक्सपर्ट्स ने बताया है गेम चेंजर

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बड़े डॉक्टरों ने इस कॉकटेल को कोरोना मरीजों के इलाज में गेम चेंजर भी बताया है. इंडिया टीवी की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हार्ट इंस्टिट्यूट के चेयरमैन अशोक सेठ ने कहा है कि ये थेरेपी ऐसे कोरोना मरीजों के लिए है जिन्हें पहले से कोई गंभीर बीमारी है. वो होम आइसोलेशन में हैं. जिन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट की जरूरत नहीं है और जिनका ऑक्सीजन लेवल 93 से ऊपर है. ऐसी स्थिति में ये दवा बेहतर काम कर सकती है.

अमेरिकी फार्मा कंपनी को भी मिली इमरजेंसी यूज की मंजूरी



अमेरिकी फार्मा कंपनी एली लिली को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने उसकी मोनोक्लोनल एंटीबॉडी bamlanivimab 700 mg and etesevimab 1400 mg के इमरजेंसी यूज की अनुमति दे दी है. इस बात की जानकारी कंपनी की तरफ से दी गई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज