पाकिस्तानी जासूसों ने रेलवे कर्मचारियों से पूछे थे यह सवाल, स्पेशल टीम से पूछताछ में हुआ खुलासा

पाकिस्तानी जासूसों ने रेलवे कर्मचारियों से पूछे थे यह सवाल, स्पेशल टीम से पूछताछ में हुआ खुलासा
पाकिस्तानी जासूसों के मामले में रेलवे कर्मचारियों से पूछताछ की.

Delhi Police से पूछताछ के दौरान भारतीय रेलवे (Indian Railway) के कर्मचारी ने कहा, 'मैं सच कह रहा हूं सर, मैंने उस पाकिस्तानी को कुछ भी रेलवे की जानकारी नहीं दी है'

  • Share this:
नई दिल्ली. पाकिस्तान (Pakistan) के दो जासूसों के संबंध में भारतीय रेलवे (Indian Railway) के दो कर्मचारियों से स्पेशल सेल की टीम ने पूछताछ की है. इन दोनों से पाकिस्तानी जासूस के साथ कनेक्शन मसले पर हुई पूछताछ हुई. जिन कर्मचारियों से पूछताछ हुई है कि वो दोनों कर्मचारी बडौदा हाउस दफ्तर (Baroda House) में काम करते हैं. इस मामले में तफ्तीश दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्पेशल सेल कर रही है. इन दोनों कर्मचारियों से स्पेशल सेल के साथ -साथ आईबी की टीम भी पूछताछ कर चुकी है. इंडियन आर्मी की मिलिट्री इंटेलिजेंस की टीम भी मामले की पड़ताल में शामिल है. ये रेलवे कर्मचारी पाकिस्तानी उच्चायोग के जासूसों के संपर्क में आए थे.

पूछताछ के दौरान रेलवे के कर्मचारी ने कहा, 'मैं सच कह रहा हूं सर , मैंने उस पाकिस्तानी को रेलवे की कुछ भी जानकारी नहीं दी है , लेकिन ये बात सही है की उससे बड़ौदा हाउस दफ्तर के बाहर मैं मिला था, लेकिन मुझे ये नहीं पता था की वो पाकिस्तानी जासूस है. वो मुझसे रेलवे और आर्मी के मूवमेंट और देश में उसकी सप्लाई चेन के बारे में पूछताछ कर रहा था. उसी वक्त मेरे दिमाग में शक हुआ और मैंने उससे कुछ भी बताने से और बाद में मिलने से भी इनकार कर दिया.'

रेलवे कर्मचारी से दिल्ली पुलिस ने स्पेशल सेल की टीम ने कई घंटों तक पूछताछ की. दरअसल राजधानी दिल्ली में स्थित सेंट्रल रेलवे के दो कर्मचारियों से स्पेशल सेल के दफ्तर में ज्वाइंट इंट्रोगेशन हो रही थी, जिसमें स्पेशल सेल के साथ -साथ आईबी की टीम और आर्मी की एमआई के अधिकारी शामिल थे. इन दोनों रेलवे कर्मचारियों पर ये आरोप है की पाकिस्तानी उच्चायोग में अधिकारी के तौर पर काम कर रहे  ISI एजेंट आबिद और ताहिर के संपर्क में थे. कई बार इन लोगों की आपस में मुलाकात भी हुई थी.



पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के जासूस हैं



दोनों जासूसों ने इंडिया गेट के पास ही स्थित बड़ौदा हाउस में कार्यरत दो कर्मचारियों को अपने जाल में फंसाया और काफी महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त करने की कोशिश में जुटे हुए थे. इसलिए दोनों लगातार रेलवे सहित आर्मी के जवानों से जुड़कर जानकारियों को खंगालने में जुटे हुए थे जिससे उसी जानकारियों के आधार पर भारत के अंदर एक बडी साजिश को आतंकियों द्वारा अंजाम दिया जा सके.

माना तो ये भी जा रहा है की ये पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के जासूस हैं. जिन्हें दिल्ली में स्थित पाकिस्तान के उच्चायोग में जानबूझकर तैनात करवाया गया था लेकिन आर्मी की MI और स्पेशल सेल के चंगुल में फंस गए. इसके बाद जब पाकिस्तानी उच्चायोग को इस मसले पर जब भारतीय विदेश मंत्रालय ने सबूतों के साथ पेश किया तो उसके बाद उसे तत्काल प्रभाव से वापस पाकिस्तान भेजा गया. हिरासत में लिए जाने के बाद हुई पूछताछ के दौरान उसने कई बातों को स्वीकार किया. दोनों ने इस बात को भी स्वीकार किया की रेलवे के कर्मचारियों के संपर्क में भी आए थे. उसके बाद स्पेशल सेल की टीम लगातार उन दोनों रेलवे कर्मचारियों से पूछताछ कर रही है.

क्या -क्या बातें पूछताछ में आई हैं सामने
स्पेशल सेल के सूत्रों के मुताबिक दोनों कर्मचारियों ने इस बात को स्वीकार किया की वो दोनों जासूस अलग-अलग नामों से मिले थे , एक जासूस ने तो ये भी कहा था की उसका भाई किताब लिखना चाह रहा है इसलिए वो काफी महत्वपूर्ण जानकारियों को जुटाने में लगा हुआ है . उन दोनों जासूसों ने रेलवे कर्मचारियों से यह सवाल किये-

1. आर्मी के जवान कहीं भी देश में आना -जाना किस माध्यम से करते हैं ? अगर रेलवे से आते जाते हैं तो कौन सी बोगी समान्य तौर पर होती है?

2. रेलवे देश में किस तरह से सप्लाई चेन के काम को अंजाम देती है?

3. अगर मेरे किसी जानकार को रेलवे में सरकारी नौकरी चाहिए तो कैसे हो सकता है? उसके लिए कैसे और किसको पैसा देना पड़ेगा?

4. आर्मी के जवानों के लिए ट्रेन का मूवमेंट कैसे बनता है और कौन तय करता है?

उन दोनों कर्मचारियों ने क्या बताया
स्पेशल सेल की पूछताछ के दौरान रेलवे के उऩ दोनों कर्मचारियों ने यही बताया की उन दोनों के सवालों में ज्यादा सवाल आर्मी और उसके मूवमेंट से जुड़े हुए थे. इसी आधार पर हमें थोड़ा शक हुआ. उसके बाद हमलोग भी बहाना बनाकर आगे निकल गए.

उसके बाद कई बार दूसरे अन्य बहाने से हमें कॉल भी किया गया लेकिन हम लोगों ने उनके कॉल का जवाब नहीं दिया क्योंकि हमें कुछ शक सा होने लगा था. इस ज्वाइंट इंट्रोगेशन में कई बातें निकल कर सामने आई हैं. स्पेशल सेल के सूत्रों के मुताबिक अगर जरूरत हुई तो शुक्रवार और शनिवार को भी फिर से बुलाकर इन दोनों रेलवे के कर्मचारियों से पूछताछ की जाएगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading