लाइव टीवी

महबूबा मुफ्ती से मिलने नहीं पहुंचा PDP का प्रतिनिधिमंडल, बाहर आई पार्टी की फूट

News18Hindi
Updated: October 7, 2019, 11:37 PM IST
महबूबा मुफ्ती से मिलने नहीं पहुंचा PDP का प्रतिनिधिमंडल, बाहर आई पार्टी की फूट
पीडीपी नेता ने कहा कि 'उन्हें पार्टी अध्यक्ष के पास जाने से रोक दिया गया.'

पीडीपी (PDP) नेता चौधरी ने कहा कि पीडीपी नेशनल कॉन्फ्रेंस की 'बी टीम' नहीं है. सवाल किया कि अनुच्छेद 370 (Article 370) के निरस्त होने की मौजूदा स्थिति पर चर्चा के लिए कोई बैठक क्यों नहीं बुलाई गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2019, 11:37 PM IST
  • Share this:


श्रीनगर. पीडीपी (PDP) का प्रतिनिधिमंडल जम्मू और कश्मीर (Jammu Kashmir) की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) से मुलाकात के लिए नहीं गया. मुफ्ती से मुलाकात के लिए पीडीपी का एक प्रतिनिधिमंडल सोमवार को आने वाला था. इसके लिए रविवार शाम को राज्‍यपाल से अनुमति भी मिल गई थी. फिर भी प्रतिनिधिमंडल नहीं पहुंचा. ऐसा कहा जा रहा है कि पीडीपी में नेताओं के बीच फूट पड़ गई है.

दरअसल, पीडीपी नेता और पूर्व एमएलए ने आरोप लगाया कि मुफ्ती से मिलने जाने वाले प्रतिनिधिमंडल का चयन पार्टी के भीतर मौजूद कुछ भू-माफिया और जमीन पर कब्ज करने वाले' लोगों ने किया.

पीडीपी ने रद्द की बैठक

फैसला लिया गया था कि पार्टी नेताओं की एक टीम महासचिव वेद महाजन के नेतृत्व में प्रशासन से अनुमति के बाद सोमवार को श्रीनगर में महबूबा से मुलाकात करेगी. पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) ने रविवार को कहा कि निर्धारित बैठक को स्थगित करने का फैसला किया है लेकिन कोई कारण नहीं दिया.

हालांकि, पार्टी के सूत्रों ने कहा कि प्रतिनिधिमंडल की टीम एकमत नहीं होने के कारण यह मीटिंग टाल दी गई. चौधरी ने कहा, 'वे पार्टी के शुभचिंतक नहीं हैं और वास्तव में जम्मू में इसका आधार नष्ट कर दिया है.'

महबूबा चार अगस्त की रात से ही हिरासत में हैं. इसके एक दिन बाद ही केंद्र ने जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देकर राज्य का दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजन करने की घोषणा की थी.
Loading...

चौधरी ने कहा, 'मुझे नहीं पता कि (पीडीपी) बैठक कहां हुई और किसने यह फैसला लिया (महबूबा से मिलने के लिए एक प्रतिनिधिमंडल भेजा). मैंने महबूबा से मिलने के लिए अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद दो बार कश्मीर का दौरा किया लेकिन स्थानीय अधिकारियों द्वारा अनुमति नहीं दी गई.'

पीडीपी नेता ने कहा- 'जम्मू क्षेत्र की अपनी शिकायतें हैं'
पीडीपी नेता ने कहा कि , 'कश्मीर बंद है, लद्दाख में लोग संतुष्ट नहीं हैं और पिछले 70 वर्षों में भेदभाव का सामना करने के बाद जम्मू क्षेत्र की अपनी शिकायतें हैं." चौधरी ने बैठक के समय पर भी सवाल उठाया. कहा कि उन्होंने श्रीनगर में प्रतिनिधिमंडल की यात्रा की योजना के लिए इन त्योहारों को कैसे अनदेखा किया?

उन्होंने कहा, "जिन्होंने यह निर्णय लिया है वे वास्तव में भूमि कब्जाने वाले और भू-माफिया हैं जिन्होंने जम्मू में पार्टी को नष्ट कर दिया है और इस बात की भी गारंटी नहीं दे सकते कि उनकी पत्नी पार्टी को वोट देंगी या नहीं.'


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 7, 2019, 9:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...