पूर्व लोकसभा स्पीकर सोमनाथ चटर्जी का 89 साल की उम्र में निधन

सोमनाथ चटर्जी को पिछले महीने ब्रेन हैमरेज हुआ था, जिसके बाद से उनकी सेहत खराब चल रही थी. कुछ दिनों से वह किडनी की समस्या से भी जूझ रहे थे.

News18Hindi
Updated: August 13, 2018, 11:13 AM IST
पूर्व लोकसभा स्पीकर सोमनाथ चटर्जी का 89 साल की उम्र में निधन
सोमनाथ चटर्जी की फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: August 13, 2018, 11:13 AM IST
पूर्व लोकसभा स्पीकर सोमनाथ चटर्जी का सोमवार सुबह 89 साल की उम्र में कोलकाता के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया. अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था.

पूर्व सीपीएम नेता चटर्जी के परिवार में पत्नी, एक बेटा और दो बेटियां हैं. उन्हें पिछले महीने ब्रेन हैमरेज हुआ था, जिसके बाद से उनकी सेहत खराब चल रही थी. कुछ दिनों से वह किडनी की समस्या से जूझ रहे थे और इस कारण उन्हें 10 अगस्त को कोलकाता के अस्पताल में दोबारा भर्ती कराया गया था, जहां डॉक्टरों ने उन्हें वेंटिलेटर पर रखा था.

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी बोले- गरीब और वंचितों की मजबूत आवाज़ थे सोमनाथ चटर्जी

अस्पताल के अधिकारी ने बताया कि चटर्जी को रविवार सुबह 'दिल का हल्का दौरा' पड़ा था, जिसके बाद उनकी हालत बिगड़ गई और सोमवार सुबह करीब सवा आठ बजे उनका निधन हो गया.

ये भी पढ़ें- एक 'हिंदूवादी' पिता की संतान सोमनाथ चटर्जी कैसे बने कट्टर कम्युनिस्ट

पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी 10 बार लोकसभा सदस्य रह चुके थे. उनके पिता निर्मल चंद्र चटर्जी अपने जमाने के मशहूर वकील थे. वह अखिल भारतीय हिंदू महासभा के संस्थापक सदस्यों में शामिल थे. हालांकि सोमनाथ चटर्जी ने अपने पिता के रुख से अलग जाकर वामपंथी राजनीति की तरफ कदम बढ़ाया और 1968 में सीपीएम के साथ राजनीतिक करियर की शुरुआत की. चटर्जी 1971 में वह पहली बार सांसद चुने गए.

ये भी पढ़ें- अपने उसूलों की खातिर पार्टी लाइन के खिलाफ खड़े हो गए थे सोमनाथ चटर्जी

हालांकि वर्ष 2008 में सीपीएम ने अपने इस सबसे वरिष्ठ सांसद को पार्टी से निष्कासित कर दिया. दरअसल उस वक्त भारत-अमेरिका परमाणु समझौता विधेयक के विरोध में सीपीएम ने तत्कालीन मनमोहन सरकार से समर्थन वापस ले लिया था. सोमनाथ चटर्जी तब लोकसभा अध्यक्ष थे और पार्टी ने उन्हें भी स्पीकर पद छोड़ने के निर्देश दिए, पर वह नहीं माने, जिसके बाद पार्टी ने उनके खिलाफ यह कदम उठाया. (भाषा इनपुट के साथ)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर