अहमदाबाद के बाद अब केवडिया और सूरत के बीच शुरू होगी Seaplane सर्विस

सड़क मार्ग से केवडिया से अहमदाबाद पहुंचने में लगभग चार घंटे लगते हैं.
सड़क मार्ग से केवडिया से अहमदाबाद पहुंचने में लगभग चार घंटे लगते हैं.

Seaplane Service: स्पाइसजेट के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक अजय सिंह ने कहा, हमें इस तरह की सेवा शुरू करने के लिए नदियों और झीलों जैसे जल निकायों की जरूरत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2020, 11:37 PM IST
  • Share this:
केवडिया/अहमदाबाद. अहमदाबाद-स्टैच्यू ऑफ यूनिटी (Ahmedabad-Statue of Unity) सीप्लेन सेवा (Seaplane Service) को लेकर लोगों की जोरदार प्रतिक्रिया के चलते स्पाइसजेट ने शनिवार को कहा कि उसने दक्षिण गुजरात में सूरत को केवडिया से जोड़ने के लिए ऐसी ही सेवा शुरू करने की योजना बनाई है.

केवडिया में सरदार वल्लभभाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा स्थित है, जो स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के नाम से विख्यात है. स्पाइसजेट के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक अजय सिंह ने कहा कि सीप्लेन सेवा के लिए जो अन्य मार्ग और गंतव्य विचाराधीन हैं, उनमें पोर्ट ब्लेयर से हैवलॉक, दिल्ली से हरिद्वार, दिल्ली से ऋषिकेश और नैनी झील, उदयपुर, डल झील, लेह शामिल हैं.

केवडिया और सूरत के बीच सीप्लेन सर्विस
सिंह ने केवडिया में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमें इस तरह की सेवा शुरू करने के लिए नदियों और झीलों जैसे जल निकायों की जरूरत है. हम अब सूरत और केवडिया के बीच सीप्लेन सेवा शुरू करने की योजना बना रहे हैं.’’प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां अहमदाबाद के लिए सीप्लेन सेवा का शुभारंभ किया.
प्रधानमंत्री सरदार सरोवर बांध के पास एक तालाब से 18 सीटों वाले विमान में सवार हुए और लगभग 40 मिनट की दूरी तय करके शनिवार दोपहर अहमदाबाद के साबरमती रिवरफ्रंट पर उतरे. सड़क मार्ग से केवडिया से अहमदाबाद पहुंचने में लगभग चार घंटे लगते हैं.



स्पाइस शटल ने शुरू की है ये सर्विस
यह सेवा स्पाइसजेट की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी स्पाइस शटल ने शुरू की है. सिंह ने अहमदाबाद में संवाददाताओं से कहा कि अब अहमदाबाद-केवडिया मार्ग पर एक नवंबर से प्रतिदिन दो उड़ानें संचालित की जाएंगी. उड़ान योजना के तहत एक तरफ का किराया 1,500 रुपये से शुरू होकर 5,000 रुपये तक होगा.



सिंह ने कहा, ‘‘हमें दो दिनों में लगभग 3,000 बुकिंग के अनुरोध मिले हैं. इनमें से ज्यादातर अहमदाबाद क्षेत्र के हैं. हम उन्हें कल से टिकट देना शुरू कर देंगे, जब वाणिज्यिक उड़ान शुरू होगी.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज