लाइव टीवी

इन सीटों पर थोड़ा सा इधर-उधर होता वोट तो बदल जाते हरियाणा-महाराष्ट्र के रिजल्ट!

News18Hindi
Updated: October 26, 2019, 4:22 PM IST
इन सीटों पर थोड़ा सा इधर-उधर होता वोट तो बदल जाते हरियाणा-महाराष्ट्र के रिजल्ट!
Illustration by Mir Suhail/News18

हरियाणा (Haryana) में 25 सीटों और महाराष्ट्र (Maharashtra) में 37 सीटों पर 5,000 से कम वोटों के अंतर से जीत दर्ज की गई. यहां पढ़ें और दिलचस्प आंकड़े-

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2019, 4:22 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. हरियाणा (Haryana) और महाराष्ट्र (Maharashtra) में विधानसभा चुनाव के परिणाम गुरुवार को आ गए. कुछ विधानसभा क्षेत्रों में आखिरी समय तक लड़ाई चलती रही. महाराष्ट्र की 25 और हरियाणा की 37 सीटें ऐसी हैं, जहां महज 5,000 वोटों से भी कम अंतर से जीत-हार का फैसला हुआ. हरियाणा में जहां जीत का औसत मार्जिन 16,000 वोट था, तो वहीं महाराष्ट्र में 28,000 वोट का अंतर था.

इनमें से हरियाणा की 10 और महाराष्ट्र में ऐसी 9 सीटें थी, जहां मार्जिन 2,000 से कम का था. आखिरी नतीजों में देखा जा सकता है कि कुछ वोट इधर-उधर होते तो संभवतः पूरा परिणाम बदल जाता. उदहारण के लिए हरियाणा की जिन 25 सीटों पर वोट मार्जिन 5,000 से कम था, इनमें से 8 बीजेपी ने जीती.

हरियाणा में ऐसा क्या हुआ?
इसमें दो सीटें प्रमुख थीं. कैथल से कांग्रेस (Congress)  रणदीप सिंह सूरजेवाला को बीजेपी के लीला राम ने 1,246 वोट से हराया तो वहीं यमुनानगर सीट से कांग्रेस के दिलबाग सिंह को बीजेपी के घनश्याम दास ने 1,455 वोट से हराया था.

ऐसा ही कुछ बड़ोदा में हुआ जहां बीजेपी (BJP) के योगेश्वर दत्त को कांग्रेस के श्रीकृष्णा हुड्डा ने 4,840 वोटों से हराया. पिछली बार 47 सीट पाने वाली बीजेपी इस बार हरियाणा में 40 सीटों पर सिमट गई. कांग्रेस ने 2014 में 15 सीटें मिलीं थीं. इस बार कांग्रेस के हिस्से 31 सीटें आईं.



महाराष्ट्र में यूं बिगड़ सकता था खेल
Loading...

इसी तरह महाराष्ट्र में 37 में से कम से कम 14 सीटों पर, भाजपा-शिवसेना (Shiv sena) के उम्मीदवार ने कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) को बेहद कम अंतर से हराया. इसमें सबसे करीबी मुकाबला दौंड सीट पर देखने को मिला, जहां भाजपा के राहुल सुभाषराव कुल ने राकांपा के रमेश किशनराव थोराट को 746 मतों से हराया.

इसके उलट यहां नौ सीटें ऐसी रही, जहां पर कांग्रेस-एनसीपी उम्मीदवार ने भाजपा-सेना के उम्मीदवारों पर मामूली अंतर से जीत दर्ज की. दिलचस्प बात यह है कि इन नौ सीटों में से आठ पर बीजेपी-सेना के प्रत्याशियों को एनसीपी ने हराया था. कम मार्जिन वाली सीटों के विपरीत, हरियाणा में 36 सीटें और महाराष्ट्र में 105 सीटों पर 15,946 से लेकर 28,529 वोटों के कुल औसत मार्जिन था.

हरियाणा में, सबसे ज्यादा मार्जिन जननायक जनता पार्टी (JJP) के देवेंद्र सिंह बबली ने टोहाना में 52,302 पर दर्ज किया, जबकि NCP के अजीत पवार ने बीजेपी के गोपीचंद कुंडलिक पडलकर के खिलाफ बाराती में 1,65,265 वोटों का सबसे ज्यादा वोट के अंतर से जीते.

यह भी पढ़ें:  BJP-JJP की दोस्ती पर हुड्डा बोले-वोट किसी की और सपोर्ट किसी को

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 26, 2019, 1:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...