स्पूतनिक V, कोविशील्ड और कोवैक्सीन से कैसे अलग यहां जानें सब कुछ

रूस की कोरोना वैक्सीन 'स्पुतनिक V' को भारत में आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मिली मंजूरी

रूस की कोरोना वैक्सीन 'स्पुतनिक V' को भारत में आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मिली मंजूरी

Sputnik V Emergency Approval in India: रूस की एजेंसी आरडीआईएफ के अनुसार, स्‍पूतनिक 91.6 फीसदी कारगर है और इसे 2 से 8℃ के तापमान पर स्टोर किया जा सकता है. इसकी एक डोज की कीमत 750 रुपये से कम हो सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 12:38 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. रूस की कोविड-19 वैक्सीन स्पूतनिक V (Sputnik V) को देश की एक्सपर्ट कमेटी से सोमवार को आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिल गई है. इसके साथ ही कोरोना के खिलाफ जंग को मजबूत करने के लिए देश को तीसरी वैक्‍सीन मिल गई है.

रूस की एजेंसी आरडीआईएफ के अनुसार, स्‍पूतनिक 91.6 फीसदी कारगर है और इसे 2 से 8℃ के तापमान पर स्टोर किया जा सकता है. इसकी एक डोज की कीमत 750 रुपये से कम हो सकती है. स्‍पूतनिक को अभी तक 59 देशों में इस्‍तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है. भारत में पहले से ही कोविशील्ड और कोवैक्सीन का इस्‍तेमाल हो रहा है. आइए जानते हैं इन दोनों वैक्‍सीन से कितनी अलग है स्पूतनिक-वी.

तीनों वैक्‍सीन का डोज पैटर्न

- कोविशील्ड को स्‍टोर करने के लिए शून्‍य से कम तापमान की जरूरत होती है. इसकी दो डोज 4-8 हफ्तों के अंतराल पर दी जाती है.
- कोवैक्सीन को 2-8 डिग्री तापमान पर स्‍टोर कर सकते हैं. इसकी दो डोज 4-6 हफ्तों के अंतराल पर दी जाती है.

- स्पूतनिक-वी को 2 से 8℃ के तापमान पर स्‍टोर किया जा सकता है और इस वैक्‍सीन की भी दो डोज ही दी जाएगी.

तीनों वैक्‍सीन कितनी असरदार?



- सीरम इंस्‍टीट्यूट की कोविशील्ड वैक्‍सीन की एफीकेसी 62% दर्ज की गई थी. हालांकि डेढ़ डोज देने पर यह 90 फीसदी तक कारगर साबित हुई थी.

- भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का इस्‍तेमाल 4 फेज के ट्रायल में ही शुरू हो गया था. उस समय इसने 81% की एफेकसी हासिल की थी.

- फेज 3 के ट्रायल के अंतिम परिणाम में स्पूतनिक V की एफेकसी 91.6% थी.

Youtube Video


तीनों वैक्‍सीन की कीमत

- कोविशील्ड और कोवैक्सीन दोनों ही वैक्‍सीन भारत सरकार की ओर से मुफ्त में लगाई जा रही है. प्राइवेट अस्‍पतालों में इनकी कीमत 250 रुपये प्रति डोज तय की गई है.

- स्पूतनिक V की कीमत 10 डालर के आस-पास बताई जा रही है. यानी भारतीय करेंसी में इसकी कीमत 750 रुपये से कुछ कम होगी. हालांकि भारत में अभी तक इसकी कीमत स्‍पष्‍ट नहीं है. ऐसा जरूर कहा जा रहा है कि इस वैक्‍सीन का प्रोडक्‍शन अगर भारत में एक बार शुरू हो जाएगा तो इसकी कीमत कम हो जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज