असम-बिहार में बाढ़ से छह की मौत 55 लाख से अधिक प्रभावित, इडुक्की में रेड अलर्ट

असम-बिहार में बाढ़ से छह की मौत 55 लाख से अधिक प्रभावित, इडुक्की में रेड अलर्ट
बिहार में बाढ़ के कारण करीब 40 लाख प्रभावित हुये हैं.

भारतीय मौसम विभाग (Indian Meteorological Department) ने केरल के इडुक्की (Idukki) जिले के लिये रेड अलर्ट जारी किया है और वहां भारी बारिश का अनुमान लगाया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 30, 2020, 12:04 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. असम (Assam) एवं बिहार (Bihar) में आयी बाढ़ (Floods) के कारण बुधवार को कम से कम छह लोगों की मौत हो गयी. बाढ़ के कारण 55 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुये हैं. केरल (Kerala) के कुछ हिस्सों में लगातार तेज बारिश हुयी जिससे निचले इलाकों में जल जमाव हो गया और इस वजह से रेल एवं सड़क यातायात सेवा आंशिक रूप से प्रभावित हुयी. भारतीय मौसम विभाग (Indian Meteorological Department) ने केरल के इडुक्की (Idukki) जिले के लिये रेड अलर्ट जारी किया है और वहां भारी बारिश का अनुमान लगाया गया है.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) में बारिश के कारण हालांकि लोगों को उमस भरे मौसम से राहत मिली लेकिन निचले इलाकों में जल जमाव हो गया जिससे यातायात तथा बिजली एवं पानी की आपूर्ति बाधित हुयी. मौसम विभाग के क्षेत्रीय केंद्र कें प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया, 'मंगलवार शाम से लेकर बृहस्पतिवार तक मॉनसून ट्रफ दिल्ली—एनसीआर के नजदीक रहेगा. इस अवधि में दक्षिण की ओर चलने वाली हवायें अरब सागर से और बंगाल की खाड़ी से पूर्वा हवा हरियाणा, दिल्ली—एनसीआर, पश्चिमी उत्तर प्रदेश तथा उत्तरी राजस्थान पहुंचेगी.' उन्होंने बताया कि इसके प्रभाव के कारण इन क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी बारिश होगी.

असम के 21 जिलों में 17 लाख लोग प्रभावित
असम में बुधवार को जारी बुलेटिन में कहा गया है कि राज्य में बाढ़ के पानी में तीन लोगों की डूबने से मौत हो गयी जबकि प्रदेश में बाढ़ की स्थिति में सुधार के बावजूद प्रदेश के 21 जिलों के करीब 17 लाख लोग अब भी प्रभावित हैं. इसमें कहा गया है कि मंगलवार तक बाढ़ के कारण 21 जिलों के करीब 19.81 लाख लोग प्रभावित हैं. असम प्रदेश आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने दैनिक बाढ़ रिपोर्ट में कहा है कि बरपेटा, कोकराझाड़ एवं कामरूप में जिलों में एक एक व्यक्ति की डूबने से मौत हो गयी है. इसके साथ ही इस साल प्रदेश में बाढ़ एवं भूस्खलन के कारण करने वालों की संख्या बढ़ कर 133 हो गयी है. इनमें से 107 की मौत बाढ़ संबंधी कारणों से जबकि 26 की मौत भूस्खलन के कारण हुयी है.
प्राधिकरण ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 16.55 लाख से अधिक लोग बाढ़ के कारण प्रभावित हुये हैं. बाढ़ के कारण सबसे अधिक प्रभावित जिला गोलापाड़ा है जहां चार लाख 19 हजार से अधिक लोग प्रभावित हुये हैं. इसने कहा है कि मौजूदा समय में 1536 गांवों बाढ़ की समस्या है और पूरे प्रदेश में 92 हजार 899 हेक्टेयर से अधिक जमीन में लगी फसल बर्बाद हो गयी है.



बिहार में करीब 40 लाख लोग प्रभावित
बिहार प्रदेश आपदा विभाग ने कहा है कि राज्य में बाढ़ के कारण तीन और लोगों की मौत के साथ इससे मरने वालों की संख्या बढ़ कर 11 हो गयी है. बाढ़ के कारण करीब 40 लाख प्रभावित हुये हैं. इसने कहा है कि सभी तीन मौत दरभंगा जिले में हुयी है. इसने कहा है कि भारी बारिश के कारण प्रदेश में आयी बाढ़ के कारण प्रभावित होने वाले लोगों की संख्या 38.47 लाख हो गयाी है. बिहार प्रदेश के 12 जिलों के एक हजार गांव इस आपदा से प्रभावित हुये हैं. इस बीच, मौसम विभाग ने अनुमान लगाया है कि उत्तर बंगाल के सभी जिलों में भारी बारिश होगी, इन जिलों में दिन में लगातार भारी बारिश से लोगों को राहत मिली. अत्यधिक बारिश के कारण इन जिलों में बाढ़ जैसी स्थिति बन गयी है.

ये भी पढ़ें- कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अच्छी खबर, देश में मृत्यु दर घटकर हुई 2.23%

मौसम विभाग ने कुछ जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी है.

कोट्टायम में भारी बारिश से भूस्खलन
देश के दक्षिणी हिस्से केरल में खास तौर से एर्णाकुलम एवं कोट्टायम जिलों में मंगलवार की रात से भारी बारिश जारी है. कोच्चि में व्यस्ततम जोस चौराहा , एम जी रोड एवं अन्य इलाकों में जल जमाव हो गया था. कोट्टायम जिले में भारी बारिश के कारण हुये भूस्खलन के कारण रेल सेवायें प्रभावित रही. रेलवे सूत्रों ने बताया कि बुधवार की सुबह रेलवे पटरी पर मिट्टी एवं बोल्डर जमा हो गये जिसके कारण कोट्टायम एवं एर्णाकुलम के बीच ट्रेनों का परिचालन प्रभावित रहा. आज सुबह साढ़े आठ बजे तक कोट्टायम में 20 सेमी, वैकोम में 19 सेमी, चेरताला में 18 सेमी, एर्एााकुलम दक्षिण में 13 सेमी, कोच्चि हवाई अड्डे पर 15 सेमी से अधिक तथा तिरूवनंतपुरम शहर में करीब 4.82 सेमी बारिश हुयी.



केरल आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने कहा कि भारी बारिश,भूस्खलन, मिट्टी धंसने, बाढ़ एवं अन्य प्राकृतिक आपदाओं का पूर्वानुमान लगाया गया है और लोगों को चेताया गया है.

उत्तर प्रदेश में अधिकतम स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हुयी है और गुरुवार को और अधिक बारिश का पूर्वानुमान लगाया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading