अपना शहर चुनें

States

देश में अब तक साढ़े 4 लाख लोगों को दी गई वैक्सीन, सिर्फ 0.18% लोगों को हुआ साइड इफेक्ट

देश में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन अभियान शुरू हुआ है.
 (सांकेतिक फोटो)
देश में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन अभियान शुरू हुआ है. (सांकेतिक फोटो)

Coronavirus Vaccination: स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि देश में सिर्फ 0.18 प्रतिशत लोगों में वैक्सीन के बाद दुष्प्रभाव देखा गया. उन्होंने कहा कि टीकाकरण के बाद सिर्फ 0.002 प्रतिशत लोगों को अस्पताल में भर्ती किये जाने की जरूरत पड़ी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2021, 5:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने मंगलवार को बताया कि अब तक देश में 4 लाख 54 हजार से ज्यादा लोगों को कोरोना वायरस की वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) दी जा चुकी है. स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि देश में अब तक 4 लाख 54 हजार 49 लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया है. उन्होंने कहा कि टीकाकरण (Vaccination) के पहले दिन दुनिया में सबसे ज्यादा टीके भारत में लगाए गए. उन्होंने कहा कि देश में 3500 से ज्यादा सेंटर्स पर टीकाकरण किया जा रहा है. भूषण ने बताया कि टीकाकरण के पहले दिन लक्षद्वीप, सिक्किम, ओडिशा, अंडमान- निकोबार द्वीप समूह, तेलंगाना, दादरा-नागर हवेली, अरुणाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में पहले से तय टीकाकरण के लक्ष्य के कई गुना ज्यादा लोगों का टीकाकरण कर बेहतरीन प्रदर्शन किया है.

इसके अलावा, तमिलनाडु, पुडुचेरी और पंजाब में 40 प्रतिशत से कम टीकाकरण हुआ जिसे लेकर राज्य के संबंधित अधिकारियों से बातचीत की जा रही है. भूषण ने कहा कि देश में सिर्फ 0.18 प्रतिशत लोगों में वैक्सीन के बाद  दुष्प्रभाव देखा गया. स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि टीकाकरण के बाद सिर्फ 0.002 प्रतिशत लोगों को अस्पताल में भर्ती किये जाने की जरूरत पड़ी. उन्होंने कहा कि गोवा, हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश में हफ्ते में 2 दिन टीकाकरण किया जा रहा है. राजेश भूषण ने कहा कि टीकाकरण के बाद पैदा होने वाली परिस्थिति से निपटने के लिए पूरी व्यवस्था की गई है.

ये भी पढ़ें- बिहार DGP का खुलासा, एयरपोर्ट पार्किंग ठेके को लेकर हुई रूपेश सिंह की हत्या



देश में सिर्फ 2 प्रतिशत एक्टिव केस
स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जानकारी दी गई कि देश में कोरोना वायरस के 50 हजार से ज्यादा सक्रिय मामले सिर्फ केरल और महाराष्ट्र में ही हैं. भूषण ने कहा कि देश में कुल मामलों के सिर्फ 2 प्रतिशत ही सक्रिय मामले हैं. इसके अलावा देश में मृत्यु दर भी 1.44 प्रतिशत बनी हुई है. भूषण ने बताया कि आठ महीनों में देश में पहली बार करीब 140 से कम मौतों के मामले सामने आए हैं.

वहीं नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने स्वास्थ्यकर्मियों से कहा कि वह वैक्सीन को लेकर किसी तरह के भ्रम में न रहें. पॉल ने कहा कि दोनों वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित हैं ऐसे में स्वास्थ्यकर्मियों का दायित्व है कि वह वैक्सीन को लेकर जागरूकता फैलाएं. पॉल ने कहा कि हमें वायरस की चेन को तोड़ना है ऐसे में वैक्सीन इसके लिए अहम भूमिका अदा करेगी.

पॉल ने कहा टीकाकरण के बाद बहुत कम लोगों को किसी भी प्रकार की दिक्कत का सामना करना पड़ा है. उन्होंने स्वास्थ्यकर्मियों से अपील की कि वह समाज के प्रति अपने दायित्व को समझते हुए वैक्सीन लगवाने में न हिचकिचाएं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज