स्पूतनिक-V वैक्सीन कोरोना वायरस से लोगों की रक्षा करने में 92% प्रभावी हैः रूस

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ रूस के दो टीके ‘‘प्रभावी’’ और ‘‘सुरक्षित’’ हैं. (सांकेतिक तस्वीर)
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ रूस के दो टीके ‘‘प्रभावी’’ और ‘‘सुरक्षित’’ हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

Corona Sputnik V vaccine : रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ रूस की दो वैक्सीन प्रभावी और सुरक्षित हैं. पुतिन ने कहा कि रूस जल्द ही कोरोना वायरस की तीसरी वैक्सीन को तैयार करने वाला है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 3:43 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की वैक्सीन (Coronavirus vaccine) तैयार करने के लिए वैज्ञानिक लगातार प्रयास कर रहे हैं. इसी बीच स्पूतनिक-V (Sputnik V) वैक्सीन को लेकर रूस ने दावा किया है कि ये 92 प्रतिशत लोगों पर प्रभावी है. मंगलवार को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ रूस की दो वैक्सीन प्रभावी और सुरक्षित हैं. पुतिन ने कहा कि रूस जल्द ही कोरोना वायरस की तीसरी वैक्सीन को तैयार करने वाला है. उन्होंने यह भी कहा कि टीका संबंधी मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए.

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए पुतिन ने कहा, 'हमारे पास रूस में दो पंजीकृत टीके हैं और परीक्षण पहले ही पुष्टि कर चुके हैं कि टीके सुरक्षित हैं तथा इनका कोई दुष्प्रभाव नहीं है और ये प्रभावी हैं. तीसरा टीका भी आने वाला है.'


कोविड-19 की वैक्सीन को मंजूरी देने वाला दुनिया का पहला देश
रूस 11 अगस्त को कोविड-19 की वैक्सीन को मंजूरी देने वाला दुनिया का पहला देश बन गया था. यह वैक्सीन अगले साल एक जनवरी से आम लोगों के लिए उपलब्ध होगी. रूस के गैमेलिया रिसर्च इंस्टीट्यूट और रक्षा मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से विकसित 'स्पूतनिक-5' के नाम से जानी जाने वाली कोरोना वैक्सीन सबसे पहले कोरोना संक्रमितों के इलाज में जुटे स्वास्थ्य कर्मियों को दी गई. इस वैक्सीन का उत्पादन संयुक्त रूप से रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) द्वारा किया जा रहा है.



भारत में भी हो रह है स्पूतनिक-V का ट्रायल
बता दें कि भारत ने रूस की कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) Sputnik-V का बड़े पैमाने पर स्टडी और ट्रायल किजा रहा है. सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) ने डॉ रेड्डी लेबोरेटरीज लिमिटेड ने देश में रूसी वैक्सीन का असर जानने के लिए बड़े पैमाने पर ट्रायल के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज