कर्नाटकः कोरोना संकट के बीच CM येडियुरप्पा को बदलने को लेकर अटकलें फिर हुईं तेज

कुछ मंत्रियों और विधायकों ने पहली बार इस तरह के कदमों को खुले तौर पर स्वीकार किया, ताकि कर्नाटक भाजपा के मजबूत नेता को हटाने को लेकर दबाव बनाया जा सके.

  • Share this:
    बेंगलुरु. कोविड-19 की दूसरी लहर से जूझ रहे कर्नाटक (Karnataka Coronavirus Second wave) में बुधवार को ऐसी अटकले तेज हो गई कि मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा (Bs yediyurappa) को बदलने के लिए सत्तारूढ़ भाजपा के भीतर कुछ कदम उठाये जा रहे है. कुछ मंत्रियों और विधायकों ने पहली बार इस तरह के कदमों को खुले तौर पर स्वीकार किया, ताकि कर्नाटक भाजपा के मजबूत नेता को हटाने को लेकर दबाव बनाया जा सके.

    हालांकि मुख्यमंत्री के करीबी मानें जाने वाले कई विधायकों ने इस तरह के बदलाव की आवश्यकता पर सवाल उठाते हुए कहा कि 78 वर्षीय दिग्गज नेता अपना कार्यकाल पूरा करेंगे और दो साल बाद अगले चुनावों के दौरान पार्टी का नेतृत्व भी करेंगे. राजस्व मंत्री आर अशोक ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘मुझे दिल्ली में कई (विधायकों) के डेरा डालने की जानकारी मिली है, मुझे आज भी कई जगहों पर होने वाली बैठकों के बारे में पता चला है. मैंने मीडिया में देखा है कि कई मंत्री भी इसका हिस्सा हैं ... यह सच है कि इस तरह की चर्चा हो रही है.’’

    विधायकों का दिल्ली जाना 100 प्रतिशत सच
    उन्होंने कहा, ‘‘मुझे कुछ (विधायकों) के दिल्ली जाने के बारे में पता चला है, यह सौ प्रतिशत सच है कि ऐसा घटनाक्रम हो रहा है ... जबकि कुछ लोग प्रत्यक्ष रूप से शामिल हैं तो कुछ परोक्ष रूप से शामिल हैं. मैं मीडिया में उनके बयान देख रहा हूं. लेकिन मेरी प्राथमिकता कोरोना से पीड़ित लोगों के साथ खड़ा होना है.’’



    उपमुख्यमंत्री ने किया खबरों का खंडन
    हालांकि, उपमुख्यमंत्री सीएन अश्वथ नारायण , गृह मंत्री बसवराज एस बोम्मई, आवास मंत्री वी सोमन्ना, उद्योग मंत्री जगदीश शेट्टार ने कहा कि वे इस तरह के किसी भी घटनाक्रम से अनजान हैं और उन्होंने नेतृत्व परिवर्तन से इनकार किया. अश्वथ नारायण ने नेतृत्व परिवर्तन की बात को ‘सच्चाई से परे’ बताते हुए कहा कि येडियुरप्पा उनके मुख्यमंत्री और नेता हैं. बोम्मई ने मुख्यमंत्री को बदलने और जून में विधायक दल की बैठक बुलाए जाने की खबरों को ‘गैर-आधिकारिक’’ और ‘‘अटकलें’’ करार दिया.

    ये भी पढ़ेंः- अब बाजार में भी मिलेगी DRDO की कोविड-19 रोधी दवा 2-डीजी, कल जारी होगी दूसरी खेप

    सोमन्ना ने कहा कि मुख्यमंत्री की सीट खाली नहीं है और येडियुरप्पा अपने पद पर मजबूत के साथ बने हुए है. शेट्टार ने कहा कि राज्य या केंद्रीय नेतृत्व के स्तर पर नेतृत्व के बारे में ऐसी कोई चर्चा नहीं हुई है. खबरों के मुताबिक, पर्यटन मंत्री सीपी योगेश्वर और भाजपा हुबली-धारवाड़ (पश्चिम) के विधायक अरविंद बेलाड दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं.

    विपक्ष ने येडियुरप्पा को बताया विफल
    इस बीच विपक्ष के नेता और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने बुधवार को फिर दोहराया कि येडियुरप्पा को बदला जायेगा. उन्होंने यह भी दावा किया कि अगला मुख्यमंत्री जो भी बनेगा वह भी कमजोर होगा. उन्होंने कहा, ‘‘येडियुरप्पा विफल हो गए हैं, वह कर्नाटक में हमारे अब तक के सबसे खराब मुख्यमंत्री हैं. वह सबसे अक्षम, कमजोर और भ्रष्ट मुख्यमंत्री हैं. पिछले कुछ समय से उन्हें बदलने की कोशिशें चल रही हैं, ऐसा लग रहा है कि ये अब अंतिम चरण में आ गई है... उनकी जगह लेने वालों की संख्या बढ़ गई है.’’