डिनर डिप्लोमेसी: सोनिया गांधी ने ओवैसी को नहीं भेजा न्योता, क्या ये है वजह?

ओवैसी को डिनर के लिए नहीं बुलाने के पीछे सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस को लगता है कि ओवैसी कांग्रेस के वोट काटते हैं. इससे कहीं न कहीं बीजेपी को फायदा होता है. कांग्रेस ने ओवैसी पर बीजेपी के इशारों पर काम करने का भी कई बार इल्जाम लगाया है.

Sanjay Tiwari | News18Hindi
Updated: March 13, 2018, 4:29 PM IST
डिनर डिप्लोमेसी: सोनिया गांधी ने ओवैसी को नहीं भेजा न्योता, क्या ये है वजह?
असदुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो)
Sanjay Tiwari | News18Hindi
Updated: March 13, 2018, 4:29 PM IST
अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस विपक्ष के सभी दलों को बीजेपी के खिलाफ एकजुट करने में जुट गई है. इसी कड़ी में मंगलवार को सोनिया गांधी ने विपक्ष के सभी नेताओं को डिनर के लिए बुलाया है. लेकिन, इस डिनर पार्टी में शामिल होने का न्योता ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद उल मुसलमीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी को नहीं भेजा गया है.

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव ने कुछ दिन पहले ही माइनस कांग्रेस माइनस बीजेपी वाले थर्ड फ्रंट बनाने का ऐलान किया था. असदुद्दीन ओवैसी ने केसीआर के थर्ड फ्रंट का स्वागत कर उसमें शामिल होने की इच्छा जाहिर की थी. ओवैसी कांग्रेस से दूरी बनाकर पार्टी का सियासी भविष्य देख रहे हैं. एआईएमआईएम के विश्वस्त सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है कि असदुद्दीन ओवैसी को सोनिया की डिनर पार्टी का न्योता नहीं मिला है.

यूपीए सरकार में सहयोगी रहे असदुद्दीन ओवैसी 2014 में कांग्रेस का साथ छोड़ चुके हैं. बिहार विधानसभा और उत्तर प्रदेश के स्थानीय निकाय चुनाव में एआईएमआईएम के उम्मीदवार खड़े किए थे. कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए भी ओवैसी उम्मीदवार मैदान में उतार रहे हैं. ओवैसी को डिनर के लिए नहीं बुलाने के पीछे सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस को लगता है कि ओवैसी कांग्रेस के वोट काटते हैं. इससे कहीं न कहीं बीजेपी को फायदा होता है. कांग्रेस ने ओवैसी पर बीजेपी के इशारों पर काम करने का भी कई बार इल्जाम लगाया है.

हालांकि, इसके बाद ओवैसी ने कांग्रेस से पूछा था कि गुजरात में उन्होंने उम्मीदवार नहीं खड़े किए थे, तो फिर गुजरात में कांग्रेस बीजेपी से चुनाव क्यों हारी? जाहिर है कांग्रेस और ओवैसी के बीच दूरियां बढ़ गई हैं. डिनर पार्टी में ओवैसी को न्योता नहीं भेजकर सोनिया ने साफ कर दिया है कि वो ओवैसी को कांग्रेस का सियासी दुश्मन मानती हैं.

डिनर पार्टी के लिए तेलंगाना के मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव को भी कांग्रेस ने न्योता नहीं भेजा हैं. टीआरएस नेताओं ने इस बात की पुष्टि की है कि कांग्रेस की तरफ से उन्हें न्योता नहीं मिला हैं. पार्टी का कहना है कि उन्हें सोनिया की डिनर पार्टी में शामिल होने के न्योते की उम्मीद भी नहीं थी. उनका कहना है कि अगर कांग्रेस टीआरएस को आमंत्रित करती, तभी भी डिनर पार्टी में शामिल होने का सवाल पैदा नहीं होता था.

कांग्रेस ने आंध्र प्रदेश में टीडीपी को भी डिनर पार्टी के लिए आमंत्रित नहीं किया है. हालांकि, बीजेपी और टीडीपी की बीच बढ़ती दूरियों पर कांग्रेस टकटकी लगाए बैठी है. लेकिन, जब तक दोनों दलों के बीच औपचारिक तौर पर गठबंधन नहीं टूट जाता, तब तक सोनिया गांधी को डिनर पार्टी के लिए चंद्रबाबू नायडू को आमंत्रित करना शायद उचित नहीं लगा.

ये भी पढ़ें: स्वामी उवाचः सुब्रमण्यम के 13 विवादित बयान

सोशल मीडिया पर छाई मोदी से गले मिलते मैक्रों की 'मुस्कान'
News18 Hindi पर Jharkhand Board Result और Rajasthan Board Result की ताज़ा खबरे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें .
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Nation News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर