Assembly Banner 2021

इस्पात कारखाने देश के अस्पतालों को कर रहे ऑक्सीजन की आपूर्ति: इस्पात मंत्रालय

प्रधान ने कहा कि इस्पात कंपनियों ने पिछले चार दिनों में 4,329 टन चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति विभिन्न अस्पतालों को की हैं (सांकेतिक फोटो)

प्रधान ने कहा कि इस्पात कंपनियों ने पिछले चार दिनों में 4,329 टन चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति विभिन्न अस्पतालों को की हैं (सांकेतिक फोटो)

मंत्रालय के बयान के अनुसार जिन राज्यों को इस्पात कारखानों (Steel Factories) से ऑक्सीजन (Oxygen) मिली हैं, वे मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश, झारखंड, बिहार (Bihar), उत्तर प्रदेश, ओड़िशा, हरियाणा, गुजरात, कर्नाटक, तेलंगाना, तमिलनाडु और महाराष्ट्र (Maharashtra) हैं.

  • भाषा
  • Last Updated: September 16, 2020, 8:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. इस्पात मंत्रालय (Ministry of Steel) ने बुधवार को कहा कि इस्पात कंपनियां (Steel Companies) कोविड-19 (COVID-19) के खिलाफ अभियान में सहयोग करते हुए अपने-अपने संयंत्रों (plants) से देश के विभिन्न अस्पतालों को चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति (Oxygen Supply) कर रही हैं. मंत्रालय ने हाल ही में एक पोर्टल शुरू किया है जिसमें कारखानों (Factories) के हिसाब से ऑक्सीजन की उपलब्धता (Oxygen availability) और संयंत्रों से विभिन्न राज्यों को होने वाली दैनिक आपूर्ति के बारे में सूचना दी गयी है.

मंत्रालय के बयान के अनुसार जिन राज्यों को इस्पात कारखानों (Steel Factories) से ऑक्सीजन (Oxygen) मिली हैं, वे मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश, झारखंड, बिहार (Bihar), उत्तर प्रदेश, ओड़िशा, हरियाणा, गुजरात, कर्नाटक, तेलंगाना, तमिलनाडु और महाराष्ट्र (Maharashtra) हैं. हालांकि, बयान में उन संयंत्रों (Plants) और कंपनियों के नाम नहीं बताये गये हैं जो ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रही हैं.

इस्पात कंपनियों ने पिछले 4 दिनों में 4,329 टन चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति की
इससे पहले, इस्पात मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने मंगलवार को ट्वीट कर वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल के साथ देश में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने के उपायों और इस मामले में इस्पात कंपनियों की भूमिका पर पर चर्चा के लिये बैठक के बार में जानकारी दी थी.
प्रधान ने कहा था कि इस्पात कंपनियों ने पिछले चार दिनों में 4,329 टन चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति विभिन्न अस्पतालों को की हैं.



राष्ट्रीय स्तर पर चिकित्सा ऑक्सीजन की “कोई कमी” नहीं: स्वास्थ्य सचिव
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस के इलाज में अहम चिकित्सा श्रेणी के ऑक्सीजन की राष्ट्रीय स्तर पर “कोई कमी” नहीं है और राज्यों से अनुरोध किया कि वे अस्पताल स्तर पर उचित सूची प्रबंधन सुनिश्चित करें और ऑक्सीजन की उपलब्धता के लिये पहले से योजना बनाएं जिससे स्टॉक की अनुपलब्धता न हो. यह पूछे जाने पर कि क्या विभिन्न राज्यों में ऑक्सीजन की काफी कमी है और इसकी वजह से मौत हुई हैं, स्वास्थ्य मंत्रालय में सचिव राजेश भूषण ने कहा कि देश में ऑक्सीजन उत्पादन की दैनिक क्षमता आज की तारीख में 6900 मीट्रिक टन से थोड़ी ज्यादा है.

यह भी पढ़ें: भारत और चीन के बीच महज 20 दिनों के भीतर LAC पर 3 बार हुई दोनों ओर से फायरिंग

सुबह के आंकड़ों का संदर्भ देते हुए भूषण ने एक प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि कोविड-19 के कुल मरीजों में से 3.69 मरीजों को ऑक्सीजन दिया जा रहा था, 2.17 प्रतिशत आईसीयू में थे जहां उन्हें ऑक्सीजन उपलब्ध था और 0.36 प्रतिशत मरीज वेंटिलेटर पर थे जहां उन्हें ऑक्सीजन दिया जा रहा था. उन्होंने कहा कि यह मोटे तौर पर कुछ छह प्रतिशत मरीज हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज