Home /News /nation /

Exclusive: गांधी परिवार चाहता था कि अमेठी पिछड़ा रहे और वोट मिलते रहे, News18 से खास बातचीत में बोलीं स्मृति ईरानी

Exclusive: गांधी परिवार चाहता था कि अमेठी पिछड़ा रहे और वोट मिलते रहे, News18 से खास बातचीत में बोलीं स्मृति ईरानी

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी.

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी.

Smiriti Irani slams Gandhi Family over Amethi seat and other political issues: केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद स्मृति ईरानी ने CNN-News 18 को दिए खास इंटरव्यू में गांधी परिवार समेत विभिन्न राजनीतिक मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखी. उन्होंने गांधी परिवार पर वोट बैंक की राजनीति का आरोप लगाया. स्मृति ईरानी ने कहा कि सालों से अमेठी लोकसभा सीट गांधी परिवार के पास रही लेकिन यहां कोई विकास कार्य नहीं हुए. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में उत्तर प्रदेश में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर, हिन्दू बनाम हिन्दुत्व, कानून-व्यवस्था, लोकतंत्र और राष्ट्रवादी विचारों को मजबूती देने के लिए बेहतर काम हुए हैं.

अधिक पढ़ें ...

    आनंद नरसिम्हन

    केंद्रीय मंत्री और अमेठी से बीजेपी सांसद स्मृति ईरानी (Smirit Irani) ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Wadra) पर वोट बैंक की राजनीति करने का आरोप लगाया है. CNN-News18 से खास बातचीत में स्मृति ईरानी ने अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी, यूपी चुनाव और गांधी परिवार की पॉलिटिक्स पर खुलकर अपनी राय रखी. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) की अगुवाई में उत्तर प्रदेश में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर, हिन्दू बनाम हिन्दुत्व, कानून-व्यवस्था, लोकतंत्र और राष्ट्रवादी विचारों को मजबूती देने के लिए बेहतर काम हुए हैं. इस दौरान उन्होंने अपनी बुक ‘लाल सलाम’ के बारे में कुछ बातें शेयर कीं.

    अमेठी में कैसे विकास हुआ है?

    मैं 7 साल पहले विकास के मुद्दे को लेकर अमेठी के लोगों से जुड़ी. यहां लोग सालों से बदलाव चाहते थे. आज मेरे संसदीय क्षेत्र में बेहतर प्रशासन है. जब मैं यहां पहली बार आई थी तो, यहां कलेक्टर ऑफिस नहीं था, यहां चीफ मेडिकल ऑफिसर का कार्यालय नहीं था, यहां चीफ एजुकेशन ऑफिसर नहीं था. अस्पतालों में बुनियादी सुविधाओं का अभाव था. ट्रामा सेंटर के अलावा महिलाओं और बच्चों के लिए रेफरल हॉस्पिटल नहीं था. अमेठी में फायर स्टेशन भी नहीं था. तीन दशकों से यहां बायपास नहीं था. 4 दशक पहले मेडिकल कॉलेज का वादा किया गया था लेकिन वहां भी नहीं बना. लेकिन आज अमेठी में यह सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं.

    अमेठी को मिले मेडिकल कॉलेज की सुविधा को लेकर मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आभारी हूं. अमेठी सांसद होने के नाते मैंने, जो भी सुविधाएं यहां के नागरिकों के लिए सरकार से मांगी वह पूरी हुई. अब सवाल यह है कि गांधी परिवार ने अमेठी के लिए ये सब क्यों नहीं किया. ऐसा क्यों लगता है कि वे हमेशा से यह चाहते थे कि यहां के लोग गरीब हैं. मेरा मानना है कि यह सब उन्होंने अपनी वोटबैंक की पॉलिटिक्स के लिए किया.

    यह भी पढ़ें: कोरोना के खौफ के बीच दिल्ली में कल PM मोदी लेंगे मंत्रिपरिषद की बैठक, इन एजेंडों पर हो सकती है बात

    क्या कोविड काल में भी आप अमेठी आई हैं…

    हां, कोरोना महामारी के दौरान भी मैं अपने संसदीय क्षेत्र में आई हूं. मैं एक सांसद हूं जो गांधी परिवार से अलग हूं, जो कभी भी अमेठी में लोगों की सेवा के लिए उपलब्ध नहीं रहे. आजकल प्रियंका गांधी एक कैंपेन चला रही है ‘लड़की हूं लड़ सकती हूं’ तो फिर वे अपने भाई के साथ यहां क्यों आईं? क्या वे अकेली नहीं लड़ सकती हैं. अगर बात लड़कियों की होती है तो अमेठी में सालों से महिलाओं के लिए पर्याप्त शौचालय क्यों नहीं बनाए गए थे. बीजेपी के सत्ता में आने के बाद 3 लाख टॉयलेट का निर्माण हुआ है. अमेठी के ग्रामीण इलाकों में कई परिवारों के पास रहने के लिए घर नहीं थे. लेकिन अब प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत कई परिवारों को घर की सौगात मिली. जिन लोगों को गांधी परिवार ने अपना कहा उनके लिए न घर बनाए और न मेडिकल कॉलेज. अमेठी के अस्पताल में पहली सीटी स्कैन मशीन मेरे कार्यकाल में लाई गई.

