सोनिया गांधी ने PM मोदी से कहा- कोरोना में माता-पिता खो चुके बच्चों को नवोदय विद्यालयों में मिले शिक्षा

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा पत्र. 
. (File Photo)

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा पत्र. . (File Photo)

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने पूर्व प्रधानमंत्री और अपने पति राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) के कार्यकाल शुरू किए गए नवोदय विद्यालयों (Navodaya Vidyalaya) का उल्लेख किया और कहा कि इस समय देश में 661 नवोदय विद्यालय चल रहे हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से आग्रह किया कि उन बच्चों को नवोदय विद्यालयों (Navodaya Vidyalaya) में मुफ्त शिक्षा देने के बारे में विचार किया जाए, जिन्होंने कोरोना महामारी (Corona Epidemic) के कारण अपने माता-पिता या फिर इनमें से किसी एक को खो दिया है जो घर की जीविका चलाता रहा हो.

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर यह भी कहा कि इन बच्चों को बेहतर भविष्य की उम्मीद देना राष्ट्र के तौर पर सबकी जिम्मेदारी है. सोनिया ने कहा, कोरोना महामारी की भयावह स्थिति के बीच कई बच्चों का अपने माता-पिता में से किसी एक या फिर दोनों को खोने की खबरें आ रही हैं जो तकलीफदेह हैं. ये बच्चे सदमे में हैं और इनकी सतत शिक्षा और भविष्य के लिए कोई मदद उपलब्ध नहीं है.

Youtube Video

इसे भी पढ़ें :- बीजेपी का आरोप- कांग्रेस की सौम्या वर्मा ने तैयार किए 'टूलकिट'; सोनिया और राहुल से मांगा जवाब
उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री और अपने पति राजीव गांधी के कार्यकाल शुरू किए गए नवोदय विद्यालयों का उल्लेख किया और कहा कि इस समय देश में 661 नवोदय विद्यालय चल रहे हैं. कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि उन बच्चों को इन नवोदय विद्यालयों में मुफ्त शिक्षा प्रदान करने के बारे में विचार किया जाए, जिन्होंने कोविड के कारण अपने माता-पिता या फिर इनमें से घर की जीविका चलाने वाले व्यक्ति को खो दिया है.

इसे भी पढ़ें :- नेशनल हेराल्ड मामले में स्वामी की याचिका पर 30 जुलाई को सुनवाई करेगा हाईकोर्ट

सोनिया ने कहा, मुझे लगता है कि एक राष्ट्र के तौर पर हमारी यह जिम्मेदारी बनती है कि हम अकल्पनीय त्रासदी से गुजरने के बाद इन बच्चों को अच्छे भविष्य की उम्मीद दें.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज