केंद्र सरकार से सोनिया गांधी की मांग- 30,000 करोड़ के वेलफेयर सेस खर्च नहीं हुए, इसे कोरोना वायरस सब्सिडी के तौर पर बांटे

केंद्र सरकार से सोनिया गांधी की मांग- 30,000 करोड़ के वेलफेयर सेस खर्च नहीं हुए, इसे कोरोना वायरस सब्सिडी के तौर पर बांटे
कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी

सोनिया (Sonia Gandhi) ने कांग्रेस (Congress) शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से यह भी कहा कि वो निर्माण क्षेत्र के कामगारों की मदद के संदर्भ में हुई प्रगति के बारे में उन्हें सूचित रखें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2020, 2:06 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से आग्रह किया कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के संकट के मद्देनजर निर्माण क्षेत्र में काम करने वाले कामगारों के लिए आपात कदम उठाए जाएं और कुछ निश्चित राशि की मदद उन्हें दी जाए.

प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में सोनिया ने कहा कि उन्हें जानकारी मिली है कि निर्माण क्षेत्र के कामगारों के कल्याण के लिए बने राज्य बोर्डों ने उपकर के माध्यम से 31 मार्च, 2019 तक 49,688 करोड़ रुपये की राशि का संग्रह किया था और इसमें से सिर्फ 19,380 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. उन्होंने कहा, ‘हम एक महामारी का सामना कर रहे हैं. ऐसे में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए कड़े कदमों की जरूरत है. इन कदमों से आर्थिक गतिविधियां व्यापक रूप से बाधित हुई हैं जिसका असंगठित क्षेत्र पर काफी बुरा असर पड़ा है. लाखों प्रवासी कामगार बड़े शहरों से अपने कस्बों और गांवों की तरफ कूच कर गए हैं.’

कांग्रेस शासित राज्यों के सीएम को भी लिखी चिट्ठी
कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘अब निर्माण क्षेत्र में काम करने वाले 4.4 करोड़ से अधिक कामगारों का भविष्य अधर में पड़ गया है. शहर बंद करने के कड़े कदमों से बहुत सारे कामगारों के सामने जीविका का संकट भी पैदा हो गया है.’ सोनिया के मुताबिक कनाडा समेत कई देशों ने कोरोना वायरस के संकट के बीच आर्थिक योजना सामने रखी है. ऐसे में यहां की अप्रत्याशित स्थिति को देखते हुए कागमारों के हित में कदम उठाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि निर्माण क्षेत्र में काम करने वाले कामगारों के लिए आपात कदम उठाए जाएं और कुछ निश्चित राशि की मदद उन्हें दी जाए.



इसके साथ ही सोनिया गांधी ने पार्टी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर कहा है कि कोरोना वायरस के संकट के मद्देनजर निर्माण क्षेत्र में काम करने वाले कामगारों को कुछ निश्चित राशि की मदद दी जाए.



कागमारों के हित में कदम उठाने की जरूरत - सोनिया
सोनिया ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायाणसामी को पत्र लिखकर कहा कि कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए उठाए गए कड़े कदमों का असंगठित क्षेत्र के कामगारों पर बुरा असर पड़ा है और ऐसे में उनकी मदद की जरूरत है. उन्होंने कहा कि निर्माण क्षेत्र के कामगारों के कल्याण के लिए बने राज्य बोर्ड के तहत पंजीकृत मजदूरों की मदद के लिए कुछ राशि निर्धारित की जाए.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘निर्माण क्षेत्र नोटबंदी और जीएसटी के कदमों से पहले ही कराह रहा है. ऐसे में कोरोना वायरस की नजह से उत्पन्न हालात के कारण यह संकट और गहराएगा.’ सोनिया के मुताबिक, कनाडा समेत कई देशों ने कोरोना वायरस के संकट के बीच आर्थिक योजना सामने रखी है. ऐसे में कागमारों के हित में कदम उठाने की जरूरत है.

सोनिया ने कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से यह भी कहा कि वो निर्माण क्षेत्र के कामगारों की मदद के संदर्भ में हुई प्रगति के बारे में उन्हें सूचित रखें.

यह भी पढ़ें: कोरोना और लॉकडाउन की वजह से महंगी हो रही हैं रोजमर्रा के सामान
First published: March 24, 2020, 2:04 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading