भारत-बांग्‍लादेश की फोर्स ऐसे करती है 4097 KM लंबे बॉर्डर की सुरक्षा

न्‍यूज़ 18 इंडिया की इस सीरीज में हम आपको बताएंगे कि कैसे और किस तरीके से दोनों देश (भारत और बांग्‍लादेश) सीमा की रखवाली करते हैं.

अमित पांडेय | News18Hindi
Updated: July 15, 2019, 12:15 PM IST
भारत-बांग्‍लादेश की फोर्स ऐसे करती है 4097 KM लंबे बॉर्डर की सुरक्षा
बिना ह‍थियार सीमा की सुरक्षा करती हैं सेनाएं. (फाइल फोटो)
अमित पांडेय
अमित पांडेय | News18Hindi
Updated: July 15, 2019, 12:15 PM IST
भारत-बांग्लादेश की सीमा का 4097 किलोमीटर का इलाका जहां भारत की ओर से बीएसएफ (बॉर्डर सिक्युरिटी फोर्स) और बांग्लादेश की तरफ से बीजीबी (बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश) दोनों देशों की निगरानी करते हैं. न्यूज़ 18 इंडिया इसी सीमावर्ती इलाके पर पहुंचा है और दोनों देश की फोर्स बिना हथियार उठाए कैसे कंधे से कंधे मिलाकर सीमा की रखवाली करती हैं, इसका जायजा लिया. न्यूज़18 इंडिया एक खास सीरीज शुरू कर रहा है, जिसके तहत हम अगले चार दिनों तक भारत-बांग्लादेश सीमा और वहां के हालात बताएंगे कि किन परिस्थितियों में दोनों देशों के जवान सीमा की रखवाली करते हैं.

भारत-पाकिस्तान सीमा पर जहां तनावपूर्ण माहौल रहता है, वहीं उससे उलट भारत-बांग्लादेश सीमा पर बेहद दोस्ताना माहौल रहता है. हालांकि सबसे बड़ी चुनौती दोनों देश के सुरक्षाबलों के सामने ये होती है कि कैसे बिना हथियार इस्तेमाल किए सीमाओं की रखवाली करें.



ऐसे काम करते हैं दोनों देश
न्‍यूज़ 18 की इस सीरीज में हम आपको बताएंगे कि कैसे और किस तरीके दोनों देश सीमा की रखवाली करते हैं.

बहरहाल, भारत-बांग्लादेश के बीच हमेशा से ही दोस्ताना संबध रहे हैं और ये बात जगजाहिर है. सच कहा जाए तो यही इस इलाके की रखवाली यानि बार्डर गार्डिंग का मुख्य आधार है. हाल में दोनों देशों की ओर से क्राइम फ्री जोन बनाए हैं. यानि ऐसी जगह जहां अपराध के खात्मे के लिए दोनों देश की फोर्स तेजी से काम कर रही हैं. इसके अलावा इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट जो दोनों देश की हैं उनको भी आधुनिक बनाने का प्रयास किया जा रहा है. दोनों देशों की फोर्स की संयुक्त गश्त में भी तेजी लाई जा रही है.

भारत-बांग्लादेश के बीच हमेशा से ही दोस्ताना संबध रहे हैं


क्‍या है सबसे बड़ी चुनौती?
Loading...

भारत और बांग्‍लादेश की सीमा की सबसे बड़ी समस्‍या मवेशियों का अवैध व्यापार, नशीले पदार्थ की तस्करी जिसमें ड्रग्स और याबा टैबलेट प्रमुख हैं. एक और अहम पहलू जिसकी पड़ताल की हम कोशिश करेंगे वो है आतंकी संगठन जमात-उल-दावा, जोकि बांग्लादेश में सक्रिय है और कैसे बंगाल के इलाकों में अपना प्रभाव फैलाने की कोशिश कर रहा है.

ऐसे शुरू होगा न्‍यूज़ 18 इंडिया का सफर
न्‍यूज़ 18 इंडिया का सफर बांग्‍लादेश के बंग्लाबंध इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट से शुरू होगा. इसके बाद बांग्लादेश के इस सीमावर्ती इलाके में पनबारी बॉर्डर आउटपोस्ट पर भी जाएंगे और ये जानने की कोशिश करेंगे कि यहां से कैसे अपराध पर काबू पाने की कोशिश की जा रही है. बांग्लादेश में ही हम सोना मस्जिद इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट जाएंगे और वहां की चुनौतियों से आपको रूबरू कराएंगे. कुल मिलाकर भारत बांग्लादेश सीमाओं को आने वाले दिनों में कैसे और मजबूत बनाया जाएगा हम ये भी आपको बताएंगे.

ये भी पढ़ें -

NEWS18 Exclusive: साक्षी मिश्रा बोलीं- फेसबुक तक चलाने से मना करते थे पापा

साक्षी मिश्रा का पति करने वाला था दूसरी लड़की से शादी, कर्ज लेकर पिता ने की थी सगाई
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...