    अमेठी में पहला केंद्रीय विद्यालय मोदी सरकार द्वारा बनाया गया. अमेठी में पहला सैनिक स्कूल मोदी सरकार ने बनाया. आज से 7 साल पहले 2014 में नितिन गडकरी से अमेठी की जनता ने कहा था कि साहब हम 30 सालों से सुन रहे हैं कि हमें बायपास की सौगात मिलेगी, कृपया इसे बनाइये. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को सत्ता में आने दीजिए हम बायपास बनाएंगे और आज यह बनकर तैयार हो गया है.

    हाल ही में एक नेता ने कहा है कि रोड और बिल्डिंग बनाने से वोट नहीं मिलते हैं, मायावती ने भी रोड बनाए थे…

    यही वजह है कि पिछली सरकारों ने ना रोड बनाए ना बिल्डिंग, आप सिर्फ वोटबैंक की पॉलिटिक्स कर रहे थे. हमने विकास किया और उन्होंने वोट बैंक की राजनीति. उन्हें लगता है कि बिल्डिंग, रोड और शौचलाय बनाने से वोट नहीं मिलते हैं इसलिए उन्होंने नहीं बनाए. टॉयलेट बनान हमारे घोषणा पत्र का हिस्सा नहीं था लेकिन ये बुनियादी सुविधाओं के तौर पर जरूरी था, महिलाओं को इसकी जरुरत थी.

    यह भी पढ़ें: UP Chunav: BJP, कांग्रेस, सपा, बसपा, सभी का कहना- तय समय पर हों चुनाव, लेकिन…

    यूपी में योगी जी के कार्यकाल को कानून-व्यवस्था के लिहाज से आप कैसे देखती हैं?

    जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सत्ता में आए थे तो उन्होंने लड़कियों और महिलाओं को सुरक्षा देने का वादा किया था. हमने एंटी रोमियो स्क्वॉड बनाया. इसके तहत 10 हजार से ज्यादा आरोपियों की गिरफ्तारी हुई. निष्पक्ष जांच के आधार पर कार्रवाई हुई. मेरा मानना है कि योगी सरकार के राज में उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था में सुधार हुआ है और राज्य में सक्रिय बड़े माफियाओं पर शिकंजा कसा गया है. लेकिन विपक्ष ने अपनी पसंद के कुछ मुद्दों को उछालकर कानून-व्यवस्था को लेकर योगी सरकार पर बेवजह के आरोप लगाए.

    हिन्दू और हिन्दुत्व के मुद्दे पर आपकी राय…

    राहुल गांधी समेत विपक्ष के कुछ नेताओं ने हिन्दू और हिन्दुत्व के मुद्दे पर बीजेपी को घेरने की कोशिश की. लेकिन यह बहुत बेतुकी बात है. बीजेपी और आरएसएस की विचारधार राष्ट्रवाद से जुड़ी है. लेकिन उन्होंने यह बात समझ में नहीं आएगी. क्योंकि उन्हें भारत के टुकड़े करने वाले लोगों के नारे सुनाई देते हैं.

    विपक्ष कहता है कि बीजेपी लोकतंत्र और संविधान में विश्वास नहीं रखती है….

    कौन सा लोकतंत्र? जिसने गरीबों के लिए घर और शौचालय नहीं बनाए. कौन सा लोकतंत्र? जहां सांसद जनता के बीच से गायब रहता है. कौन सा लोकतंत्र, जहां जमीनों पर शिलान्यास करके आप सब भूल जाते हैं. हम भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहे हैं लेकिन देश में कितने कांग्रेसी नेताओं ने इसमें हिस्सा लिया. ये बीजेपी जश्न नहीं है बल्कि भारत की आजादी की वर्षगांठ का उत्सव है.

    क्या 2024 का चुनाव भी आप अमेठी से लड़ेंगी?

    यह फैसला मेरी पार्टी करेगी. लेकिन मैंने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा कि बीजेपी का उम्मीदवार होना सबसे बड़ा सौभाग्य है, बीजेपी में कोई वंशवाद नहीं है. यह एक अनुशासित पार्टी है, जहां बीजेपी संसदीय दल और शीर्ष नेतृत्व तय करते हैं कि किसे उम्मीदवार बनाया जाए. लेकिन मैं आपको एक बात का आश्वासन दे सकती हूं कि 2024 में बीजेपी ही अमेठी को फिर से जीतने जा रही है, चाहे उम्मीदवार कोई भी हो.

    Tags: Gandhi Family, Rahul gandhi, Smriti Irani

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर