अपना शहर चुनें

States

ममता के बयान पर स्मृति का पलटवार, कहा- CAA-NRC पर रेफरेंडम की मांग संसद का अपमान

स्मृति ईरानी ने ममता के बयान पर टिप्पणी की है.
स्मृति ईरानी ने ममता के बयान पर टिप्पणी की है.

पश्चिम बंगाल (West bengal) ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने कहा कि प्रदर्शनों को रोकने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में निषेधाज्ञा लागू करने के बावजूद भाजपा सफल नहीं होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 20, 2019, 2:44 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने संशोधित नागरिकता कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) पर संयुक्त राष्ट्र की निगरानी में जनमत संग्रह कराने की मांग को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  (Mamata Banerjee) की शुक्रवार को निंदा की और कहा कि उनका यह बयान संसद का अपमान है.

शहर के एक होटल में आयोजित समारोह में भाग लेने यहां आईं केंद्रीय कपड़ा मंत्री ईरानी ने सीएए को लेकर मुख्यमंत्री के बयान पर प्रतिक्रिया देने के लिए कहे जाने पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘(बनर्जी की) टिप्पणी भारतीय संसद का अपमान है.’’

बनर्जी ने गुरुवार को केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार को चेतावनी देते हुए कहा था कि वह सीएए और प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी एनआरसी के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र की निगरानी में जनमत संग्रह कराए और यदि वह ‘‘व्यापक मत’’ हासिल करने में विफल रहती है तो उसे सत्ता छोड़नी होगी.



ममता ने दी चेतावनी
बता दें कि  ममता बनर्जी ने भाजपा को चेतावनी देते हुए कहा कि वह संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और प्रस्तावित राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) पर संयुक्त राष्ट्र की निगरानी में जनमत संग्रह कराए और यदि वह 'व्यापक मत' हासिल करने में विफल रहती है तो उसे सत्ता छोड़नी होगी. बनर्जी ने रानी रशमोनी एवेन्यू में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा सीएए के खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों को देश में हिन्दू और मुसलमानों के बीच लड़ाई के रूप में पेश करने की कोशिश कर रही है.

तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, 'भाजपा को बहुमत मिला है, इसका मतलब यह नहीं है कि जो वह चाहती है, कर सकती है. यदि भाजपा में साहस है तो उसे सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र की निगरानी में जनमत संग्रह कराना चाहिए.' उन्होंने कहा, 'यदि भाजपा व्यापक मत हासिल करने में विफल रहती है तो तब उसे सत्ता छोड़ देनी चाहिए.'

ममता की टिप्पणी पर भाजपा की तीखी प्रतिक्रिया आई. भाजपा ने तृणमूल प्रमुख से कहा कि वह खुद को ‘हंसी का पात्र’ न बनाए. केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा, “क्या उन्हें पता है वह क्या कह रही हैं? उन्हें खुद को हंसी का पात्र नहीं बनाना चाहिए. मुझे लगता है कि उनके सलाहकारों ने उन्हें अच्छी सलाह देना बंद कर दिया है.”

बनर्जी ने दावा किया - बीजेपी काडर खरीद रहा टोपियां
बनर्जी ने दावा किया कि उन्हें सूचना मिली है कि भाजपा अपने कैडरों के लिए टोपियां खरीद रही है जो इन्हें पहनकर एक खास समुदाय की छवि खराब करने के लिए तोड़फोड़ कर रहे हैं. बनर्जी ने एकबार फिर दोहराया कि विवादास्पद कानून और प्रस्तावित एनआरसी को पश्चिम बंगाल में लागू नहीं करने दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि भाजपा की स्थापना 1980 में हुई थी और वह नागरिकता दस्तावेज 1970 के मांग रही है. (एजेंसी इनपुट के साथ)

यह भी पढ़ें:  देशहित के लिए लोगों की नाराजगी और गुस्सा झेलना पड़ता है: पीएम मोदी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज