लाइव टीवी

सोनल मानसिंह ने राज्यसभा में कहा- Air India और अन्य फ्लाइट्स में वाद्ययंत्रों का रखरखाव खराब

भाषा
Updated: December 9, 2019, 4:35 PM IST
सोनल मानसिंह ने राज्यसभा में कहा- Air India और अन्य फ्लाइट्स में वाद्ययंत्रों का रखरखाव खराब
प्रख्यात शास्त्रीय नृत्यांगना सोनल मानसिंह ने राज्यसभा में कलाकारों के समान की रक्षा का मुद्दा उठाया (फाइल फोटो)

सोनल मानसिंह (Sonal Mansingh) ने शून्यकाल (Zero Hour) के दौरान यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि कलाकार प्रदर्शन के लिए जब उड़ानों से कहीं जाते हैं तब उनके वाद्य यंत्रों (Musical Instruments) तथा परिधानों (Costumes) की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए समुचित उपाय किए जाने चाहिए जो आम तौर पर उड़ानों द्वारा नहीं किए जाते.

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रख्यात शास्त्रीय नृत्यांगना सोनल मानसिंह (Sonal Mansingh) ने सोमवार को राज्यसभा (Rajya Sabha) में चिंता जाहिर करते हुए कहा कि एयर इंडिया (Air India) सहित विभिन्न उड़ानों में यात्रा कर रहे कलाकारों के वाद्य यंत्रों (Musical Instruments) की सुरक्षा का समुचित ध्यान नहीं रखा जाता.

उच्च सदन (Upper House) की मनोनीत सदस्य सोनल मानसिंह ने शून्यकाल (Zero Hour) के दौरान यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि कलाकार प्रदर्शन के लिए जब उड़ानों से कहीं जाते हैं तब उनके वाद्य यंत्रों तथा परिधानों (Costumes) की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए समुचित उपाय किए जाने चाहिए जो आम तौर पर उड़ानों द्वारा नहीं किए जाते.

पिछले महीने एक कलाकार के साथ हुई दुर्घटना का दिया उदाहरण
सोनल मानसिंह ने उदाहरण देते हुए बताया कि हाल ही में एक प्रख्यात सितार कलाकार को न्यूयार्क (New York) में दो नवंबर को एक प्रस्तुति देनी थी. वह एक नवंबर को एयर इंडिया (Air India) की उड़ान से न्यूयार्क गए. उनका सितार (Sitar) अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार पैक किए जाने के बावजूद टूट गया.

सोनल के अनुसार, सितार की कीमत चार लाख रुपये थी और एयर इंडिया ने माफी मांगने के बजाय सितार वादक (Sitarist) से कहा कि वाद्य यंत्र की सुरक्षा के लिए वह कोई दूसरी सीट ले लें. मनोनीत सदस्य (Nominated Member) ने कहा ‘‘यह हास्यास्पद और पीड़ादायक है.’’

संस्कृति मंत्रालय और नागरिक उड्डयन मंत्रालय से मुद्दे को गंभीरता से लेने की अपील की
सोनल मानसिंह ने मांग की कि संस्कृति मंत्रालय (Culture Ministry) तथा नागरिक उड्डयन मंत्रालय (Civil Aviation Ministry) को इस मुद्दे पर साथ बैठकर गंभीरतापूर्वक विचार विमर्श करना चाहिए. उन्होंने कहा ‘‘संस्कृति को गंभीरता से नहीं लिया जाता. मुझे इस बात का बेहद दुख होता है.’’उन्होंने यह भी कहा कि दुर्भाग्य से, प्रदर्शन करने वाले कलाकारों का आम तौर पर कोई प्रतिनिधित्व (Representation) नहीं है अत: उनकी ओर से आवाज भी नहीं उठ पाती.

यह भी पढ़ें: पाक-भारत के लेस्बियन कपल का वीडियो TikTok पर डिलीट, तो कपल ने पूछा ये सवाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 4:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर