लाइव टीवी

ओडिशा में जेलों की स्थिति खतरनाक, सोने के लिए कैदियों को करना पड़ता है इंतजार: सुप्रीम कोर्ट

भाषा
Updated: February 18, 2020, 7:53 AM IST
ओडिशा में जेलों की स्थिति खतरनाक, सोने के लिए कैदियों को करना पड़ता है इंतजार: सुप्रीम कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट ने बताया ओडिशा की स्थिति के बारे में

ओडिशा (Odisha) की जेल में कैदी को सोने के लिए अपनी बारी का इंतजार करते हैं. इस मामले में एक अंतरराष्ट्रीय संधि है, जो गारंटी देती है कि जेलों में सोने के लिए न्यूनतम स्थान होना चाहिए.

  • Share this:
नई दिल्ली. ओडिशा (Odisha) की जेलों की स्थिति को ‘खतरनाक’ करार देते हुए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सोमवार को कहा कि कैदियों को वहां की जेलों में सोने के लिए अपनी बारी की प्रतीक्षा करनी पड़ती है.

जस्टिस एस के कौल और के एम जोसेफ (justices SK Kaul and KM Joseph) की पीठ ने कहा, 'क्या आपने कभी ओडिशा की जेल का दौरा किया है. मैंने अपने एक भाई (न्यायाधीश) से सुना है कि कैदी वहां सोने के लिए अपनी बारी का इंतजार करते हैं. इस मामले में एक अंतरराष्ट्रीय संधि है, जो गारंटी देती है कि जेलों में सोने के लिए न्यूनतम स्थान होना चाहिए. वहां हालत बहुत खतरनाक हैं.'

शीर्ष अदालत ने यह बात तब कही जब वह अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम, 1989 के तहत दर्ज एक मामले में एक व्यक्ति की जमानत याचिका पर सुनवाई कर रही थी. याचिकाकर्ता की ओर से पेश वकील ने पीठ को बताया कि उस आदमी पर आरोप है कि उसने अपनी मां को थप्पड़ मारा था.



उन्होंने कहा कि याचिकाकर्ता 20 साल का है और वह 400 दिनों से अधिक समय से जेल में है, जिसके कारण उसकी पढ़ाई प्रभावित हुई है.



ये भी पढ़ें: सेना में स्थाई कमीशन: वो महिला सैनिक जिनकी कहानी सुनकर SC ने दिया फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 18, 2020, 7:53 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading