Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    18 से 23 मार्च के बीच विदेश से आए 15 लाख भारतीयों की जांच जरूरी- कैबिनेट सचिव

    राजीव गौबा (Rajiv Gauba)  की फाइल फोटो
    राजीव गौबा (Rajiv Gauba) की फाइल फोटो

    कैबिनेट सचिव राजीव गौबा (Rajiv Gauba) ने कहा कि विदेश से लौटे 15 लाख यात्रियों की निगरानी कर रहे हैं राज्य, लेकिन वास्तविक निगरानी में कमी प्रतीत हो रही है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: March 27, 2020, 6:23 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. कैबिनेट सचिव राजीव गौबा Rajiv Gauba) ने राज्य सरकारों से कहा है कि वो अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की निगरानी करें, जो सरकार द्वारा वाणिज्यिक उड़ानों पर प्रतिबंध लगाने से पहले देश में आ गए हैं. देश के सबसे वरिष्ठ नौकरशाह गौबा ने कहा कि जिनकी निगरानी की जानी चाहिए थी उनकी वास्तविक और कुल संख्या में अंतर है. कैबिनेट सचिव ने राज्यों से कहा कि 18 जनवरी से 23 मार्च के बीच विदेश से 15 लाख यात्री भारत आए, उन सभी की निगरानी करने की जरूरत है.

    कैबिनेट सचिव ने कहा कि विदेश से लौटे 15 लाख यात्रियों की निगरानी कर रहे हैं राज्य, लेकिन वास्तविक निगरानी में कमी प्रतीत हो रही है. कैबिनेट सचिव ने राज्यों से कहा - 'विदेश से लौटे सभी यात्रियों की निगरानी में कमी कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने की सरकार की कोशिशों को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकती.'

    कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने राज्य सरकारों को बताया कि है कि पिछले दो महीने में 15 लाख से ज्यादा लोग विदेश से भारत आए हैं और लौटने वाले यात्रियों तथा कोरोना वायरस संक्रमण के संदेश में वास्तविक रूप से निगरानी में रखे गए लोगों की संख्या में अंतर प्रतीत हो रहा है.



    सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को लिखे पत्र में गौबा ने कहा है कि विदेश से लौटे सभी यात्रियों की निगरानी में अंतर या कमी कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने की सरकार की कोशिशों को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकती है, क्योंकि अन्य देशों से लौटने वाले लोगों में से कई कोरोना वायरस से संक्रमित मिले हैं.
    ये भी पढ़ें :-

    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज