Assembly Banner 2021

अयोध्या राम मंदिर में लगाया जाएगा सीता एलिया का पत्थर, इस वजह से है खास

सीता एलिया वह स्थान है जहां पर माता सीता को बंदी बनाकर रखा गया था.

सीता एलिया वह स्थान है जहां पर माता सीता को बंदी बनाकर रखा गया था.

Ayodhya Ram Temple: श्रीलंका स्थित सीता एलिया (Sita Eliya) से एक पत्थर का उपयोग अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 8:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर निर्माण (Ayodhya Ram Mandir) की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. श्री राम जन्मभूमि परिसर में राम मंदिर की बुनियाद की खुदाई का काम खत्म हो गया है. पूजा-पाठ के बाद नींव भराई का काम भी शुरू हो गया है. अयोध्या में बन रहे राम मंदिर में माता सीता को भी खास स्थान दिया जाएगा. मंदिर निर्माण में सीता एलिया का पत्थर भी इस्तेमाल होगा.

न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक, श्रीलंका स्थित सीता एलिया (Sita Eliya) से एक पत्थर का उपयोग अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में किया जाएगा. मान्यताओं के अनुसार सीता एलिया वह स्थान है जहां देवी सीता को बंदी के रूप में रखा गया था. पत्थर को श्रीलंका के हाईकोर्ट-नामित मिलिंडा मोरागोड़ा द्वारा भारत ले जाने की उम्मीद है.





जानिए क्या है सीता एलिया
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, सीता एलिया श्री लंका में स्थित वह स्थान है जहां रावण ने माता सीता को बंदी बना कर रखा था. माता सीता को सीता एलिया में एक वाटिका में रखा गया था जिसे अशोक वाटिका कहते हैं. वर्तमान में इस स्थान पर एक मंदिर है, जिसे सीता अम्मन कोविले नाम से जाना जाता है. यह स्थान न्यूराएलिया से उदा घाटी तक जाने वाली एक मुख्य सड़क पर 5 मील की दूरी पर स्थित है.

ये भी पढ़ेंः- BJP में शामिल होते ही ममता पर बरसे अरुण गोविल, बोले- 'जय श्रीराम' के नाम से उन्हें...

आज भी मौजूद हैं भगवान हनुमान के पैरों के निशान
ऐसा कहा जाता है कि सीता एलिया में आज भी भगवान हनुमानजी के पैरों के निशान मौजूद हैं. इसके साथ ही इस स्थान पर माता सीता, भगवान श्री राम और लक्ष्मण की मूर्ति को रखा गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज