एंजेला मर्केल ने कश्मीर की स्थिति पर जताई चिंता, कहा-हालात सुधरना जरूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल (German Chancellor Angela Merkel) ने शुक्रवार शाम दोनों पक्षों के चुनिंदा मंत्रियों तथा अधिकारियों की मौजूदगी में मुलाकात की. इस बैठक का आयोजन प्रधानमंत्री के सरकारी आवास पर किया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2019, 11:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल (German Chancellor Angela Merkel) ने अपने भारत दौरे पर शुक्रवार को कहा कि कश्मीर (Kashmir) के हालात अस्थायी हैं और इसमें सुधार होना जरूरी है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स की खबर के मुताबिक मर्केल ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के सामने इस मुद्दे को उठाएंगीं. उन्होंने कहा कि वह कश्मीर पर भारत के रुख से भली-भांति परिचित हैं साथ ही पड़ोसी देश पाकिस्तान (Pakistan) के कब्जे वाले भाग के बारे में भी जानती हैं. वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस क्षेत्र में शांति बनाए रखने के लिए उनकी योजनाओं के बारे में जानना चाहती हैं. मर्केल ने कहा कि वहां के लोगों के लिए स्थिति फिलहाल अच्छी नहीं है और इसमें सुधार होना चाहिए.

उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने शुक्रवार शाम दोनों पक्षों के चुनिंदा मंत्रियों तथा अधिकारियों की मौजूदगी में मुलाकात की. प्रधानमंत्री के सरकारी आवास पर बैठक में भारत की ओर से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (Ajit Doval), विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) तथा विदेश सचिव विजय गोखले ने भाग लिया.

चर्चा हुई या नहीं इस पर अभी संशय
जर्मन शिष्टमंडल में भी चुनिंदा अधिकारी शामिल हुए. बैठक के बाद प्रधानमंत्री ने चांसलर मर्केल के लिए रात्रिभोज दिया. हालांकि, आईजीसी के दौरान कश्मीर स्थिति पर चर्चा नहीं की गई और सूत्रों के अनुसार, मर्केल को 'विशेष बैठक' के दौरान जम्मू कश्मीर पर मोदी की योजनाओं से अवगत होने का मौका मिल सकता है. जर्मन सूत्रों ने मर्केल के हवाले से कहा, 'चूंकि इस समय कश्मीर में स्थिति स्थायी और अच्छी नहीं है तो इसे निश्चित तौर पर बदलने की आवश्यकता है.'
जर्मन चांसलर की यह टिप्पणी ऐसे समय में आयी है जब अमेरिका समेत कुछ विदेशी सांसदों ने अगस्त में जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा हटाने के लिए अनुच्छेद 370 को रद्द करने के बाद सरकार द्वारा लगायी पाबंदियों पर चिंता जतायी है. इस बीच, प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के बाद मोदी और मर्केल ने शुक्रवार शाम को प्रधानमंत्री के सरकारी आवास पर दोनों पक्षों के चुनिंदा मंत्रियों तथा अधिकारियों की मौजूदगी में मुलाकात की.



भारत-जर्मनी में हुए कई करार
इससे पहले आज दिन में पीएम मोदी तथा मर्केल ने पांचवें अंतर-सरकारी परामर्श की सह-अध्यक्षता की. जिसके बाद दोनों नेताओं ने प्रेस वक्तव्य दिया और दोनों पक्षों ने कुछ करार किए.

मर्केल ने राष्ट्रपिता को दी श्रद्धांजलि
वहीं जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गांधी स्मृति का भ्रमण किया. प्रधानमंत्री ने महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष जर्मन चांसलर का स्वागत किया. इस प्रतिमा का निर्माण जानेमाने मूर्तिकार राम सुतार ने किया है.

गांधी स्मृति के महत्व को रेखांकित करते हुए पीएम मोदी ने मर्केल को बताया कि यह स्मारक वहां बनाया गया है जहां गांधीजी ने अपने जीवन के अंतिम कुछ महीने बिताए थे और जहां 30 जनवरी, 1948 को उनकी हत्या कर दी गई थी.

प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘चांसलर मर्केल को दिल्ली में गांधी स्मृति का भ्रमण कराया. महात्मा गांधी के विचार और सिद्धांत जर्मनी में गुंजायमान होते हैं और उसके नागरिकों को प्रेरित करते हैं.’’ उन्होंने गांधी स्मृति के अपने दौरे की तस्वीरें भी साझा कीं.

ये भी पढ़ें-

जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल क्‍यों करेंगी द्वारका मेट्रो स्‍टेशन का दौरा?
भारत-जर्मनी के बीच हुए 17 अहम समझौते, मर्केल ने दी राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज