कांग्रेस के उन नाराज नेताओं से आज मिलेंगी सोनिया गांधी जिन्होंने पार्टी की बदहाली पर लिखी थी चिट्ठी

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (फाइल फोटो)

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (फाइल फोटो)

कांग्रेस (Congress) की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी शनिवार को पार्टी के नाराज नेताओं से मिलेंगी. माना जा रहा है कि इस बैठक में प्रियंका और राहुल भी होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2020, 7:16 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस में सक्रिय नेतृत्व और व्यापक संगठनात्मक बदलाव की मांग को लेकर पत्र लिखने वाले 23 नेताओं के समूह में शामिल कुछ नेता शनिवार को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से मुलाकात करेंगे. सूत्रों ने बताया कि सोनिया गांधी के साथ इन नेताओं की मुलाकात की भूमिका तैयार करने में मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यममंत्री कमलनाथ की अहम भूमिका है और 19 दिसंबर की इस प्रस्तावित बैठक में वह भी शामिल होंगे. कमलनाथ ने कुछ दिनों पहले ही सोनिया से मुलाकात की थी.

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि सोनिया से कुछ ऐसे नेता भी मिल सकते हैं जो लंबे समय से पार्टी से नाराज चल रहे हैं, हालांकि वे पत्र पर हस्ताक्षर करने वाले नेताओं में शामिल नहीं हैं. सोनिया के साथ बैठक में शामिल होने वालों में राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आज़ाद, पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा, कपिल सिब्बल, मनीष तिवारी और शशि थरूर शामिल हैं. सूत्रों ने कहा कि हरियाणा पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और महाराष्ट्र के पूर्व सीएम पृथ्वीराज चव्हाण भी सोनिया से मिल सकते हैं. कहा गया कि राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत भी इस बैठक में शामिल हो सकते हैं.

वरिष्ठ नेता मनमोहन सिंह, पी चिदंबरम, ए के एंटनी और एआईसीसी महासचिव (संगठन) के सी वेणुगोपाल के भी मौजूद रहने की उम्मीद है. मुलाकात के दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी के उपस्थित रहने को लेकर अभी स्थिति स्पष्ट नहीं हुई है, हालांकि इस ताजा घटनाक्रम में प्रियंका की भी अहम भूमिका मानी जा रही है. सूत्रों का कहना है कि इन नेताओं की सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद सुलह की गुंजाइश बढ़ सकती है.

अगस्त महीने में लिखी थी चिट्ठी
अगस्त महीने में गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा और कपिल सिब्बल समेत कांग्रेस के 23 नेताओं ने सोनिया गांधी को पत्र लिखकर पार्टी के लिए सक्रिय अध्यक्ष होने और व्यापक संगठनात्मक बदलाव करने की मांग की थी. इसे कांग्रेस के कई नेताओं ने पार्टी नेतृत्व और खासकर गांधी परिवार को चुनौती दिए जाने के तौर पर लिया. कई नेताओं ने गुलाम नबी आजाद के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की.

बिहार विधानसभा चुनाव और कुछ प्रदेशों के उप चुनावों में कांग्रेस के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद भी, आजाद और सिब्बल ने पार्टी की कार्यशैली की खुलकर आलोचना की थी और इसमें व्यापक बदलाव की मांग की थी. इसके बाद वे फिर से कांग्रेस कई नेताओं के निशाने पर आ गए.

वहीं मुलाकात से पहले कांग्रेस ने शुक्रवार को कहा कि राहुल गांधी ही कांग्रेस अध्यक्ष की कमान संभालने के लिए सबसे उपयुक्त व्यक्ति हैं. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी कहा कि पार्टी के सभी नेता कांग्रेस परिवार का हिस्सा हैं और सोनिया के साथ होने वाली कई नेताओं की मुलाकात में संगठन समेत विभिन्न मुद्दों पर चर्चा होगी.



सुरजेवाला ने राहुल के अध्यक्ष बनाए जाने का किया दावा

इस मुलाकात के बारे में पूछे जाने पर सुरजेवाला ने कहा, ‘कोरोना महामारी के कारण कांग्रेस अध्यक्ष की कई नेताओं और कार्यकर्ताओं से मुलाकात नहीं हो पाई थी. सोनिया जी ने निर्णय लिया है कि अगले कई दिनों तक बहुत सारे मुद्दों पर समय-समय पर चर्चा होगी. मैं यह कहूंगा कि कांग्रेस का हर नेता हमारे लिए महत्वपूर्ण है. हम सब मिलकर लड़ाई लड़ेंगे.’

नए अध्यक्ष के चुनाव के संदर्भ में उन्होंने कहा, ‘सीडब्ल्यूसी की बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष और कांग्रेस कार्य समिति ने यह निर्णय लिया था कि नए अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया शुरु कर दी जाए. मुझे लगता है कि उसके बाद सारे मुद्दे वहीं समाप्त हो गए.’

उन्होंने इस बात पर जोर दिया, ‘यह भी सही है कि मेरे समेत कांग्रेस के 99.99 फीसदी साथियों का मानना है कि राहुल गांधी, जिन्होंने निर्भीकता से मोदी सरकार से मुकाबला किया और कांग्रेस कार्यकर्तोओं के साथ कंधे से कंधा मिलाकर वर्षों से काम किया , कांग्रेस का नेतृत्व करने के लिए वही एक साझे उम्मीदवार हैं.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज