Home /News /nation /

तो क्या इस साल गणतंत्र दिवस परेड में नहीं होगी दिल्ली की झांकी?, जानें क्या है पूरा मामला

तो क्या इस साल गणतंत्र दिवस परेड में नहीं होगी दिल्ली की झांकी?, जानें क्या है पूरा मामला

इस साल के गणतंत्र दिवस परेड में दिल्ली से झांकी होने की संभावना नहीं है. (प्रतीकात्‍मक फोटो )

इस साल के गणतंत्र दिवस परेड में दिल्ली से झांकी होने की संभावना नहीं है. (प्रतीकात्‍मक फोटो )

इस साल के गणतंत्र दिवस परेड में दिल्ली से झांकी होने की संभावना नहीं है. यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को दी. हालांकि, इस मामले में दिल्ली सरकार की ओर से कोई टिप्पणी नहीं आई है. इस संबंध में एक अधिकारी ने कहा, ‘गणतंत्र दिवस परेड 2022 में दिल्ली से कोई झांकी नहीं होगी. कारण ज्ञात नहीं है.’

अधिक पढ़ें ...

    नयी दिल्ली.  इस साल के गणतंत्र दिवस परेड (republic Day Parade) में दिल्ली से झांकी होने की संभावना नहीं है. यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को दी. हालांकि, इस मामले में दिल्ली सरकार (Delhi Government) की ओर से कोई टिप्पणी नहीं आई है. इस संबंध में एक अधिकारी ने कहा, ‘गणतंत्र दिवस परेड 2022 में दिल्ली से कोई झांकी नहीं होगी. कारण ज्ञात नहीं है.’ अधिकारी ने कहा कि इस वर्ष, दिल्ली-सिटी ऑफ होप्स’ को झांकी के लिए विषय के रूप में चुना गया था.  उल्लेखनीय है कि 2020 में भी गणतंत्र दिवस परेड में दिल्ली की झांकी नहीं थी.

    पिछले साल, दिल्ली की झांकी राजपथ पर परेड में शामिल हुई थी, जिसमें दिल्ली सरकार ने शाहजहांबाद के चारदीवारी शहर की स्थापत्य विरासत को आधुनिक बुनियादी ढांचे के साथ जोड़ने के लिए चांदनी चौक के अपने पुनर्विकास मॉडल को प्रदर्शित किया था. सरकार से जुड़े सूत्रों ने कहा है कि इस बार गणतंत्र दिवस समारोह के मौके पर आयोजित होने वाली परेड में कोरोना महामारी की स्थिति को ध्यान में रखते हुए सिर्फ 24 हजार लोगों को शामिल होने की अनुमति दी गई है. इस साल गणतंत्र दिवस उत्सव 24 जनवरी के बजाय 23 जनवरी से शुरू हो रहा है. क्योंकि इस दिन नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती मनाई जाती है.

    ये भी पढ़ें : राफेल समेत 75 फाइटर जेट करेंगे सबसे बड़ा फ्लाईपास्ट, 26 जनवरी को दुनिया देखेगी हिन्दुस्तान की ताकत

    ये भी पढ़ें :  Uttar Pradesh Opinion Poll 2022: फिर भाजपा की बन सकती है सरकार, सपा पहले से मजबूत

    केंद्र सरकार के सूत्रों ने बताया कि राज्यों और केंद्रीय मंत्रालयों की ओर से कुल 56 प्रस्ताव आए थे. उन्होंने कहा कि इनमें से 21 का चयन किया गया है और हर साल इसी तरह की चयन प्रक्रिया अपनाई जाती है. कोविड-19 वैश्विक महामारी संबंधी हालात के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में इस साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड के दौरान करीब 24,000 लोगों को उपस्थित रहने की अनुमति दी जाएगी. सूत्रों ने बताया कि देश में वैश्विक महामारी की मार पड़ने से पहले 2020 में करीब 1.25 लाख लोगों को परेड के दौरान उपस्थित रहने की अनुमति थी.

    चयन सरकार नहीं, विशेषज्ञ समिति करती है

    गणतंत्र दिवस के अवसर पर राज्य, विभाग और मंत्रालय इतिहास के रूप में अपनी उपलब्धियों का प्रतिनिधित्व करते हैं जिन्हें उन्हें संबंधित झांकी द्वारा दर्शाया जाता है. यह चयन सरकार नहीं करती. इसके लिए विशेषज्ञों की समिति होती है जो कई विषयों के आधार पर प्रस्तावों की जांच करती है. झांकी प्रस्तावों का मूल्यांकन करने के लिए कला, संस्कृति, मूर्तिकला, संगीत, वास्तुकला, नृत्यकला आदि के क्षेत्र में प्रतिष्ठित लोगों की विशेषज्ञ समिति बनाई जाती है. वह विषय, अवधारणा, डिजाइन और दृश्य प्रभाव का आधार लेकर चयन की सिफारिशें करती है. वे प्रस्तावों का विश्लेषण करते हैं और समिति उनका मूल्यांकन के बाद अपना निर्णय लेती है.

    Tags: Delhi, Delhi Government, Republic Day Parade

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर